May 30, 2012

प्रेस स्वतंत्रता दिवसः अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर रोक अनुचित

- वन्दना गुप्ता
आज जागरूकता के क्षेत्र में इन साइट्स ने एक ऐसा स्थान हासिल किया है जिसे नकारा नहीं जा सकता। और इसका ताजा उदाहरण मिस्र और लीबिया है उसके बाद हमारा अपना देश भारत।  किसी भी क्रांति को परवान चढ़ाने में इन साइट्स का खासा योगदान रहा है।  सबने अपनी- अपनी तरह से बदलाव लाने के लिए योगदान दिया।
आज वैचारिक क्रांति को सोशल साइट्स ने एक ऐसा मंच प्रदान किया है जिसने बौद्धिक जगत में एक तहलका मचा दिया है। कोई इन्सान, कोई क्षेत्र इससे अछूता नहीं है। इंटरनेट सूचना और संचार का एक ऐसा साधन बन गया है जिसमें कहीं कोई प्रतीक्षा नहीं,  मिनटों में समाचार सारी दुनिया में इस तरह फैलता है कि हर खास-ओ-आम इससे जुडऩा चाहता है।
फेसबुक, ट्विटर, ऑरकुट या ब्लॉग सभी ने अपनी एक विशिष्ट पहचान बनाई है और अपना खास योगदान दिया है। आज जब इन सोशल साइट्स का दबदबा इतना बढ़ गया है तब हमारी सरकार इन पर प्रतिबन्ध लगाना चाहती है। ये तो सीधे- सीधे इंसान के मौलिक अधिकारों का हनन है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर प्रतिबन्ध लगाना तो गलत है यह तो वैसा ही हुआ जैसे स्वतंत्रता को हथकड़ी पहना कर कटघरे में खड़ा करना। आखिर क्यों? ये प्रश्न उठना जायज है। इस सन्दर्भ में हमें इसके पक्ष और विपक्ष के दोनों पहलू देखने होंगे तभी हम सही आकलन कर पाएंगे।
 आज जागरूकता के क्षेत्र में इन साइट्स ने एक ऐसा स्थान हासिल किया है जिसे नकारा नहीं जा सकता। और इसका ताजा उदाहरण मिस्र और लीबिया है उसके बाद हमारा अपना देश भारत।  किसी भी क्रांति को परवान चढ़ाने में इन साइट्स का खासा योगदान रहा है।  सबने अपनी- अपनी तरह से बदलाव लाने के लिए योगदान दिया।
आज जैसे ही कोई भी नयी जानकारी या कोई राजनैतिक या सामाजिक हलचल होती है  उसके बारे में सबसे पहले इन साइट्स के माध्यम से सूचना मिल जाती है। सरकारी, गैर सरकारी सब क्षेत्र इनसे जुड़े हैं इसका एक ताजा उदाहरण देखिये-  हमारी सरकार ने ट्रैफिक पुलिस द्वारा किये गए चालान, या किसी व्यक्ति द्वारा किए गए नियम भंग की ताजा जानकारी,  ताजा अपडेट्स यहाँ डाले हैं। ताकि नियम भंग करने वाला चाहे वह कोई नेता हो, मंत्री या संत्री सबको एक समान आँका जाये और उनके खिलाफ उचित कार्यवाही की जा सके। इसका व्यापक असर भी देखने को मिला। इसी प्रकार पुलिस ने भी अपनी साईट बनाई है जिस पर जब चाहे कोई भी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकता है। कहने का तात्पर्य यह कि ये ऐसे उचित माध्यम हैं जो सबकी जरूरत को पूरा करते हैं। फिर क्यों चाहती है सरकार, कि इन पर प्रतिबन्ध लगे। प्रश्न उठना स्वाभाविक है।
लेकिन हमें देखना होगा कि बेशक इन साइट्स ने लोकप्रियता हासिल कर ली है और खरी भी उतर रही हैं मगर जिस तरह सिक्के के हमेशा दो पहलू होते हैं उसी तरह यहाँ भी हैं। हर अच्छाई के साथ बुराई का चोली दामन का साथ होता है। ऐसे में यहाँ कई बार अश्लील सामग्री मिल जाती है या कई बार कुछ नेताओं के बारे में आपत्तिजनक तथ्य डाल दिए जाते हैं या उन्हें अपमानित कर दिया जाता है कहने का तात्पर्य यह कि इससे सरकार घबरा गयी है क्योंकि उनके खिलाफ इसका प्रयोग इस तरह हो जाएगा ऐसा तो उन्होंने सोचा भी नहीं था। तब जब उन्हें इसका कोई और हल नजर नहीं आया तो उन्होंने इन पर प्रतिबन्ध लगना ही उचित समझा। इसके साथ ही एंटी सोशल एलिमंट्स भी सक्रिय हो जाते हैं जिससे सूचनाओं का गलत प्रयोग होने लगता है तब घबराहट बढऩे लगती है मगर जब अंतरजाल के अथाह सागर में आप उतरे हैं तो छोटे- मोटे हिलोर तो आयेंगे ही लेकिन उनसे घबरा कर वापस मुडऩा एक तैराक के लिए तो संभव नहीं है वो तो हर हाल में उसे पार करना चाहेगा बस उसे अपना ध्यान अपने लक्ष्य की तरफ रखना होगा।
सरकार चाहती है अश्लीलता पर प्रतिबन्ध लगे... ये बेशक सही बात है मगर क्या इतना करने से सब सही हो जायेगा? अंतर्जाल की दुनिया तो इन सबसे भरी पड़ी है और कहाँ तक आप किस- किस को बचायेंगे और कैसे? सब काम ये साइट्स तो नहीं कर सकते? जिसे ऐसी साइट्स पर जाना होगा वह अंतर्जाल के माध्यम से जायेगा और जो कहना होगा वह कहेगा।  ऐसे में क्या फायदा सिर्फ इन साइट्सों पर ही प्रतिबन्ध लगाने का। उचित है कि हम खुद में बदलाव लायें और समझें कि इन साइट्स की क्या उपयोगिता है और उन्हें सकारात्मक उद्देश्य से प्रयोग करें। अपने बच्चों को इनकी उपयोगिता के बारे में समझाएं ना कि इस तरह के प्रतिबन्ध लगायें। क्योंकि आने वाला वक्त इन्हीं सबका है। जहाँ ना जाने कितना जहान बिखरा पड़ा है। तो आखिर कब तक और कहाँ तक रोक लगायी जा सकेगी। एक न एक दिन इन सबका सामना तो करना ही पड़ेगा। वैसे भी इन साइट्स के संचालकों का कहना सही है यदि हमारे पास कोई सूचना आती है तो हम उस खाते को बंद कर देते हैं मगर पूरी तरह निगरानी करना तो संभव नहीं है। आप ही सोचिये जरा जब हम अपने 2-3 बच्चों पर निगरानी नहीं रख पाते और उन्हें ऐसी साइट्स देखने से रोक नहीं पाते तो कैसे संभव है कि इस महासागर में कौन क्या लिख रहा है या क्या लगा रहा है पता लगाना कैसे संभव है?
आपसी समझ और सही दिशा बोध से ही हम एक स्वस्थ समाज का निर्माण कर सकते हैं। मगर आंशिक या पूर्ण प्रतिबन्ध लगाना किसी भी तरह उचित नहीं है क्योंकि आने वाला कल इन्ही उपयोगिताओं का है जिनसे मुँह नहीं मोड़ा जा सकता। बदलाव को स्वीकारना ही होगा मगर एक स्वस्थ सोच के साथ। आत्म-नियंत्रण और स्वस्थ मानसिकता ही एक स्वस्थ और उज्ज्वल समाज को बनाने में सहायक हो सकती है ना की आंशिक या पूर्ण प्रतिबन्ध।
संपर्क- डी-19, राना प्रताप रोड, आदर्श नगर, दिल्ली - 110033,    
मो. 09868077896, vandana-zindagi.blogspot.com

1 Comment:

रेखा श्रीवास्तव said...

पूरी तरह से सहमत !

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष