August 12, 2015

बैंकिंग

ऑनलाइन

धोखाधड़ी से कैसे बचें

- देवमणि पाण्डेय


पिछले कई महीनों से ऑन लाइन फ्राड पूरे देश में हो रहे हैं। प्रायवेट बैंकों में भी और राष्ट्रीयकृत बैंकों में भी। क्रेडिट कार्ड पर भी और डेबिट कार्ड पर भी। हैरत की बात ये है कि अभी तक पुलिस ऐसे किसी संगठित गिरोह या ठग को पकड़ नहीं पाई है, जो ऐसे कारनामे अंजाम दे रहे हैं। ये हमेशा मोबाइल से ही लोगों को फोन करते हैं। ऐसे ठगों के पास कोई ऐसी तकनीक है कि ये पता ही नहीं चलता कि कॉल करने वाले का मोबाइल किस कम्पनी का है। सिम कार्ड किसके नाम है या वो किस जगह से बोल रहा है। हाँ इतना ज़रूर पता चला है कि इन ठगों ने कई लोगों के क्रेडिट कार्ड से सिंगापुर, दुबई, बैंकाक, कनाडा आदि बाहर के देशों में ख़रीददारी की है। इसलिए भी सम्भव है कि ये मोबाइल सिमकार्ड विदेशों के हो।
कुछ कम्पनियों के स्मार्ट मोबाइल फोन में ट्रूकॉलर सर्च की सुविधा होती है। यानी अगर आप सर्च बाक्स में कोई अजनबी नम्बर डालें तो जिस नाम से सिमकार्ड लिया गया है वह नाम स्वत: दिखाई देता है। इन ठगों के नाम ट्रूकॉलर में भी नहीं दिखाई देते। इससे आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि ऐसी ठगी के पीछे कोई ऐसा गिरोह सक्रिय है जो इंटरनेट एक्सपर्ट है। ऐसी धोखाधड़ी से बचने के लिए निम्नलिखित सावधानियाँ बरतें-
 (1) अपने ग्राहकों को जानकारी देने के लिए बैंक प्राय: लैंडलाईन फ़ोन से ही सम्पर्क करते हैं। इसलिए अगर कोई व्यक्ति मोबाइल फ़ोन से आपको सम्पर्क कर रहा है तो फ़ौरन सतर्क हो जाइए कि यह कोई फिशिंग (धोखाधड़ी) कॉल हो सकती है। फिशिंग कॉल करने वाले बड़े शातिर होते हैं। वे इतनी विनम्रता से बात करते हैं कि पढ़े-लिखे लोग भी उनके जाल में फँस जाते हैं।
(2) अगर फोन पर कोई आपसे कहे कि क्रेडिट कार्ड की लिमिट बढ़ानी है अथवा डेबिट कार्ड ब्लॉक हो गया है या एक्सपायर हो गया है तो उसे व्यस्तता का बहाना बना कर आधे-एक घंटे के लिए टाल दें और तत्काल अपने बैंक की हेल्पलाइन पर फोन करके वास्तविकता का पता लगाएँ।
(3) बैंक अपने ग्राहकों से क्रेडिट या डेबिट कार्ड का पूरा नम्बर कभी नहीं पूछते क्योंकि उनके पास ये सूचनाएँ पहले से सुरक्षित हैं। अगर कोई फोन पर आपसे 16 अंकों का क्रेडिट या डेबिट कार्ड नम्बर पूछता है तो सावधान हो जाएँ और उसे नं. न बताएँ। शतप्रतिशत यह आदमी ठग है। ऐसे आदमी को कार्ड को जारी करने की तारीख़ (इशू डेट) या ख़त्म होने की तारीख़ (एक्सपायरी डेट) भी न बताएँ।
(4) आपके क्रेडट / डेबिट कार्ड के पीछे पट्टी पर जहाँ आप साइन करते हैं, सात अंकों का समूह होता है। यह सिक्योरिटी कोड है। इसे सीवीवी नम्बर कहते हैं। इस नम्बर के ज़रिए ही वन टाइम पिन क्रिएट करके ऑन लाइन खऱीदारी सम्भव होती है। यह नम्बर फ़ोन करने वाले को भी कभी न बताएँ।
(5) आप चार अंकों का अपना पिन नम्बर किसी को भी न बताएँ वर्ना धोखाधड़ी का शिकार हो जाएँगे। धोखाधड़ी से बचने के लिए किसी इनकमिंग फ़ोन कॉल, एसएमएस या ईमेल पर आप ये पाँच जानकारियाँ कभी शेयर न करें- सोलह अंकों का कार्ड नं., एक्सपायरी डेट, क्रेडिट लिमिट, सीवीवी कोड और कार्ड का चार अंकों का पिन नम्बर।
(6) धोखाधड़ी का शिकार होने पर सबसे पहले कार्ड प्रदाता बैंक को फ़ोन करके अपना कार्ड ब्लॉक कराएँ। आप अपना मोबाइल नम्बर और ईमेल अपने बैंक के साथ ज़रूर रजिस्टर्ड कराएँ ताकि आपको आवश्यक सूचनाएँ एवं ट्रांजेक्शन की जानकरी मिलती रहे।
कभी भी लॉटरी के ईमेल या एसएमएस पर यकीन न करें। सवाल यह है कि जब आपने लॉटरी का टिकट खरीदा ही नहीं तो आपको करोड़ों की लाटरी लगी कैसे? अगर लॉटरी की रकम देने से पहले आपसे कस्टम डूयूटी या इनकम टैक्स के बहाने रुपये माँगे जाएँ तो समझ  जाइए कि मामला  ठगी का है। ऐसे में माँगी गई रकम किसी भी अकाउंट में ट्रांसफर न करें और तत्काल पुलिस विभाग को सूचित करें।
ट्रेन या बसों में इश्तहार देख कर पर्सनल लोन देने वाले अनजान लोगों के चक्कर में न फँसें। अक्सर ऐसे लोग भी पंजीकरण शुल्क या सेवा शुल्क के नाम पर सीदे-सादे लोगों को ठग लेते हैं।

सम्पर्क: ए-2, हैदराबाद एस्टेट, नेपियन सी रोड, मालाबार हिल, मुम्बई - 400 036 

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष