March 14, 2014

अनकही

ऐसी बानी बोलिए...
  डॉ. रत्ना वर्मा

ऐसी बानी बोलिए, मन का आपा खोय,
औरन को शीतल करै, आपहु शीतल होय।

कबीर जी ने इस दोहे में बहुत ही सरल शब्दों में समुचे मानव जगत के लिए वाणी की महत्ता को रेखांकति कर दिया है। सच है- एक मीठी बोली दुश्मन को भी दोस्त बनाने की ताकत रखती है। कबीर जी का यह दोहा जन जन में इतना अधिक प्रचलित है कि जब कोई व्यक्ति क्रोध में आकर अप-शब्द बोल देता है तो आस-पास के लोग तुरंत इस दोहे का प्रयोग करते हैं जिसका त्वरित प्रभाव भी दिखाई देता है, क्रोध में अप-शब्द बोलने वाला व्यक्ति कबीर की इस अमर वाणी को सुनते ही तुरंत शांत होते देखा गया है, उसे यह दोहा अहसास करा देता है कि उसने गलती की है।
यह तो हुई आमजन की बात जिनके लिए हमारे गुरूजन, ऋषि मुनि, ज्ञानी महापुरूषों- कबीर रहीम, रैदास, सूरदास आदि ने अपने दोहों और वचनों के माध्यम से समाज को संस्कारवान बनाने और सद्मार्ग पर चलने की राह दिखाई है।
लेकिन हमारे सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में इधर कुछ बरसों से हमारे जननेता अपनी वाणी पर से सयंम खो बैठे हैं। आज जिस प्रकार की भाषा शैली का प्रयोग हमारे नेता कर रहे हैं उसमें अहंकार, और दूसरे को नीचा दिखाने की होड़ नजर आती है। एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप और छीछालेदर का ऐसा दौर चलने लगा है कि लगता है कि नेताओं के बीच कोई वाद- विवाद प्रतियोगिता चल रही है जिसमें वे दिखाना चाहते हैं कि देखो हम तुमसे ज्यादा अच्छा अपशब्द बोल सकते हैं। सोचने वाली बात यह है कि ऐसा आचरण करते समय वे भूल जाते हैं कि सार्वजनिक तौर पर इस तरह की भाषा का प्रयोग करने से समाज पर क्या असर पड़ेगा। यह समझ से परे है कि अपने प्रतिव्द्ंव्दी के विरूध्द अपशब्दों का प्रयोग करके वे जनता के सामने कौन सा आदर्श रखना चाहते हैं। मीडिया को भी नेताओं के इस वाक्युद्ध को खबर बनाकर परोसने में मजा आने लगा है। नेताओं की बयानबाजी पर बहस कराके एक तरह से मीडिया उन्हें बढ़ावा ही देती है।
इधर चुनाव के समय इस तरह के असंयमित भाषा के प्रयोग का चलन कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है। अपने विरोधी के प्रति अपशब्द या अभद्र बोली बोल कर राजनीतिक पार्टियाँ शायद यह सोचती हैं कि उन्होंने जनता का दिल जीत लिया है। वे चुनाव के मूल मुद्दे से ध्यान हटा कर जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश में लगे रहते हैं, पर क्या जनता इतनी मूर्ख है कि उनके इस बहकावे या इस वाक्युद्ध के भुलावे में आ जाएगी? वास्तविकता तो यह है कि जनता अब भोली नहीं है उनके  इस तरह के हथकंडों से वह वाकिफ है।
यह तो सभी जानते हैं कि व्यक्ति के आचार- विचार और संस्कार उसकी भाषा शैली के माध्यम से परिलक्षित होते हैं, संस्कारवान व्यक्ति अपनी भाषा शैली के माध्यम से भीड़ में अपनी अलग पहचान छोड़ जाता हैं। राजनैतिक इतिहास में ऐसे कई उदाहरण भरे पड़ें हैं जहाँ राजनेताओं ने अपनी सुगठित भाषा शैली के माध्यम से जनता के बीच अपनी विशिष्ट जगह बनाई है- एक वह भी समय था जब राममनोहर लोहिया, सरोजिनी नायडू, जयप्रकाश नारायण और अटल बिहारी बाजपेयी जैसे राजनेताओं की चुनावी सभा में उन्हें सुनने के लिए भीड़ इकट्ठी करने की जरूरत नहीं होती थी, लोग स्वयमेव ही दूर-दूर से उन्हें सुनने के लिए लम्बी-लम्बी यात्रा करके चले आते थे। राजनेताओं के लिए जनता के मन में आदर और भक्ति का भाव होता था। वे जानते थे कि जिन नेता को वोट देकर उन्होंने उच्चासन पर बिठाया है वे उनके अपने हैं और उनकी भलाई के लिए ही काम करते हैं। उनकी जीत इस बात का सबूत है, वे जानते थे कि सुमधुर भाषा किस प्रकार से लोगों पर अपना असर दिखाती है, क्योंकि वे जो बोलते थे वैसा करके भी दिखाते थे। उनकी कथनी और करनी में अंतर नहीं होता था।
कोयल कासे लेत है, कागा काको देय ।
एक मीठी बोली ते, सबका मन हर लेय ॥
पर इन सबसे परे आज की राजनीति और नेताओं को अपनी कथनी और करनी से कोई मतलब नहीं है। साम दाम दंड भेद से चुनाव जीतना उनका एकमात्र उद्देश्य हो गया है। कटु भाषा बोलना आज के नेताओं की आदत में शुमार हो गया है। मीठी वाणी उनके शब्दकोश से गायब हो गई है। राजनीतिक गलियारे में असयंमित आचरण और अपशब्दों का चलन इतना आम हो चुका है कि चुनावी समर हो या संसद के भीतर किसी मुद्दे पर कोई बहस, वहाँ भी मर्यादा की सारी सीमाएँ लाँघी जाती हैं। जिस तरह के दृश्य इन दिनों संसद के सदन में नजर आते हैं उससे सिर शर्म से झुक जाता है। कुर्सी टेबल फेंकने से लेकर झुमा- झटकी के साथ जिन अप- शब्दों से हमारे सम्माननीय राजनेता एक दूसरे के साथ व्यवहार करते देखे जाते हैं वह अब मीडिया के माध्यम से सर्वविदित है।
इन सबको देखते हुए ऐसा नहीं लगता कि अब वह समय आ गया है कि सभी दल इस विषय पर आत्मचिंतन करें। अपने-अपने गिरेबान में झाँककर देखें कि उन्होंने अपना समाज और जनता के चरित्र का कितना उत्थान किया। इसके साथ ही अब यह सोचने का समय भी आ गया है कि संसद की गरिमा और चुनावी समर को मर्यादित बनाए रखने के लिए एक गंभीर बहस की जरूरत को समझा जाए। यह तय करने की भी जरूरत है कि इस तरह के अमार्यादित आचरण पर कौन अंकुश लगायेगा? जिस तरह भ्रष्टाचार समाप्त करने के लिए अपराधी पृष्ठभूमि वालों को चुनाव में भाग लेने न दिया जाये, इस पर खुल कर चर्चा आरंभ हो गई है और सख्त नियम कानून बनाए जाने की आवश्यकता महसूस की जाने लगी है उसी तरह नेताओं की वाणी और आचरण पर लगाम लगाने के लिये भी बहस और चर्चा की आवश्यकता है।                                    

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष