August 13, 2020

चंद्रशेखर आजाद के इकलौते चित्र की अंत:कथा (जयन्ती पर विशेष)

चंद्रशेखर आजाद के इकलौते चित्र की अंत:कथा
-डॉ. शिवजी श्रीवास्तव
       चंद्रशेखर आजाद भारतीय क्रांतिकारियों के इतिहास के एक ऐसे चमकदार नक्षत्र हैं ,जिनके प्रकाश से युगों-युगों तक क्रांतिचेता युवक प्रकाश ग्रहण करते रहेंगे। 23 जुलाई 1906 को म.प्र. के झाबुआ जिले के भाबरा में एक ब्राह्मण परिवार में जन्मे चंद्रशेखर अपनी किशोरावस्था से ही भारतीय स्वतंत्रता के महासमर में कूद गए थे। उनके शौर्य की गाथाएँ आज भी प्रत्येक देशभक्त के अंदर ऊर्जा का संचार करती हैं। चंद्रशेखर आजाद का नाम लेते ही आँखों के सामने एक छवि उभरती है, नंगे बदन,कमर पर धोती बाँधे हुए, कंधे पर जनेऊ और बाएँ हाथ से दाहिनी ओर की मूँछ उमेठते हुए एक बलिष्ठ देहयष्टि वाले तेजस्वी नवयुवक की।... जहाँ कहीं उनकी मूर्ति भी स्थापित है, वहाँ भी उनकी इसी छवि को मूर्तिमान किया गया है। वस्तुतः चंद्रशेखर आजाद की यही एकमात्र उपलब्ध तस्वीर है, जो उनके जीवन काल मे खींची गई थी; और इस तस्वीर की भी एक कहानी है।
     इंटरनेट पर इस तस्वीर के संदर्भ में अनेक विवरण उपलब्ध है;  किंतु वे पूरा सच बयान नहीं कर रहे। इस तस्वीर के पीछे का सच आजाद जी के अभिन्न साथी रहे प्रसिद्ध क्रांतिकारी डॉ. भगवान दास माहौर जी से मुझे सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था डॉ. माहौर भी प्रसिद्ध क्रांतिकारी थे, साण्डर्स के वध में वे आजाद जी के सहयोगी रहे थे, भुसावल बमकाण्ड में उन्हें जेल में भी रहना पड़ा था, आजादी के बाद उन्होंने छूटी हुई पढ़ाई को पुनः प्रारम्भ किया तथा हिन्दी विषय से एम.ए.,पी-एच.डी, वं डी. लिट्. तक की उपाधियाँ अर्जित करके बुंदेलखंड महाविद्यालय झाँसी में हिन्दी के प्रोफेसर हो ग थेजिस वर्ष मैं एम.ए. का विद्यार्थी था ,वे सेवानिवृत्ति के पश्चात् अतिथि प्राध्यापक के रूप में पढा रहे थेमुझे भी एक वर्ष उनसे पढ़ने का सौभाग्य प्राप्त हुआ वे मेरे पिता के अच्छे मित्र भी थे; अतः मेरे घर भी उनका प्रायः आगमन होता था हम लोगों के अनुरोध पर वे आजाद जी से जुड़े संस्मरण अकसर सुनाया करते थे एक बार इस चित्र का रहस्य भी उन्होंने ही बतलाया था।
 झाँसी में मास्टर रुद्रनारायण का घर क्रांतिकारियों की शरणस्थली था, वहाँ क्रांतिकारियों की गुप्त बैठकें भी हुआ करती थीं। काकोरी-काण्ड के पश्चात् फरारी के दिनों में चंद्रशेखर आजाद लंबे समय तक झाँसी में मास्टर रुद्रनारायण के घर पर रहे माहौर जी की आजाद जी से यहीं भेंट हुई थी, फिर धीरे-धीरे वे आजाद जी के विश्वस्त साथी बन गए। आजाद जी झाँसी-ओरछा मार्ग पर सातार के जंगलों में  एक संन्यासी के रूप में अज्ञातवास में भी रहे। उस अज्ञातवास हेतु मास्टर रुद्रनारायण ने उन्हें हरिशंकर नाम दिया था। लगभग डेढ़ वर्ष आजाद जी वहाँ साधु बनकर एक कुटिया बनाकर रहे, उन्होंने वहाँ के गाँव के बच्चों को शिक्षा भी दी, इन जंगलों में चंद्रशेखर आजाद ,भगवान दास माहौर, सदाशिवराव मलकापुरकर आदि के साथ निशानेबाजी एवं  गुरिल्ला युद्ध का अभ्यास भी करते रहे; किंतु किसी को ये ज्ञात नहीं हो सका कि साधु हरिशंकर वही आजाद जी हैं ,जिन्हें पूरी ब्रिटिश पुलिस पागलों की तरह  तलाश कर रही है।
    इस दौरान मास्टर रुद्रनारायण के घर पर भी उनका आना जाना रहा। रुद्रनारायण बहुत अच्छे चित्रकार, मूर्तिकार एवम फोटोग्राफर थे। उन दिनों तक आजाद जी की कोई तस्वीर थी ही नहीं, इसीलिवे पुलिस की नरों से भी बचे रहते थे, उन्हें कोई पहचानता नहीं था। आजाद जी अपनी फोटो खिंचवाते भी नहीं थे, मास्टर रुद्रनारायण एवं उनकी पत्नी ने कई बार उनसे फ़ोटो खिंचवाने का आग्रह किया; पर उन्होंने हमेशा इनकार कर दिया। आजाद जी को आशंका थी कि अगर कभी भी फ़ोटो किसी प्रकार पुलिस के हाथ लगा, तो उन्हें पहचाना जा सकता है।
    एक दिन आजाद जी मास्टर रुद्रनारायण के घर पर थे, सुबह स्नान करके वे स्नानागार से बाहर आए, तो श्वेत धोती कमर से लपेटी हुई थी, कंधे पर जनेऊ था ही, वे अपने बाल काढ़ते हुए कोई देशभक्ति का तराना गुनगुना रहे थे, मास्टर रुद्रनारायण ने अचानक कैमरा उठाया और बोले-पंडिज्जी, आजआपकी छवि बिल्कुल अलग लग रही है एक फोटो खींच लूँआजाद जी ने टालते हुए कहा-अरे, नहीं, ऐसे नंगे बदन... रुको मैं कुर्ता तो पहन लूँ... मास्टर रुद्रनारायण रुकना नही चाहते थे, उन्होंने कहा-ऐसे ही अच्छे लग रहे हो, कुर्ता रहने दो।'....आजाद जी बोले- अच्छा नहाने से मूँछें बेतरतीब हो गई हैं, इन्हें तो ठीक कर लूँ- कहते हुए उन्होंने एक ओर मूँछ ठीक करके दूसरी मूँछ उमेठना शुरू की... मास्टर रुद्रनारायण सशंकित थे कि कहीं आजाद जी का मन अचानक बदल न जाए, उन्होंने चट से उस क्षण की मुद्रा को ही कैमरे में कैद कर लिया....
बस वही आजाद जी की एकमात्र अकेली तस्वीर थी, जो उनके जीवन काल मे खींची गई थी। मास्टर रुद्रनारायण जी ने आजाद जी के इस चित्र को उनके जीवन काल मे किसी को नहीं दिखलाया, उनके बलिदान के बाद ही इसे सार्वजनिक किया। ...यतस्वीर इतिहास की महत्त्वपूर्ण धरोहर बनी। उसके बाद उनकी जितनी तस्वीरें या मूर्तियाँ बनाई गईं , सब इसी के आधार पर बनाई गईं। आजाद जी की एक और दुर्लभ तस्वीर भी प्राप्त होती है ,जिसमें वह मास्टर रुद्रनारायण की पत्नी और उनकी दो बेटियों के साथ बैठे हैं, यह एक पारिवारिक चित्र हैवह मास्टर रुद्रनारायण ने कब और किन स्थितियों में खींचा, इसका विवरण नहीं मिलता, किंतु आजाद जी की पहचान के रूप में वही इकलौता चित्र अमर हो गया, जिसकी चर्चा माहौर जी ने की।
      आजाद जी की जयंती पर उनके उसी चित्र को सामने रखकर उनका भावपूर्ण स्मरण करते हुए उनके एक पसंदीदा शेर के साथ ही उन्हें नमन करता हूँ-
‘दुश्मन की गोलियों का हम सामना करेंगे।
  आजाद ही रहे हैं, आजाद ही रहेंगे।’
     उनके साथ ही उनकी छवि को जन-जन तक पहुँचाने वाले मास्टर रुद्रनारायण को नमन, अपने गुरु डॉ. भगवानदास माहौर को नमन।

1 Comment:

प्रीति अग्रवाल said...

आदरणीय दोबारा आपका लेख पढ़ने का सौभाग्य मिला, और अधिक आनंद आया! आपने चंदशेखर जैसे अनूठे व्यक्तित्व का बहुत सुंदर और रोचक चित्र उकेरा!..आपको ढेरों बधाई!

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष