February 10, 2015

लघुकथाएँ

दुआ

वह दफ्तर में था। शहर में दंगा हो गया है, यह खबर ढाई बजे मिली। वह भागा और जिन्दगी में पहली बार शाम का अखबार खरीद लिया। दंगा उसी इलाके में हुआ था, जहाँ उसका घर था। यह जानते हुए भी कि उसके पास पैसे नहीं हैं, वह स्कूटर रिक्शा में बैठ गया। पिछली बार वह स्कूटर में कब बैठा था, उसे याद नहीं। वह हमेशा बस में सफर करता है।
दफ्तर पहुँचने में देर हो रही हो या कोई कितना भी जरूरी काम हो, न तो उसे उस बस की प्रतीक्षा से ऊब ही होती है और न लाइन तोडऩे में जिन्दगी का कोई आदर्श टूटता नजर आता है। यानी तब वह सोचता नहीं था और आज उसके पास सोचने की फुर्सत नहीं थी। वह घर पहुँचकर सबकी खैर- कुशल पाने को चिन्तित हो रहा था। बीवी तो घर पर ही होगी, लेकिन बच्चे स्कूल जाते हैं और इसी वक्त लौटते हैं। कहीं...वह सोचता जा रहा था।
स्कूटरवाले ने दंगाग्रस्त इलाके से कुछ इधर ही ब्रेक लगा दी, 'बस, इससे आगे नहीं जाऊँगा।'
'चलो, चलो यार, मैं जरा जल्दी में हूँ।'
'मुझे अपनी जान से कोई बैर नहीं है जी !' वह मीटर
देखकर बोला, 'पाँच रुपए सत्तर पैसे।'
'तुम्हें पैसों की पड़ी है और मेरी जान पर बनी हुई है।' वह जेब में हाथ डालकर बोला, 'सवारियों से बदतमीजी करते हो, तुम्हें शर्म आनी चाहिए...यह तो कोई तरीका नहीं।' वह गुस्साता हुआ उतरा और उतरते ही जेब में हाथ डाले- डाले, स्कूटरवाले की तरफ से आँख मूँदकर भागने लगा।
'ओए, तेरी तो...बे।' स्कूटरवाला कुछ देर तक उसके पीछे भागा, मगर उसे गोली की तरह दंगाग्रस्त इलाके में पहुँचता पाकर हाँफता हुआ खुद ही से बड़बड़ाने लगा, 'साला हिन्दू है तो मुसलमानों के हाथ लगे और मुसलमान है तो हिन्दुओं में जा फँसे!'

नींद

वे हो- हल्ला करते एक पुरानी हवेली में जा पहुँचे। हवेली के हाते में सभी घरों के दरवाजे बंद थे। सिर्फ एक कमरे का दरवाजा खुला था। सब दो- दो, तीन- तीन में बँटकर दरवाजे तोडऩे लगे और उनमें से दो जने उस खुले कमरे में घुस गए।
कमरे में एक ट्रांजिस्टर हौले- हौले बज रहा था और एक आदमी खाट पर सोया हुआ था।
'यह कौन है?' एक ने दूसरे से पूछा।
'मालूम नहीं,' दूसरा बोला, ''कभी दिखाई नहीं दिया मुहल्ले में।'
'कोई भी हो,' पहला ट्रांजिस्टर समेटता हुआ बोला, 'टीप दो गला!'
'अबे, कहीं अपनी जाति का न हो?'
'पूछ लेते हैं इसी से।' कहते- कहते उसने उसे जगा दिया।
'कौन हो तुम?'
वह आँखें मलता नींद में ही बोला, 'तुम कौन हो?'
'सवाल- जवाब मत करो। जल्दी बताओ वरना मारे जाओगे।'
'क्यों मारा जाऊँगा?'
'शहर में दंगा हो गया है।'
'क्यों.. कैसे?'
'मस्जिद में सूअर घुस आया।'
'तो नींद क्यों खराब करते हो भाई ! रात की पाली में कारखाने जाना है।' वह करवट लेकर फिर से सोता हुआ बोला, 'यहाँ क्या कर रहे हो?...जाकर सूअर को मारो न !'

लेखक के बारे में: 23 नवम्बर, 1950 जालन्धर (पंजाब) में जन्में स्वर्गीय श्री रमेश बतरा दीपशिखा, साहित्य निर्झर, सारिका, नवभारत टाइम्स और सन्डे मेल में सम्पादन से सम्बद्ध रहे। उन्होंने लघुकथा को सही दिशा देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका का निर्वाह किया। नंग- मनंग, पीढिय़ों का खून, फाटक उनके कहानी संग्रह है। फखर जमान के उपन्यास 'बन्दीवान' का अनुवाद किया। 15 मार्च, 1999 को दिल्ली में उनका असामयिक निधन हो गया।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष