January 27, 2018

प्रकृति

एक पेड़ की दुनिया
 -दीपाली शुक्ला
एक पेड़, शीशम का पेड़। इस पेड़ के इर्द-गिर्द तरह-तरह के पेड़ हैं। सब हरे-भरे हैं बस शीशम के पेड़ को छोड़कर। यह सूखा है, भूरे खुरदरे तने और उसके चारों तरफ लटकी सूखी लताओं के अवशेषों को लिए खड़ा है। इसके पड़ोसी बेर और सेमल मौसम बदलने पर अपने पत्तों को हवाओं में लहरा देते हैं। बाकी पेड़ों पर परिंदों की बसाहट समय के साथ करवट लेती है पर शीशम की सूखी डालियाँ हर मौसम में गुलज़ार रहती हैं।
कल का ही किस्सा है सात भाई चिड़ियों का एक पूरा का पूरा कुनबा डालों पर मोतियों की तरह खुद ही सज गया था। ठंड के कारण कितनी ही एक साथ सटकर नींद का मज़ा ले रही थीं। कुछ सुबह के आने के साथ अपनी चोंच को पैना कर रही थीं खुरदरे तने से रगड़कर। उनके इर्द-गिर्द बुलबुल उड़ान भर रही थी। गौरैया भी उनको आ-आकर देख रही थीं।
इस किस्सेा से पहले की एक बात याद आई। अभी थोड़े ही दिन पहले की। भोजन की तलाश में मोरनियाँ और उनके नन्हे एक कतार में शीशम के पेड़ के आसपास से गुज़र रहे थे। मोरनियों को आकर्षित करने के लिए मोर आवाज़ कर रहे थे। पर इधर मोरनियों को तो जैसे कुछ सुनाई ही नहीं दे रहा था। बच्चों के साथ नरम पत्तियों को चबाने में मशगूल थीं। आकर्षित करने की कवायद में एक मोर ने आखिरकार शीशम की एक शाख का सहारा लिया। काफी देर वह डाल पर बैठा आवाज़ देता रहा, देता रहा। फिर फुरर्र से उड़कर बेर के झुरमुट में खो गया।
शीशम के पक्के-पक्के दोस्तों में शामिल है कोयल, नर भी मादा भी। इनकी दोस्ती काफी पुरानी है। जब पेड़ पत्तियों से लदा-फदा था तब भी और जब आज वह सूखा दरख्त है तब भी कोयल बतियाती दिखती हैं इससे। मुझे नहीं पता कि कोयल की कितनी पुश्तें अब तक इस पेड़ पर बसती आई हैं। सुबह-सुबह ढेर सारी कोयल पेड़ पर एक दुनिया की बसाहट करती हैं। जो एक-दूसरे से बात नहीं करतीं वो मुँह फेरकर बैठती हैं। शीशम की डालों पर बार-बार पंखों को फड़फड़ाकर हवा करती हैं। चोंच को रगड़ती हैं। कई बार मादा कोयल शीशम पर घंटों बैठती है। कितनी बातें कहती सुनती है शीशम से। शीशम ही सुलह भी करवाता है देखा है मैंने।
कितनी बार जब बारिश के बाद पंखों को सुखाने के लिए बुलबुल और गौरेया आपस में लड़ती हैं तो शीशम दोनों के बीच बंटवारा करता है शाखों का। फिर वह पंखों से झरते पानी की बौछारों को समेटता है ताकि उसके तले नन्ही चीटियाँ भीगे नहीं।
हमेशा नहीं पर कभी-कभार शिकरा भी शीशम पर आराम फरमाता दिखता है। उस दिन चहुँओर बस मौन होता है। बाकी परिन्दे आसपास नहीं होते। तब हवा का बहाव भी बेहद सहमा होता है। शिकरा पेड़ के रंग को यूँ लपेटता है कि दोनों को अलग करना आसान नहीं।
जब शीशम हरियल था तब पतरंगी भी अक्सर शीशम से हरीतिमा लेने आती थी। दोपहर की तेज धूप में पत्तियों के बीच पतरंगी की चमक का क्या कहना! बीच-बीच में पतरंगी शीशम को अपनी उड़ान भी दिखाती। पर अब पतरंगी इस दरख्त पर नहीं आती। शीशम के पड़ोसी पलाश की पत्तियों से झाँकती है इन दिनों।
एक और दोस्त है जिसे किसी से बात करने की फुर्सत ही नहीं मिलती सिवाय शीशम के। वह ऊपर से नीचे, नीचे से ऊपर, एक शाख से दूसरी पर दौड़ती रहती है शीशम को अपनी छबरी पूँछ से गुदगुदी करती। कुनकुनी धूप का आनंद लेने के लिए वह तने पर आँखें मूंदें रहती है। किसी-किसी दिन तो बस गिलहरियों का एक के पीछे एक दौड़ने का सिलसिला थमता ही नहीं। तब शीशम को एक नया रंग मिलता है।
शीशम की दुनिया की यह कहानी और उसके किरदार अभी बहुत हैं पर यह सिलसिला अभी यहाँ रोकती हूँ। क्योंककि मुझे अब शीशम की दुनिया में ताक-झाँक करनी है।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष