October 15, 2008

पुस्तकें/ ई- लाईब्रेरी

किताबों की बदलती दुनिया

- नीरज मनजीत

क्या आनेवाले वर्षों में बड़े-बड़े पुस्तकालय और किताबें इतिहास की वस्तुएं हो जाएंगी? बदलती दुनिया के साथ पारंपरिक किताबें जिस तेजी से इलेक्ट्रॉनिक पृष्ठों में ढलती जा रही हैं उससे तो यही लगता है कि हां, अगले सौ-पचास वर्षों में ऐसा हो सकता है। इंटरनेट पर उपलब्ध सर्च इंजनों ने दुनिया भर की जानकारी जिस तरह से नेट पर समेट दी है, उसने इन्साइक्लोपीडिया की भारी- भरकम किताबों को वैसे ही मैदान से बाहर कर दिया है। हर जानकारी हर फोटोग्रॉफ सिर्फ माऊस की क्लिक की दूरी पर है जिसे आसानी से कहीं भी डाऊनलोड किया जा सकता है। नियमित-अनियमित छपनेवाली तमाम व्यवसायिक-अव्यवसायिक पत्रिकाएं और समाचार-पत्र इंटरनेट पर पढ़े जा सकते हैं। वो दिन भी दूर नहीं जब किसी लेखक के उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह या जीवनी कथा को एक चिप में डालकर दिया जाने लगेगा। लैपटॉप, कम्प्यूटर और यहां तक कि वाइडस्क्रीन सेलफोन पर किताबें पढ़ी जाने लगेंगी। यूरोप, अमेरिका और पूर्वी एशिया के अधिकांश नेट यूजर्स अखबार और पत्रिकाएं नेट स्क्रीन पर ही पढ़ते हैं। भारत में भी यह चलन अब शुरू हो चुका है। अब प्रश्न यह उठता है कि क्या स्क्रीन पर चमकते हुए इलेक्ट्रॉनिक अक्षर छपे हुए शब्दों जैसा प्रभाव हमारे मानस पर छोड़ पाएंगे?

इलेक्ट्रॉनिक पृष्ठों पर किसी उपन्यास या कहानी का भावभीना प्रसंग क्या हमारे अंतर्मन में वैसा ही उतर पाएगा जैसे छपे हुए पृष्ठों पर बहती संवेदनाएं हमारे बिंधे मन पर नर्म फाहा रखती हैं। क्या इलेक्ट्रॉनिक संसार से आई कोई कविता हमारे जज्बात को वैसा ही स्पर्श कर पाएगी जैसी हल्की- सी छुअन हम किसी किताब में कविता पढ़ते वक्त महसूस करते हैं? क्या किसी ब्लॉग के विचार हमारे जेहन को वैसे ही झकझोर पाते हैं जैसा पुस्तक के पृष्ठों में किसी लेख को पढक़र हम अनुभव करते हैं? हमारी पीढ़ी के किसी पुस्तक प्रेमी से यदि आप ये प्रश्न करेंगे तो उनका उत्तर होगा - नहीं, कतई नहीं। भारतीय संस्कृति और परंपराओं के बरअक्स इन सवालों को देखें तो किताबों या ग्रंथों के बगैर जीवन की कल्पना ही नहीं की जा सकती। वेदों की ऋचाओं, उपनिषदों के श्लोकों और पुराणों की मिथक-कथाओं में ज्ञान का जो अजस्र स्त्रोत प्रवाहित हुआ है उसी ने भारत को विश्व गुरू का दर्जा दिलाया है। हस्तलिखित या छपे हुए पृष्ठ भारतीय मानस का एक अभिन्न अंग हैं। पुस्तकें हमें संस्कारशील और सुसंस्कृत बनाती हैं। पुस्तकों को लेकर ऐसा पवित्र-भाव किसी और देश में दिखाई नहीं पड़ता।

हमारे विद्वानों ने यदि ग्रंथों में संचित ज्ञान को आत्मसात करके मानव समाज को समृद्ध करने का मार्ग प्रशस्त किया है तो एक सामान्य अनपढ़ मनुष्य ने ग्रंथों की स्तुति करके ही संस्कारित होने का प्रयत्न किया है। रामचरित मानस, कुरान, ग्रंथ साहब और बाइबल -इन पवित्र किताबों ने ही भारतीय मानस को निर्मित किया है। सिखों के दशम गुरू गोविंद सिंह ने तो ग्रंथ साहब में समकालीन महापुरूषों की वाणियां संकलित करके उसे ही गुरू का दर्जा देकर गुरू प्रथा पर विराम लगा दिया था। किताबों के प्रति आस्था का इससे बड़ा और क्या प्रमाण हो सकता है? लैपटॉप या नेट के चमकते अक्षरों में सिर खपाने में वो आनंद कहां जो पालथी मारकर अखबार या पत्रिका पढऩे में है।

आरामकुर्सी पर अधलेटे किसी कहानी या उपन्यास का रस लेने और कम्प्यूटर के सामने बैठकर ई-पृष्ठों में उतरने में कितना बड़ा फर्क है, यह युवा पीढ़ी का कोई नौजवान नहीं बता सकता। इसके बावजूद यदि नई पीढ़ी पठन-पाठन का अपना एक अलग तौर-तरीका विकसित कर रही है तो उन्हें दोष देना ठीक नहीं होगा। संभव है कि वे हमें वैसे संस्कारशील न लगें जैसे हम खुद को या भारतीय जन मानस को मानते हैं। संभव है कि इलेक्ट्रॉनिक पृष्ठ उनके आधुनिकता बोध को सहलाते हों। पर एक बात तय है कि नई पीढ़ी खुद को छपे हुए शब्दों की अपेक्षा ई-अक्षरों के ज्यादा नजदीक पाती है। साथ ही यह भी महसूस किया जा रहा है कि इन ई-अक्षरों की दुनिया में मानवीय संवेदनाओं की परिभाषाएं भी बदल रही हैं। संभव है कि शब्दों के पीछे छिपी जिन संवेदनाओं को हमारी पीढ़ी शिद्दत से अनुभव करती है, वो संवेदनाएं उन्हें बिल्कुल भी स्पर्श नहीं कर पातीं। नई पीढ़ी की दुनिया हमारी दुनिया से निश्चय ही अलग है। वैसे ही जैसे हमारी दुनिया हमसे पहली पीढ़ी से अलग थी, किंतु बदलाव में पीढिय़ों के बीच विभाजन रेखाएं नहीं खिची थीं। पुरानी पीढ़ी धीरे-धीरे पुरानी होती थी और नई पीढ़ी धीरे-धीरे नई। अब हर पांच- दस साल में परिवर्तन का एक नया दौर शुरू हो जाता है। मसलन इंटरनेट ने नई पीढ़ी के सोचने के तौर-तरीके बदले, फिर सेलफोनों की नई रेंज इस पीढ़ी को बदल रही है।

बदलाव की प्रक्रिया निरंतर चलती रहती है। दुनिया के सारे देश एक-दूसरे के करीब आए हैं तो संस्कृतियां भी एक-दूसरे के मानस को गहराई तक प्रभावित कर रही हैं। इसके बावजूद भारत में किताबों की महत्ता कम नहीं होगी। आज से सौ बरस बाद भी हमारे आधुनिक पुस्तकालयों में हमें किताबें पढ़ते हुए लोग मिल जाएंगे।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष