August 14, 2013

पुस्तक

मन की वादियों में झरे हरसिंगार
-डॉ. उर्मिला अग्रवाल
श्री रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशुज् का ताँका संग्रह 'झरे हरसिंगारज् आद्योपान्त पढ़ गई। जैसे-जैसे पढ़ती गई मेरे मन की वादियों में हरसिंगार झरते रहे। पूरा का पूरा भाव-प्रदेश भर गया इन नन्हे-नन्हे प्यारे-प्यारे खूबसूरत फूलों से। ताँका को लघुगीत भी कहा जाता है और हिमांशु जी के इस संकलन की सबसे बड़ी विशेषता है इनके ताँकाओं में  व्याप्त रागात्मकता। निश्चय ही राग गीत का सबसे प्रमुख तत्त्व है और यह हिमांशु जी के अधिकतर ताँकाओं में खुशबू की तरह समाया हुआ है। इनके ताँका सीधे मन को छूते हैं।
आज इन्सान के पास बहुत सी उपलब्धियाँ है; नहीं है तो अपनापन, नहीं है तो साथ में दु:ख बाँटने वाली करुणा। काम्बोज जी का यह ताँका कहता है पूरा अधिकार भले ही ना हो, जीवन भर का साथ भले ही न हो पर कुछ करुणा मिल जाए नन्ही-सी आत्मीयता (शब्द प्रयोग द्रष्टव्य है, थोड़ी सी नहीं, किचिंत नहीं, नन्ही- सी) मिल जाए जो-
 भीगे संवाद/ नन्हीं सी आत्मीयता/बन के पाखी/ उड़ी छूने गगन/ भावों से भरा मन।
बादलों में व्याप्त आर्द्रता की तरह आपके ताँकाओं में  रागात्मक वृत्तियाँ मन की धरा पर निरन्तर रसवृष्टि करती है- मनोजगत को चित्रित करता यह ताँका देखिए-
बाँधे है मन/कुछ पाश हैं ऐसे/ जितना चाहो/छूट के तुम जाना/काटे नहीं कटते।
इन्सान का दर्द किसी को दिखाई नहीं देता इसी पीड़ा को अभिव्यक्त करता यह ताँका इस संग्रह का अनमोल मोती है-
काँच के घर/बाहर सब देखें/भीतर है क्या/कुछ न दिखाई दे/न दर्द सुनाई दे।
प्राय: व्यक्ति जीवन से निराश ही दृष्टिगोचर होता है। वह अपने दु:ख भरे पल तो याद रखता है,सुख के पल भूल जाता है। इस ओर इंगित करते हुए काम्बोज जी का यह ताँका देखिए-
बन्द किताब/ कभी खोलो तो देखो/पाओगो तुम/नेह भरे झरने/ सूरज की किरने।
यह ताँका भी इन्सान की सोच से जरा हटकर है-
बन्द किताब/ जब-जब भी खोली/ पता ये चला/हमें बहुत मिला/ चुकाया न कुछ भी।
प्रकृति हाइकु और ताँका का मुख्य विषय रहा है। हिमांशु जी ने भी प्रकृति के विभिन्न चित्र उकेरे हैं पर वहाँ केवल वर्णनात्मकता नहीं है, वरन जीवन की गन्ध है जैसे-
जागे हैं चूल्हे/घाटी की गोद बसे/घर-घर  में /तान रहा है ताना/धुएँ से बुनकर।
या आज की वास्तविकता को चित्रित करता यह ताँका-
नन्ही गौरैया/ढूँढ़े कहाँ बसेरा/खोए झरोखे/दालान भी गायब/जाए तो कहाँ जाए।
संसार प्रेम की बात कितनी ही करें पर उसे पचा नहीं पाता है। पवित्र प्रेम भी उसकी दृष्टि में पाप ही हो उठता है। इस कड़वाहट से उपजा यह ताँका देखिए-
सपने पले/तेरी सूनी आँखों में /इतना चाहा/कुछ की नजरों में /यह क्यों पाप हुआ।
मन के पवित्र प्रेम की इतनी सुन्दर अभिव्यक्ति-
पूजा में बैठूँ/याद तुम आती हो/आरती बन/अधरों पे छाती हो/भक्ति-गीत पावन।
ये पंक्तियाँ पढ़कर सहसा धर्मवीर भारती की एक पंक्ति याद आ जाती है, जिसमें उन्होंने माथे को स्पर्श करने वाले अधरों के लिए उपमान दिया है- 'बाँसुरी रखी हुई ज्यों भागवत के पृष्ठ पर।ज्
संग्रह के अधिकतर ताँका बहुत सुन्दर है। शिल्प की कसौटी पर तो सभी ताँका खरे उतरते हैं। इतने सुन्दर ताँका-संग्रह के लिए काम्बोज जी निश्चय ही बधाई के पात्र हैं।
संपर्क: १५ शिवपुरी, मेरठ-२५००२


दूरभाष-०१२१.२६५६६४४; मोबाइल-०९८९७०७९६६४

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष