August 25, 2012

यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

बेटी होना कभी न खलता

 - अनामिका
धर्म- बंधन में हर कोई बंधता
हर प्राणी यहाँ कर्मठ बनता
छोटे बड़ों के करते सम्मान
बड़े  दिखाते बड़प्पन बातों ही बातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

राजा- प्रजा का भेद न होता
कटुता का कोई बीज न बोता
रहते मिलजुल कुटुंब समान
ऊंच- नीच का भाव न पलता लोगों के जज्बातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

अधिक न कोई संचय करता
कभी न कोई भूखों मरता
होता न कोई देश में बेईमान..
अमन- चैन से रहते, होते न शामिल उत्पातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

हंसी- खुशाी से मिलजुल रहते
मानवता की इज्जत करते
मेहनत का सब करते मान
जीते ना झूठे वादों और खैरातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

देह का व्यापार न चलता
बेटी होना कभी न खलता
नर- नारी होते एक समान
दहेज प्रथा का चलन न होता शादी की सौगातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

काले धन का नाम न होता
महंगाई का काम न होता
डालर पर होती रुपए की उड़ान
डीजल- पेट्रोल होता सस्ता, इन मुश्किल हालातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

शिक्षा का कर चहु-मुखी विकास
गरीबी का कर जड़ से विनाश
होता रोटी, कपड़ा और मकान,
मगन न रहते लोग हर पल घातों- प्रतिघातों में
यदि बागडोर होती शासन की मेरे हाथों में ...

मेरे बारे में -  
मेरे पास अपना कुछ नहीं है, जो कुछ है मन में उठी सच्ची भावनाओं का चित्र है और सच्ची भावनाएं चाहे वो दु:ख की हों या सुख की... मेरे भीतर चलती हैं... महसूस होती हैं... और मेरी कलम में उतर आती हैं...! 
संपर्क- C/O सुनीता खुराना, मकान नं. 2513,सेक्टर-16, फरीदाबाद- 121002 हरियाणा

6 Comments:

इमरान अंसारी said...

बहुत बहुत शुभकामनायें......आज अनामिका जी का नाम पता चल गया :-)

Kailash Sharma said...

काश ऐसा होता...बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

मनोज कुमार said...

इतने अच्छे ख़्यालात हैं, हम तो चाहते हैं कि शासन ऐसे ही हाथों में हो।

प्रतिभा सक्सेना said...

यही तो मुश्किल है ,अपने शासन से खल-जनों को कैसे दूर रखेंगी वे तो बिना काज दाहिने-बायें आ खड़े होंगे?सबसे पहले तो उनसे निबटना है.

संजय भास्कर said...

वाह अनामिका दी अति सुन्दर... आज तो छा गयी आप .....!!

गिरिजा कुलश्रेष्ठ said...

उम्मीदों भरी संभावनाएं । काश ऐसा कभी हो । सुन्दर कविता ।

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष