July 18, 2016

जीवन शैली/ ग़ज़ल/ कविता

                ऐसी होती है माँ 
                                 - अनिता ललित
माँ- नारी का सबसे ख़ूबसूरत व वंदनीय रूप! माँ शब्द में ही ऊँचाई और गहराई दोनों का आभास एक साथ होता है। उसका हर बोल मंत्रोच्चारण होता है और उसकी हर बात में जीवन-सार छिपा होता है! उसकी बोली से शहद टपकता है व आँखों से ममता का सागर छलकता रहता है। माँ केवल देना जानती है। वह किसी काम के लिए नानहीं कहतीवह कभी थकती नहीं। सवेरे सबसे पहले उठती है और रात में सबके बाद सोती है। उसके चेहरे पर कभी थकान नहीं दिखती। सबको अपनी चीज़ सही ठिकाने पर मिलती मगर माँ कभी एक जगह पर बैठी नहीं दिखती। कोमलतम भावनाओं से लिपटी माँ के सामने कड़ी से कड़ी, बड़ी से बड़ी, कठिन से कठिन समस्या भी अपना अस्तित्व खो देती है-माँ के पास हर मुश्किल की चाभी होती है। कपड़ों की सीवन में वह चुपचाप अपने ज़ख्मों को भी सी देती है, अपने आँसुओं के लेप से दिलों में पड़ी दरारों को भर देती है।
 बच्चे के कोख़ में आने के साथ ही माँ उसकी सुरक्षा में जुट जाती है। बच्चों की देखभाल करना माँ का काम नहीं वरन् उसका स्वभाव होता है। बच्चों को क्या चाहिए यह बच्चों से पहले उसको पता चल जाता है। बच्चे अगर कष्ट में हों या बीमार हों, तो माँ को चैन नहीं आता, रातों को जाग-जागकर वह उनकी देखभाल करती है। भयंकर तूफ़ान हो या कड़ी धूप, माँ का आँचल बच्चों को अपने साये में सुरक्षित रखता है, उन्हें सुक़ून देता है। सबके ताने सुनती है, मगर बच्चों के लालन-पालन में कोई कोताही नहीं बरतती, कोई समझौता नहीं करती।
सालों-साल गुजऱ जाते हैं, माँ सोती नहीं! बच्चों को पालने-पोसने में वह ख़ुद को भूल जाती है। फिर अचानक एक दिन उसे महसूस होता है कि उसकी चाल धीमी हो गयी है, घुटने दुखने लगे हैं, वह अक्सर चीज़ें रखकर भूलने लगी है, जल्दी थकने भी लगी है, और उसे महसूस होता है कि नींद उसकी आँखों का पता ही भूल चुकी है। बुनाई-कढ़ाई करते समय अब वह सुई में धागे से और गिरे हुए फंदे से काफी देर तक जूझती रहती है। वह आवाा से कम और हाव-भाव से बातें समझने की कोशिश करने लगी है और उसकी प्रतिक्रिया भी धीमी पड़ने लगी है। तब वह देखती है कि उसके चेहरे पर उभरी लकीरों के नीचे दबे हुए पिछले कई वर्ष अपनी कहानी कहने लगे हैं, और पाती है, कि उसके बच्चों का कद अब उसके आँचल से बड़ा होने लगा है। उसके बच्चे अब उसके पास ज़्यादा देर तक नहीं रुकना चाहते, ज़िन्दगी की रेस में दौड़ते हुए उनके क़दमों के पास इतना वक़्त नहीं है कि वे उसके पास कुछ देर को ठहर सकें, उसकी बातों को सुन सकें, समझ सकें, उसकी छोटी-छोटी, सिमटी हुई ख्वाहिशों को पूरा कर सकें। अपने कोमल कन्धों और एक पैर से फिरकी की तरह नाचते हुए, पूरे परिवार की इच्छाओं को पूरा करने वाली माँ अब आत्मग्लानि से भर उठती है ! बच्चों के आँसू पोछने वाली, उनका मनोबल बढ़ाने वाली माँ अब बात-बात पर बच्चों के सामने अपनी बेबसी पर रो पड़ती है। फिर भी वह ढलती उम्र से उपजी अपनी अस्वथता को अपनी कमी समझकर उसी को कोसती है अपने बच्चों की स्वार्थपरता को नहीं! माँ ऐसी ही होती है !

          माँ तो हल्दी चंदन
             
बातें उसकी फूलों जैसीदिल ममता का आँगन है।
हर दर्द की दवा वो मीठीमाँ तो हल्दी-चंदन है।
स्वर्ग ज़मीं पर उतराऐसा माँ का रूप सलोना है
सजदे में झुक जाए ख़ुदा भीमाँ की बोली वंदन है।
माँ की बातें सीधी-सादीचाहत उसकी भोली है
घर-बच्चों की हर ख़्वाहिश परकरती कुर्बां जीवन है।
अपने आँचल को फैलाकरजीवन को महकाती है
शोलों पर वो चलती रहतीआँखों में भर सावन है।
उसके सपनों की लाली सेखिला सुबह का सूरज है
साँझ ढले क्यों भूली हँसनाक्यों खोया-खोया मन है ?
ढलती उम्र सुनाती क़िस्सेमाँ की पेशानी पर है
पपड़ी से झरते रिश्तेबचती यादों की सीलन है।
कि़स्मत वाला वो दर होगा, जिस घर माँ खुश रहती है
नूर ख़ुदा का उस पर बरसेवो पावन वृन्दावन है।


नारी एक नदी सी 
शांतनिर्मल
कभी चंचल-शोख मचलती,
अपनी दुनिया में मगन
किनारों संग वो बहती जाती!
जो भी उसके अंदर झाँके
झलक उसी की अपना लेती!
इसी तरह सेसब को अपने
दिल में वो बसाए रहती!
कोई कंकर फेंके उसमें,
कोई फेंके अपना मैल,
देवीदेवता सबको ही वो
अपने अंतर में समाती!
सूरज की भीषण गर्मी सहती
उसमें खुद को वो जलाती!
डर कर जब ये सूरज छिपता-
बादल का तांडव भी सहती!
दुनिया वाले जब जी चाहे
उसका रस्ता काटा करते।
तब भी वो खामोश रह कर
उनकी मनमर्ज़ी निभाती!
अपने खूँ से सींचे जाती
जीवन को जीवन’ वो देती,
लेकिन बदले में वो इसके
क़तरा-क़तरा तरसा करती!
दिल के अंदर लहरें उठतीं,
बहलाए वो भी ना बहलतीं !
चाँद गगन में जब मुस्काता
वो भीतर ही भीतर रोती!
आख़िर कब तक गुमसुम हो कर,
अपनी चुप्पी में वो खोती
दे-देकर इम्तेहाँ सब्र का
भरती जातीभरती जाती !
इक पल फिरऐसा भी आता,
अपना रौद्र रूप दिखाती!
बूँद- बूँद जो सहा था उसने,
दर्द का लावा छलका जाती!
नहीं देखती तब वो कुछ भी,
अपना या पराया कौन,
जो भी उसके आड़े आता,
तहस-नहस वो करती जाती!
दिल में उठती लहरों में वो,
अपना शक्ति-रूप धारती ,
तोड़के सारे बाँध वो बहती,
अपनी मंज़िल खुद तय करती!
नियति नदी कीसागर से मिलना,
उसको कोई रोक ना पाए
अपनी सारी कड़वाहट ले
उसमें खुद को जा मिटाती!
सागर का तो दंभ अनोखा,
खुद को समझे भाग्य-विधाता,
बिन नदी जीवन अधूरा,
उसका तो अस्तित्व ही झूठा!
रौद्र-रूप में छिपे दर्द से
सागर भी ना बच पाता,
मिटती नदीपर शाप से अपने
सागर को खारा जाती।

सम्पर्क·: 1/16 विवे· खंड, गोमतीनगर, लखनऊ- 226010, anita.atgrace@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष