October 22, 2013

विज्ञान

टेस्ट ट्यूब शिशु और ऑटिज़्म
 -डॉ. अरविन्द गुप्ते

इन विट्रो फर्टिलाइज़ेशन (आईवीएफ) से पैदा हुए बच्चों यानी टेस्ट ट्यूब शिशुओं के बारे में एक शंका यह व्यक्त की जाती रही है कि शायद उनमें स्वास्थ्य समस्याओं की आशंका ज़्यादा रहेगी। खास तौर से कई लोगों ने शंका व्यक्त की थी कि टेस्ट ट्यूब शिशुओं में ऑटिज़्म का खतरा ज़्यादा रहेगा। यह भी कहा जाता है कि आईवीएफ तकनीक से गर्भधारण करने पर जुड़वाँ बच्चे होने की संभावना भी ज़्यादा होती है और इसका असर बच्चों के स्वास्थ्य पर हो सकता है।
आज टेस्ट ट्यूब शिशु कोई अपवाद या असामान्य बात नहीं है। विश्व स्तर पर देखें तो हर 50 में से एक शिशु आईवीएफ तकनीक से पैदा होता है। 1978 में पहली बार इस तकनीक का उपयोग हुआ था और तब से दुनिया भर में 50 लाख टेस्ट ट्यूब शिशु जन्म ले चुके हैं।
उक्त आशंकाओं की जाँच करने के उद्देश्य से स्वीडन के कैरोलिंस्का इंस्टीट्यूट के कार्ल-गोस्टा नायग्रेन के नेतृत्व में एक दल ने स्वीडन में 1982 से 2007 के दरम्यान पैदा हुए 25 लाख बच्चों के स्वास्थ्य का औसतन 10 साल निरीक्षण किया। इनमें से करीब 31,000 बच्चे आईवीएफ तकनीक से पैदा हुए थे।
गौरतलब है कि आईवीएफ तकनीकें भी कई प्रकार की होती हैं। जैसे उपरोक्त 31,000 टेस्ट ट्यूब शिशुओं में से 19,500 महज़ शुक्राणु और अंडाणु को एक तश्तरी में साथ-साथ रखने से विकसित हुए थे। करीब 10,500 के मामले में शुक्राणु स्वयं अंडाणु को भेदकर अंदर नहीं पहुँच पा रहे थे, इसलिए इन्हें कृत्रिम रूप से अंडाणु के अंदर इंजेक्ट किया गया था। शेष करीब 1000 मामलों में पिता के वीर्य में शुक्राणु नहीं थे, तो उनके वृषण में से शुक्राणु लेकर अंडाणु का निषेचन किया गया था।
इन सारे बच्चों के स्वास्थ्य सम्बंधी आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला कि ऑटिज़्म के लिहाज़ से 31,000 टेस्ट ट्यूब बच्चों और 24 लाख 70 हज़ार सामान्य बच्चों के बीच कोई अंतर नहीं था। विश्लेषण इस बात को ध्यान में रखकर किया गया था कि आईवीएफ के ज़रिए संतानोत्पत्ति में जुड़वाँ बच्चे होने की संभावना सामान्य से अधिक होती है और इसके अपने स्वास्थ्य सम्बन्धी असर होते हैं। मगर यह ज़रूर देखा गया कि जो आईवीएफ शिशु शुक्राणु को अंडाणु में इंजेक्ट करके पैदा किए गए थे, उनमें बौद्धिक क्षमता में कमी होने की आशंका 50 प्रतिशत तक अधिक रहती है। बौद्धिक क्षमता का पैमाना आईक्यू माना गया था। वैसे शोधकर्ताओं का मत है कि यह ज़ोखिम भी अत्यंत कम है हालाँकि उल्लेखनीय है।
अध्ययन में इस बाबत कुछ नहीं कहा गया कि ऐसे असर क्यों होते हैं। हो सकता है कि शुक्राणु को अंडाणु में इंजेक्ट करने की प्रक्रिया में ही कुछ होता हो या यह भी हो सकता है कि इसमें पिता के शुक्राणुओं की गुणवत्ता का कुछ हाथ हो। बहरहाल इससे इतना तो स्पष्ट है कि शुक्राणु इंजेक्ट करने की विधि का उपयोग ज़रूरी होने पर ही किया जाना चाहिए। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष