May 16, 2014

बाल कथा

पानी का घर
सुकेश साहनी
 




   





‘‘विनय गाँव आकर कैसा लग रहा है?’’ प्रसाद जी ने पूछा।
     विनय ने कोई उत्तर नहीं दिया। वह जमीन में गड़े लेाहे के पाइप की ओर एकटक देखे जा रहा थाजिसके मुँह से पानी की मोटी धार निकल रही थी। वह पहली बार गाँव आया था। इससे पहले उसने कभी जमीन से इस तरह पानी निकलते नहीं देखा था।
     ‘‘विनय!’’ प्रसाद जी ने फिर पुकारा।
     ‘‘जी?’’ इस बार चौंककर उसने अपने पिता की ओर देखा।
     ‘‘क्या सोच रहे थे?’’ उन्होंने उससे पूछा।
     ‘‘पिताजीमैं सोच रहा था कि अगर हमारे पैरों के नीचे की जमीन एकाएक टूट जाए तो हम सीधे पानी में जा गिरेंगे। क्या मीन के नीचे पानी का तालाब या टैंक होता है?’’
     ‘‘नहीं विनय, ‘‘प्रसाद जी को हँसी आ गई,’’ धरती के नीचे पानी उस तरह नहीं होता हैजैसे तुम कल्पना कर रहे हो। जमीन के नीचे पानी मिट्टी की विभिन्न परतों में पाया जाता है।’’
     ‘‘मिट्टी की परते?’’ विनय ने देाहराया।
     ‘‘हाँ,’’ प्रसाद जी ने समझाया, ‘‘यदि जमीन की खुदाई की जाए तो हम पाएँगे कि मिट्टी हर कहीं अपनी बनावट में एक-सी नहीं होती है। अलग-अलग मोटाई की परतें जैसे-चिकनी मिट्टीमिट्टी-कंकड़मिट्टी बालूबारीक बालूमोटी बालू आदि जमीन के नीचे मिलती हैं। जमीन के नीचे पानी इन्हीं बालू वाली परतों में पाया जाता है।’’
     ‘‘पिताजीजमीन के नीचे ये परतें कैसे बन जाती हैं?’’-विनय ने पूछा।
     ‘‘वर्षों पहले जब धरती बन रही थीबड़ी-बड़ी नदियों द्वारा इन परतों का निर्माण हुआ। चट्टानी इलाकों में ये परतें भिन्न प्रकार की होती हैं।’’
     ‘‘कमाल है।’’ विनय बुदबुदाया।
     वे दोनों ट्यूबवैल के नजदीक आ गए थे। डीजल इंजन के चलने से  तेज शोर हो रहा था।
     ‘‘जमीन के नीचे से पानी उठाने या खींचने के लिए पम्प की जरूरत होती है।’’ प्रसाद जी ने विनय को बतलाया, ‘‘यहाँ पम्प को इस डीजल इंजन की सहायता से चलाया जा रहा है। जहाँ बिजली उपलब्ध होती हैवहाँ पम्प सीधे बिजली की सहायता से चलाया जा सकता है।’’
     ‘‘बिना पम्प के जमीन में से पानी नहीं निकाला जा सकता?’’ विनय ने पूछा।
     ‘‘लोगों को बिना पम्प के जमीन से पानी निकालते हुए तुमने अक्सर देखा होगा। इसके लिए कुओंरहट हैंडपम्प आदि का प्रयोग किया जाता है।’’
     विनय गहरी सोच में डूब गया था।
     ‘‘पिताजी’’ -एकाएक उसने उत्सुकता से पूछा, ‘‘महाभारत के टी.वी. सीरियल में अर्जुन धरती में तीर मारकर पानी निकाल देते हैं और पानी जमीन से फव्वारे की तरह निकलने लगता है। बिना पम्प के पानी कैसे निकलने लगता है?’’
     प्रसाद जी ने प्रशंसा भरी दृष्टि से विनय की ओर देखा।
     ‘मुझे खुशी है कि तुमने अपना पूरा ध्यान विषय पर केन्द्रित कर रखा है,’’ प्रसाद जी ने खुश होते हुए कहा, ‘‘टी.वी. में दिखाई जाने वाली बहुत-सी बातें ठीक उस रूप में नहीं होती हैजैसे दिखाई देती है। फिर भी अर्जुन के गांडीव धनुष से धरती छेदने वाली घटना से तुमने मेरा ध्यान पाताल तोड़कूप ( उत्स्रुत कूप ) की ओर आकृष्ट कराया हैजिनसे पानी बिना किसी मदद के अपने आप जमीन पर बहता रहता है। इस तरह के कूप हर जगह नहीं बनाए जा सकते है।’’
     ‘‘इनके निर्माण के लिए जमीन के नीचे मिट्टी की परतों एवं पानी की एक विशेष प्रकार की दशा या स्थिति होना अनिवार्य हैं।’’
     ‘‘अपने आप बहने वाले कूप के लिए जमीन के नीचे मिट्टी की दो सख्त परतों के बीच पानी वाली परत का होना रूरी है-ठीक किसी सैंडविच की तरह। ये मिट्टी की परतें अभेद्य होती हैं। यानी पानी इनके आर-पार नहीं आ जा सकता। इन परतों के बीच पानी अत्यधिक दबाव में रहता है और यदि जमीन से पानी की परत तक छेद किया जाए तो पानी दबाव के कारण धरती की सतह तक चढ़कर बहने लगता हैइसे आर्टीज़न वेल’ या स्वतः बहने वाला कूप भी कहते हैं।’’
     ‘‘पानी फव्वारे के रूप में जमीन से कैसे निकलने लगता है?’’-विनय ने पूछा।
     ‘‘मिट्टी की दो सख्त परतों के बीच दबाव के कारण। इसे समझने के लिए तुम एक गुब्बारा लोउसे बिना फुलाए उसमें सुई से सावधानपूर्वक एक छेद कर दोफिर उसमें पानी भर दो। क्या होगा?’’ प्रसाद जी ने पूछा।
     ‘‘पानी इस छेद से फव्वारे के रूप में निकलने लगेगा।’’
     ‘‘बिल्कुल ठीक!’’-प्रसाद जी ने कहा, ‘‘इस प्रयोग में गुब्बारे की झिल्ली के कारण उसके भीतर का पानी दबाव में रहता है। जमीन में सख्त मोटी मिट्टी की परतों के कारण ऐसा होता है।’’
     ‘‘समझ गया...बिल्कुल समझ गया!’’ विनय ने कहा।
     नई जानकारी के कारण उसकी आँखें खुशी से चमक रही थीं।


सम्पर्क: 193/ 21 सिविल लाइन्स बरेली243001

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष