March 10, 2013

अनकही


एक अनुकरणीय पहल
-डॉ. रत्ना वर्मा
अच्छे काम की हमेशा सराहना होती है और समाज के लिए अनुकरणीय बनती है। समाज में व्याप्त किसी भी कुप्रथा को समाप्त करने के लिए समाज के ही व्यक्तियों को आगे आना होता है। पिछले दिनों समाचार पत्रों में एक ऐसी खबर पढऩे को मिली जिसे मैं यहाँ सबके साथ बाँटना चाहती हूँ- 
स्वागत में गुलाब, दहेज में किताब!  इस शीर्षक से प्रकाशित समाचार में एक ऐसे डॉक्टर की बेटी की शादी का उल्लेख था; जिसमें बारातियों का स्वागत गुलाब के फूल और दहेज में किताबें भेंट करने की बात कही गई थी। यह खबर अमृतसर के सरकारी मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर डॉ. श्याम सुंदर दीप्ति की बेटी की शादी को लेकर थी। वे डॉक्टर होने के साथ लेखक और शायर भी हैं उन्होंने लगभग दो दर्जन किताबें लिखीं हैं और इतनी ही संपादित भी की हैं। उनकी बेटी ऋतु माता कौलाँ अस्पताल में मेडिकल अफसर हैं । उसकी  शादी नवाँशहर जिले के राहों कस्बे के डॉ. राकेश पाल से गत माह 23 फरवरी को सपन्न हुई है। 
उनकी इस अनोखी पहल पर शुभकामनाएँ देते हुए मैंने उन्हें ईमेल किया और पिछले दिनों उनसे फोन पर बात भी की।  उन्होंने बताया कि मैं जब भी अपने समाज में या परिचित के यहाँ शादी में जाता था तो शादी में होने वाले फिज़ूलखर्ची को देखकर मुझे लगता था यह सब बंद होना चाहिए। आजकल एक मध्यमवर्गीय परिवार की बेटी की शादी में 30 से 35 लाख रुपये आसानी से खर्च हो जाते हैं। बात बहुत छोटी- छोटी होती हैं जैसे ये कैसी परम्परा है कि दूल्हा पूरा रास्ता तो कार में सफर करके तय करता है फिर दुल्हन के द्वार पर पँहुच कर घोड़ी पर चढ़कर जाता है? भला इसका क्या औचित्य। इसी तरह बारातियों को, दूल्हे के पूरे परिवार को मिलनी (उपहार) देने की परम्परा है। ऐसी न जाने किनती परम्पराएँ हमारे समाज में व्याप्त हैं  ,जिसके लिए लड़की वाले अपनी हैसियत से ऊपर जाकर खर्च करते हैं। मैं चूंकि इन्हीं सामाजिक विषयों पर लिखता रहा हूँ, तो मैंने सोचा मैं अपने बच्चों के विवाह पर ऐसी कोई फिज़ूलखर्ची नहीं करूँगा। मैंने लोगों को इसी सोच से बाहर निकालने के लिए यह शुरुआत की। मैंने बारातियों का स्वागत गुलाब के फूलों से किया और उपहार में अपनी किताब भेंट में दी।
डॉ. दीप्ति ने जो कहा, जो सोचा, जो लिखा उसे करके भी दिखाया।  इसकी शुरुआत उन्होंने शादी का निमंत्रण पत्र भेजने के साथ ही कर दी थी- अपनी किताब 'मिलन का आनंद’ (सेलिब्रेटिंग टुगेदरनेस) को निमंत्रण पत्र के साथ में भेज कर। वे मनोरंजन के लिए बाहर से पैसा देकर बैंड और डांस ग्रुप बुलाने के पक्ष में भी नहीं हैं। शादी हमारी व्यक्तिगत और पारिवारिक खुशी होती है इसमें बाहर वाले आकर कैसे खुशियाँ बाँटेंगे? मेरी बेटी की शादी में मैंने नाच गाने पर खर्च भले ही नहीं किया पर नाच-गाना नहीं हुआ ,ऐसी बात नहीं है, परिवार के लोगों ने ही मिलकर कार्यक्रम तैयार किया और खूब जमकर नाच-गाना भी हुआ। इससे जो खुशी मिली वह दूसरों के नाचने-गाने में कहाँ। हाँ मैंने यह कभी नहीं सोचा था कि मेरे इस व्यक्तिगत कदम को मीडिया में जगह मिल जाएगी और देश भर में इतनी सराहना मिलेगी। पर समाचार पत्रों में यह खबर छप जाने से लोगों की अच्छी प्रतिक्रियाएँ मिलीं- जैसे जालंधर के एक 70 वर्षीय व्यापारी कुलदीप महाजन स्वयं इस तरह की फिज़ूलखर्ची और अनावश्यक रीति रिवाजों के बिना विवाह करने हेतु नवयुवकों को प्रेरित करते हैं । उनका फोन आया- उन्होंने इस संदेश को साथ मिलकर आगे बढ़ाने के लिए कहा  । मैं उनसे पूरी तरह सहमत हूँ। लेकिन इन सबके लिए जरूरी है संदेश लोगों तक पहुँचे। आजकल की फिल्मों और टीवी धारावाहिकों में तो ऐसे दृश्य दिखाए जाने लगे हैं ;जो फिज़ूलखर्ची वाले विवाह को बढ़ावा देने का काम कर रहे हैं। जिनके पास खर्च करने की हैसियत नहीं है वह भी मात्र दिखावे के लिए फिज़ूलखर्ची वाली शादी करने लगे हैं। भव्य सजावट, शाही खान-पान, मनोरंजन के लिए डीजे, दिखावे के लिए भारी भरकम दहेज, दुल्हन के लिए लाखों के लहँगे जो वह केवल जयमाल में ही पहनती है ,बाद में उसका कोई उपयोग नहीं रह जाता। यदि खर्च ही करना है तो बेटी के उज्ज्वल भविष्य के लिए कीजिए या उस पैसे को समाज के किसी बेहतर काम में लगाइए।
प्रश्न यह उठता है कितने ऐेसे लोग हैं जो ऐसा अनुकरणीय कदम उठाते हैं बिना यह सोचे कि समाज या रिश्तेदार क्या कहेंगे। हम अपने आप को कितना ही आधुनिक और पढ़ा- लिखा कह लें ; लेकिन समाज की जो तस्वीर है वह किसी से छिपी नहीं है । दहेज रूपी दानव ने आज के मध्यमवर्गीय समाज को ग्रस लिया है। आजकल तो यह पहले ही तय हो जाता है कि बारातियों का स्वागत किस तरह कितने धूम-धाम से होगा, क्या-क्या लेन-देन होगा, दहेज में क्या-क्या दिया जाएगा, खाने-पीने की व्यवस्था कैसी और कहाँ होगी। कुल मिलाकर शादी दो परिवारों का मिलन समारोह न होकर दिखावे का समारोह बन गया है ; जिसके लिए बाकायदा आजकल विवाह आयोजित करने वाले लोग बाजार में अपनी दुकान सजाए बैठे हैं । वे  सामने वाली पार्टी की हैसियत से विवाह के सारे इंतज़ाम करते हैं।
आज जबकि हम लेन-देन वाली जैसी कुप्रथाओं को गलत परम्पराओं को तोडऩा चाहते हैं तो  वह आधुनिकता के नाम पर और भी अधिक बढ़ती ही जा रही है। अब तो लोग सगाई की रस्म भी इतने भव्य पैमाने पर करने लगे हैं कि देखकर लगता है -इतने में तो शादी ही संपन्न हो जाती। जाहिर है -हमारे पारिवारिक और निजी समारोह भी आज व्यावसायिक चश्में में देखे जाने लगे हैं।
  किसी भी खबर को ज्यादा से ज्यादा लोगों के बीच पँहुचाने में मीडिया की महत्त्वपूर्ण भूमिका होती है। विवाह में फिज़ूलखर्ची और दिखावे को खत्म करने के लिए डॉ. दीप्ति ने जिस नई परम्परा की शुरूआत की है ,  उसे मीडिया ने ही हम तक पँहुचाया है। यह लगातार और बड़े पैमाने पर होते रहना चाहिए ताकि लोगों को ऐसे उदाहरणों से प्रेरणा मिले और वे भी कुछ ऐसा ही कदम उठाने के बारे में सोचना शुरू करें।  फिलहाल तो आइये हम सब मिल कर डॉ. दीप्ति जी ने जो नई शुरुआत की है ;उस मुहिम को आगे बढ़ाने का संकल्प लें।

4 Comments:

अमित वर्मा said...

वास्तव में यह अपने आप में एक अनुकरणीय पहल है, इस पहल को मेरा सलाम !!! मूल रूप से आज दोहरे मापदंड हमारे जीवन में प्रवेश कर गए हैं। इसी से जीवन इतना उलझ गया है। हम सब डबल स्टैंडर्ड में जीते हैं, दोहरे मापदंडों में। दूसरों के लिए एक मापदंड होता है, अपने लिए दूसरा। लेकिन जिंदगी अलग-अलग नियम नहीं मानती है। उसके नियम एक हैं। हम जैसा दूसरे में देखते हैं और जो नियम दूसरे के लिए बनाते हैं, वही नियम अपने लिए भी बना सकें तो जिंदगी बहुत ऊपर उठ जाए। जैसा की अपने लिए कहूँ तो - मेरा क्रोध परिस्थिति की वजह से हुई भूल है, और दुसरे के लिए कहूँ तो- वह है ही बड़ा क्रोधी। कोई चीज टूट गई, तो मैं अपने लिए कहूँगा कि मुझसे टूट गई और दूसरे के लिए उसने तोड़ दी। वास्तविक रूप में हम पहल करना कहते ही नहीं, पहल की अपेक्षा सदैव हमें दूसरो से रहती है। हमें कभी अपनी सोच पर अपने आचरण पर पुनर्विचार की जरूरत ही नहीं महसूस हुई और जब तक हम इस पर पुनर्विचार नहीं करेगे तब यह समस्या हमारे आगे एक विकराल रूप लेती रहेगी ।

कौशलेन्द्र said...

टीवी सीरियल्स की तो बात ही मत कीजिये। बौद्धिक प्रदूषण फैलाने में इनका प्रमुख योगदान है। विवाह/ यज्ञोपवीत संस्कार में अपने मिथ्या वैभव प्रदर्शन से लोग गौरवांवित हो रहे हैं किंतु इससे कुप्रथाओं और धन के अपव्यय को ही बढ़ावा मिल रहा है। मैंने भी सोच रखा है, अपने बेटे के यज्ञोपवीत/विवाह संस्कारों में धन का अपव्यय नहीं होने दूँगा। प्रेरक प्रसंग देने के लिये सम्पादिका जी को साधुवाद!

Shiam said...

daktr rtnaa jii ke is kryaatmk sujhv ko pdhkr mn men ek bijli sii daud gyee | hmen aaj samj men is prkaar ki vichaar dhaaraa kii aawshykyktaa hai. puraanii rudhivaadii prmpraaon ko isii prkaar nikaal paayenge | lekh ka hr shbd sochkr likhaa gyaa hai| yug yug jiyo meri lekhikaa!
Shiam Tripathi Canada

KAHI UNKAHI said...

बहुत अनुकरणीय पहल है...इसके लिए डॉ.दीप्ति जी को साधुवाद...| आपने इस के बारे में हमें बताया, इसके लिए आप भी बधाई की हकदार हैं...और साथ ही वर-पक्ष भी,क्योंकि डॉ. साहब की इस पहल को उन्होंने भी अपना सहयोग दिया...और समस्त कार्यक्रम राजी-खुशी निपट गया...|
नव-विवाहित जोड़े को हार्दिक शुभकामनाएँ...|

प्रियंका गुप्ता

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष