March 08, 2020

होली- रम्य रचना

निंजू भिया का 
भाँग-भंडारा 
-जवाहर चौधरी
नाम उनका निरंजन पहलवान था, लेकिन लोग  उन्हें निंजू भिया कहते थे। निंजू भिया का एक निराला शौक था। वे होली पर सबको निःशुल्क भाँग पिलाया करते थे। जैसे इन दिनों राजनीतिक पार्टियाँ चुनाव से पहले, यानी दो चार महीने पहले से भोजन भंडारा किया करती हैं। आस-पास के लोग, माता-बहनें, बच्चे वगैरह पूरी-सब्जी, रायता और एक आध मीठा खाते मस्त रहते हैं। छुटके नेताओं को इससे अपनी नेतागिरी चमकाने का मौका मिलता है और चंदे की खासी रकम भी। अंदर ही अंदर यह धारणा भी है कि  लोगों को नमक खिला देने से वे वफादार होने लगते हैं। हालांकि चचा गालिब क्या खूब कह गए हैं जिनको हमसे है वफा की उम्मीद, वे नहीं जानते वफा क्या है  आज होते तो उनको भी को चार भंडारे खिलाकर उनकी शायरी को शीर्षासन करवा देने की कोशिश होती। खैर, निंजू भिया की बात चल रही थी। छह महीने पहले से वे होली के भाँग-भंडारे की तैयारी में लग जाते थे। उन्हें भाँग का नशा इतना नहीं चढ़ता था जितना भाँग पिलाने का। इस आयोजन का वे किसी से पैसे नहीं लेते थे। सारा खर्च खुद ही उठाते थे। भाँग के अलावा सबसे महँगा सामान ड्राई फ्रूट्स का हुआ करता था । बादाम-काजू वगैरह इसमें प्रमुख थे। आप सोच रहे होंगे की किलो दो किलो में काम हो जाता होगा तो आपको बता दें शुरू शुरू में वे एक कोठी भाँग बनाते थे। यानी करीब दो सौ लीटर। लेकिन बाद में जब भक्तजनों की आमद बढ़ी  प्रसाद तो दो कोठी तक का इंतजाम होने लगा। इसके लिए काफी सारा मेवा लगता था। उन्होंने कभी अपनी भाँग की समृद्धि से कभी कोई समझौता नहीं किया।
भाँग वे पूरे मनोयोग से खुद ही पीसते थे। और हर आधे घंटे में आगंतुकों को बताते जाते थे कि  भाँग पीसना हर किसी के बस की बात नहीं है। इसमें भोले की भक्ति, लोढ़ा चलाने की कला और सतत साधना व धैर्य की जरूरत होती है। इस काम के लिए उनके पास एक बड़ा सा सिलपत्थर था। निंजू भिया जिस समय भाँग पीसते माहौल किसी आरती आराधना का सा हो जाता। किसी ने कहा है –“मैं अकेला ही चला था जानिबे मंजिल मगर, लोग साथ आते गए कारवां बनता गया।  जिस रात होली जलना होती उस रात लोग निंजू भिया के साथ भाँग निर्माण में जुटे रहते। जैसे किसी समारोह के लिए हलवाइयों की टोली रसोई के काम में लगा करती है । सैकड़ों संतरे और खूब सारे अंगूरों का रस तैयार किया जाता। दूध-मिश्री, बादाम, काजू, खसखस, और मगज की खूब घुटाई होती और फिर इन सब का ढेर सारा पेस्ट भाँग में घोला जाता इसके अलावा कुछ मसाले भी होते थे।
धुलेंडी के दिन यानी जिस दिन रंग खेला जाता है, भाँग का वितरण शुरू होता। पहले भोले बाबा को भोग लगाया जाता। सुबह नौ बजे से पहले वे वितरण शुरू नहीं करते। हर एक को एक एक गिलास आग्रह से  देते।  कोई चाहता तो दो भी। आपस में शर्त लगा कर पीने वाले सात, आठ, नौ तक पी जाते। निंजू भिया मना तो नहीं करते  लेकिन चार दिनों तक औंधे पड़े रहने की चेतावनी अवश्य देते।  अगर भंग की तरंग का डर नहीं हो तो मन करता कि पेट जितनी जगह है उससे ज्यादा पी लें। उनके आयोजन से होली रंग से ज्यादा भंग का त्यौहार होती थी।
होली हो जाने के बाद महीनों तक निंजू भिया आयोजन के खुमार में रहते। साथी लोग भी उनके इस आनंद को खूब ऊंचाई देते। अगले साल की योजनाएँ भी बनतीं। महीनों निकाल जाते, दिवाली के बाद फिर होली का इंतजार होने लगता।
पचास साल में बहुत कुछ बदल गया। निंजू भिया नहीं रहे। पेड़ों से आच्छादित उनका कार्यक्रम स्थल अब कॉलोनी में बदल गया है। लेकिन जिन्होंने निंजू भिया की भाँग पी है वे होली पर वहाँ से गुजरते हैं तो उनके मुँह से बरबस जय भोलेनाथअवश्य निकल जाता है ।

सम्पर्कः 16 कौशल्यापुरी, चितावद रोड़, इन्दौर – 452001, 9826361533, 9406701670, jc.indore@gmail.com, Blogs-  hindivyangya.blogspot.com

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष