August 14, 2013

स्वतंत्रता दिवस

बापू ने नहीं मनाया 
आजादी का जश्न
 पूरा देश 15 अगस्त 1947 को जब आजादी का जश्न मना रहा था। उस समय एक शख्स ऐसा भी था, जो ब्रिटिश शासन की गुलामी से मुक्ति के इस महोत्सव में शामिल नहीं था। वह बडी़ खामोशी के साथ राजधानी दिल्ली से हजारों किलोमीटर दूर कोलकाता में हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच शांति और सौहार्द कायम करने के काम में प्राणपण से लगा हुआ था।
वह शख्स कोई और नहीं, राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी थे। जिन्होंने आजादी के दिन को अनशन करके मनाने का फैसला किया। आजादी से कुछ सप्ताह पहले की बात है। पंडित जवाहरलाल नेहरू और सरदार वल्लभभाई पटेल ने कोलकाता में गाँधी जी के पास अपना दूत भेजा। जो आधी रात को वहाँ पहुँचा। उसने गाँधी जी से कहा कि वह पंडित नेहरू और सरदार पटेल का एक महत्वपूर्ण पत्र उनके लिए लाया है। गाँधी जी ने उससे पूछा कि क्या उसने भोजन किया है। उसके नहीं कहने पर उन्होंने पहले उसे भोजन कराया और फिर पत्र खोलकर देखा।
उसमें लिखा था- बापू, आप राष्ट्रपिता हैं। 15 अगस्त 1947 पहला स्वाधीनता दिवस होगा। हम चाहते हैं कि आप दिल्ली आकर हमें अपना आशीर्वाद दें। पत्र पढ़ने के बाद महात्मा गाँधी ने कहा-कितनी मूर्खतापूर्ण बात है। जब बंगाल जल रहा है। हिन्दू और मुस्लिम एक-दूसरे की हत्याएँ कर रहे हैं और मैं कोलकाता के अंधकार में उनकी मर्मान्तक चीखें सुन रहा हूँ। तब मैं कैसे दिल में रोशनी लेकर दिल्ली जा सकता हूँ। बंगाल में शांति कायम करने के लिए मुझे यहीं रहना होगा और यदि जरूरत पडे़ तो सौहार्द और शांति सुनिश्चित करने के लिए अपनी जान भी देनी होगी।
गाँधी जी उस दूत को विदा करने के लिए बाहर निकले। वह एक पेड़ के नीचे खडे थे। तभी एक सूखा पत्ता शाख से टूटकर गिरा। गाँधी जी ने उसे उठाया और अपनी हथेली पर रखकर कहा- मेरे मित्र, तुम दिल्ली लौट रहे हो। पंडित नेहरू और पटेल को गाँधी क्या उपहार दे सकता है। मेरे पास न सत्ता है और न सम्पत्ति है। पहले स्वतंत्रता दिवस के मेरे उपहार के रूप में यह सूखा पत्ता नेहरू और पटेल को दे देना। जब वह यह बात कह रहे थे, दूत की आँखें सजल हो गईं। गाँधी जी परिहास के साथ बोले- भगवान् कितना दयालु है। वह नहीं चाहता कि गाँधी सूखा पत्ता भेजे। इसलिए उसने इसे गीला कर दिया। यह खुशी से दमक रहा है। अपने आँसुओं से भीगे इस पत्ते को उपहार के रूप में ले जाओ।
आजादी के दिन गाँधीजी का आशीर्वाद लेने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार के मंत्री भी उनसे मिलने गए थे। गाँधी जी ने उनसे कहा- विनम्र बनो, सत्ता से सावधान रहो। सत्ता भ्रष्ट करती है। याद रखिए, आप भारत के गरीब गाँवों की सेवा करने के लिए पदासीन हैं। नोआखाली में हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच सौहार्द कायम करने के लिए गाँधी जी गाँव-गाँव घूमे। उनके पास धार्मिक पुस्तकें ही थीं। उन्होंने सभी हिन्दुओं और मुसलमानों से शांति बनाए रखने की अपील की और उन्हें शपथ दिलाई कि वे एक-दूसरे की हत्याएँ नहीं करेंगे। वह हर गाँव में यह देखने के लिए कुछ दिन रूकते थे कि जो वचन उन्होंने दिलाया है, उसका पालन हो रहा है या नहीं।
उसी दौरान एक गाँव में दिल को छू लेने वाली घटना हुई। गाँधी जी ने उस गाँव के हिन्दुओं और मुसलमानों से कहा कि वह सामूहिक प्रार्थना के लिए अपनी झोपडि़यों से बाहर निकल आएँ और शांति के लिए सामूहिक शपथ लें लेकिन कोई भी बडा़-बूढा़ बाहर नहीं निकला। गाँधी जी ने आंधे घंटे तक इंतजार किया लेकिन उसके बाद भी जब कोई हिन्दू या मुसलमान बाहर नहीं आया तो उन्होंने अपने साथ लाई गेंद दिखाकर गाँव के बच्चों से कहा- बच्चो, आपके माता-पिता एक-दूसरे से डरते हैं लेकिन तुम्हें क्या डर है। हिन्दू और मुसलमान भले एक-दूसरे से डरते हों लेकिन बच्चे निर्दोष हैं। तुम भगवान के बच्चे हो। मैं तुम्हें गेंद खेलने के लिए बुला रहा हूँ।
यह सुनकर बच्चे उस मंच की तरफ बढ़ने लगे, जहाँ गाँधी जी बैठे थे। गाँधी जी ने गेंद उनकी तरफ फेंकी तो लडके और लडकियाँ भी उनकी तरफ गेंद वापस फेंकने लगे। आधे घंटे तक गेंद खेलने के बाद उन्होंने ग्रामीणों से कहा- तुममें साहस नहीं है। यदि तुम ऐसा साहस चाहते हो तो अपने बच्चों से प्रेरणा लो। मुस्लिम समुदाय से जुडा़ बच्चा हिन्दू समुदाय से जुडे़ बच्चे से भयभीत नहीं है।
इसी तरह हिन्दू बच्चा मुस्लिम बच्चे से नहीं डरता है। सब एक साथ आए और मेरे साथ आधे घंटे तक खेले। मेहरबानी करके उनसे कुछ सीखो। यदि तुममे आंतरिक साहस नहीं तो अपने बच्चों से कुछ सीखो। गाँधी जी के यह कहने पर हिन्दू और मुस्लिम समुदाय के बडे़-बूढे़ धीरे-धीरे अपने घरों से निकलने लगे और देखते-देखते वहाँ बडी़ भीड़ इकट्ठा हो गई और उन्होंने उन्हें शपथ दिलाई कि वे एक-दूसरे की हत्या नहीं करेंगे।
नोआखाली में गाँधी जी के साथ घटी एक घटना से उनकी निर्भयता, धैर्य, सहनशीलता और क्षमाभाव का पता चलता है। एक गाँव में गाँधी जी की प्रार्थना सभा चल रही थी, उसी दौरान एक मुस्लिम व्यक्ति अचानक उन पर झपटा और उनका गला पकड़ लिया। इस हमले से वह नीचे गिर पडे लेकिन गिरने से पहले उन्होंने कुरान की एक सुंदर उक्ति कही, जिसे सुनकर वह उनके पैरों पर गिर पडा़ और अपराध बोध से कहने लगा-मुझे खेद है। मैं गुनाह कर रहा था। मैं आपकी रक्षा करने के लिए आपके साथ रहने के लिए तैयार हूँ। मुझे कोई भी काम दीजिए। बताइए, मैं कौन-सा काम करूँ। गाँधी जी ने उससे कहा- तुम सिर्फ एक काम करो। जब तुम घर वापस जाओ तो किसी से भी नहीं कहना कि तुमने मेरे साथ क्या किया। नहीं तो हिन्दू-मुस्लिम दंगा हो जाएगा। मुझे और खुद को भूल जाओ। यह सुनकर वह आदमी पश्चाताप करता हुआ चला गया।
महात्मा गाँधी के भगीरथ प्रयासों से नोआखाली में शांति स्थापित हो गई। उनके शांति मिशन की कामयाबी पर लार्ड माउंटबेटन ने 26 अगस्त 1947 को उन्हें एक पत्र लिखा, जिसमें उनकी सराहना करते हुए कहा गया- पंजाब में पचपन हजार सैनिक हैं लेकिन वहाँ बडे़ पैमाने पर हिंसा हो रही है। बंगाल में केवल एक आदमी था और वहाँ कोई हिंसा नहीं हुई। एक सेवा अधिकारी और प्रशासक के रूप में मैं इस एक व्यक्ति(बापू) की सेना को सलाम करना चाहूँगा।  

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष