January 18, 2013

सेहत



मोटापे की दवा को स्वीकृति मिली
जिस देश में एक-तिहाई लोग 'मोटेकी श्रेणी में आते हों, वहाँ मोटापे की दवा निश्चित तौर पर एक वरदान कही जाएगी। हाल ही में यूएस खाद्य व औषधि प्रशासन ने मोटापे की एक दवा बेल्विक (लोर्कासेरिन) को स्वीकृति दे दी।
बताते हैं कि यह दवा व्यक्ति को 3-4 प्रतिशत तक वज़न घटाने में मदद करती है, बशर्ते कि इसका उपयोग स्वस्थ खुराक और व्यायाम के साथ किया जाए। फिलहाल इस दवा को मात्र उन लोगों के लिए मंज़ूरी मिली है जिनका बॉडी मास इंडेक्स (बीएमआई) 30 से ज़्यादा है। इसके अलावा 27 से ज़्यादा बॉडी मास इंडेक्स वाले कुछ लोगों के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकेगा। ये वे लोग होंगे जिन्हें उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रॉल की बढ़ी हुई मात्रा और मधुमेह जैसी शिकायतें भी हों। बॉडी मास इंडेक्स दर्शाता है कि आपका वज़न आपकी ऊंचाई के अनुपात में कितना है।
1997 में वज़न घटाने की एक अन्य दवा फेनफ्लूरेमीन को मंजूरी मिली थी मगर उसे बाद में बाज़ार से वापिस लेना पड़ा था क्योंकि वह हृदय वॉल्व में गड़बडिय़ाँ पैदा करती थी। उसके बाद से वज़न घटाने की दवाइयों के लिए सुरक्षा मापदंड काफी सख्त कर दिए थे और खास तौर से हृदय पर इनके प्रभावों की जाँच अनिवार्य कर दी गई थी। इसी आधार पर बेल्विक को पहले 2010 में नामंजूर किया जा चुका था। अब इस दवा की निर्माता कंपनी एरीना फार्मास्यूटिकल्स ने हृदय रोग सम्बंधी आशंकाओं को दूर कर दिया है।
बेल्विक वज़न घटाने में जिस क्रियाविधि से काम करती है वह दिमाग में सिरोटोनिन जैसा असर उत्पन्न  करती है जिससे व्यक्ति में खाने की इच्छा कम होती है, वह कम खाता है और फिर भी उसे पेट भरा-भरा लगता है।
वैसे इस मामले में औषधि व चिकित्सा विशेषज्ञों का मत है कि ऐसी दवाइयों के लाभ और हानि का विश्लेषण करके ही कोई निर्णय करना चाहिए। इन विशेषज्ञों के मुताबिक अमरीका में मोटे लोगों की संख्या बहुत अधिक है और मोटापा स्वयं कई तकलीफों और बीमारियों को न्यौता है, जैसे मधुमेह, हृदय रोग वगैरह। लिहाज़ा, उनके अनुसार यदि बेल्विक के साइड प्रभाव हैं तो भी यह देखना होगा कि क्या मोटापे में कमी लाकर यह अन्य तरह से ज़्यादा मदद करती है।
यह बात तो सभी मानते हैं कि सिर्फ दवा से कोई फायदा होने की उम्मीद बहुत कम है। इसके साथ अपनी खुराक को दुरुस्त करना और जीवन शैली में स्वस्थ बदलाव भी उतने ही अनिवार्य होंगे। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष