August 14, 2013

व्यंग्य

हम आज़ाद हैं
- डॉ. गोपाल बाबू शर्मा 
हमें स्वराज मिल गया, पर सुराज नहीं। अंग्रेज चले गए, लेकिन हम अब भी गुलाम हैं। माना कि ऐसा कहने वाले निरे हैं, मगर वे सरफिरे हैं। अरे हम गुलाम नहीं बल्कि सिर से पाँव तक, धूप से छाँव तक और महानगर से लेकर गाँव तक पूरी तरह आज़ाद हैं। आबाद हैं।
आँकड़े बताते हैं कि संसद् का एक दिन का खर्च लगभग पचास लाख रुपये बैठता है। बताइए हमारे देशभक्त नेता इस बेशक़ीमती समय को महज़ लफ़्फ़ाजी और तू-तड़ाक में सार्थक करने के लिए स्वतन्त्र हैं या नहीं?
एक बार जो भी सत्ता हथिया लेता है, उसके पौ बारह हो जाते हैं। वह वहीं करता है, जो वह चाहता है। अपने चहेतों की चौराहों पर मूर्तियाँ खड़ी कर देता है। उनके नाम पर पार्क, स्मारक, संग्रहालय आदि बनवाने में भी वह नहीं चूकता। क्या उस पर किसी तरह की कोई पाबन्दी है?
गाँधी जी ने हमें अन्याय और अत्याचार के खिलाफ लडऩे के लिए 'असहयोग’ का अहिंसात्मक हथियार दिया था। अब बात बड़ी हो या छोटी, खरी हो या खोटी, उस बिना लाइसेन्सी हथियार का वार चाहे जब शुरू हो जाता है। स्थिति तोड़-फोड़, हिंसा और आगजनी तक पहुँच जाती है। आज हड़ताल, घेरावबन्द, धरना, पुतला-दहन, जाम वग़ैरह कितने आम हैं। बेचारी पब्लिक इनके कारण परेशान है और देश को करोड़ों-अरबों का नुक़सान हो, तो होता रहे, कौन चिन्ता करता है?
राजनैतिक दलों के कथित कार्यकर्ताओं को रैलियों में शामिल होने के लिए देश भर की ट्रेनों में बिना टिकट आने-जाने, टिकट  माँगने पर डट कर हो-हल्ला मचाने और चैकिंग स्टाफ को घूँसा दिखाने की छूट ही छूट  है। कोई माई का लाल या लालू है जो उन्हें रोक सके?
सड़कों पर कूड़ा डालने, मूँगफली, केले, खाकर उनके छिलकों को सार्वजनिक स्थान पर फेंकने, बिखेरने, गंदगी फैलाने, जेनरेटरों के घु़एँ और कनफोड़ शोर से पर्यावरण को प्रदूषित बनाने पर क्या कोई सज़ा मिलती है? अपनी गायों, सूअरों, कुत्तों को आवारा घूमने को छोड़ देने में क्या किसी को कोई परेशानी होती है?
सुविधा-शुल्क के नाम पर रिश्वत डकारने घोटालों में माल मारने, महत्त्वपूर्ण सौदों में दलाली खाने, अनाप-शनाप घन जुटा, उसे देश-विदेश में जहाँ-तहाँ ठिकाने लगाने की सहूलियत है या नहीं?
तस्करी, अपहरण बलात्कार, हत्या, लूटपाट, रंगदारी आदि अब सिर्फ एक खेल की तरह हैं। इनसे जुड़ी कोई खबर किसी पत्र-पत्रिका में छप जाए तो क्या फ़र्क पड़ता है? जेलें भी अब जेल नहीं रहीं, वहाँ भी खास लोगों के लिए हाईटेक सुविधाएँ उपलब्ध हैं। मौसेरे भाइयों में तालमेल जो रहता है।
नेताओं, सांसदों विधायकों, सरकारी अफ़सरों, खेल अधिकारियों आदि को किसी न किसी बहाने अपने खानदान और पानदान सहित विदेशों में सैर-सपाटे में जाने और वहाँ से क़ीमती विदेशी चीजें लाने के सुनहरे मौक़े मिलने में कोई हील-हुज्जत है क्या?
क्या हमारा विद्यार्थी और युवा वर्ग आज़ाद नहीं है? उसे पढ़ाई-लिखाई से मुँह चुराने, गुरुजनों को अँगूठा दिखाने, लड़कियों के दुपट्टे पर झपट्टे मारने और प्यार का झूठा स्वांग रचाने की आज़ादी है कि नहीं?
बड़े-बड़े उद्योगपति, व्यापारी और लक्ष्मी-वाहन कसम खाएँ और बताएँ कि वे झूठे विज्ञापनों से लोगों को भरमाने, जमाखोरी करने, चीजों के मनमाने दाम बढ़ा कर मुनाफ़ा कमाने, टैक्स न चुकाने के सफल हथकण्डे अपनाते हैं या नहीं? उन्हें किसका डर है?
डॉक्टरों को सैम्पल की दवा बेचने और मोटी-मोटी फ़ीसें लेकर भी इलाज में लापरवाही बरतने से किसने रोका है? इंजीनियर और ठेकेदार अपनी मिली भगत से क्या-क्या नहीं करते? वकीलों द्वारा खुल कर झूठ बोलने और मुवक्किलों की अंटी खोलने के कर्त्तव्य-पालन में क्या बाधा आती है? पुलिस महकमा भी पीछे कहाँ है? वह भी 'फ़्रीडम’ का  पूरा-पूरा मज़ा ले रहा है। वर्दी में रहकर भी ईगुर-बिन्दी और लिपिस्टक लगाई जा सकती है, राधा की भूमिका निभाई जा सकती है।
कहाँ तक बताएँ? सच यह है कि आज हर तरफ़ आज़ादी का आलम है। हर व्यक्ति आज़ादी का झण्डा उठाए निर्द्वन्द्व घूम रहा है। आज़ाद बस वे नहीं है, जो आज की आज़ादी का सही अर्थ नहीं जानते या जानते हैं तो उसे मानते नहीं।

लेखक के बारे में: जन्म: 4 दिसम्बर, 1932, अलीगढ़ (उ.प्र)। अब तक 14 व्यंग्य संग्रह- श्रेष्ठ व्यंग्य रचनाएँ, वर-कथा अन्नता, सॉरी प्लीस, पोथी पढ़ि- पढ़ि जग जिया, सास बिना सब सूना, जूता चल रहा है, रहिमन पानी  छाँड़िए, एक कप चाय, सब चलता है लोकतंत्र में, अब तो राम भरोसे देश, जय हो दुर्योधनों की, स्वारथ सरिस धर्म नहिं कोऊ, अगर जीभ न होती और पराई थाली का भात। 10 काव्य संकलन- जिन्दगी के  चाँद-सूरज, कूल से बँध है जल, समर्पित है मन, कहेगा आईना सबकुछ (मुक्तक संग्रह),धूप बहुत कम छाँव, मोती कच्चे धागे में (दोहे तथा हाइकु), दूधों नहाओ, पूतों फलो (हास्य-व्यंग्य कविताएँ), सरहदों ने जब पुकारा (भारत-पाक युद्ध सम्बन्धी कविताएँ), सूख गये सब ताल (ग़ज़ल संग्रह), कुर्सी बिन सब सून (व्यंग्य कविताएँ) , काँच के कमरे (लघुकथा संग्रह), लोक जीवन में नारी-विमर्श (लोक साहित्य),जीना सीखें (निबन्ध-संग्रह), अनुसंधान और अनुशीलन (शोध समीक्षात्मक कृति) आदि प्रकाशित हो चुके है। सम्प्रति- श्री वार्ष्णेय पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज, अलीगढ़ के हिन्दी विभाग में रीडर के पद से सेवा-निवृत्ति के बाद स्वतन्त्र लेखन। संपर्क: 46, गोपाल विहार, देवरी रोड, आगरा- 282001 मो. 092592-67929

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष