August 25, 2012

सावन की यादें

आया सावन झूम के...

 - पल्लवी सक्सेना
सवान के महीने में हरे रंग का सर्वाधिक महत्व होता है। क्यूंकि सावन के महीने में धरती सूरज की तपिश से मुक्त होकर अपनी धानी चूनर छोड़ हरीयाली से परिपूर्ण ठंडी- ठंडी हरी चुनरी जो ओढ़ लिया करती है। बड़े- बड़े पेड़ों से लेकर नन्हें- नन्हें पौधों पर पड़ी बारिश की बूंदें जैसे बचपन पर आया नवयौवन का निखार
यूं तो जिंदगी में भी न जाने कितने मौसम आते जाते है। लेकिन चाहकर भी कभी कोई मौसम ठहरता नहीं जिंदगी में। हमेशा पतझड़ के बाद ही बहार आती है, और बहार के बाद फिर पतझड़ बिलकुल सपनों के पंछियों की तरह नींद की डाल पर कुछ देर के लिए आए सपने वक्त की हवा के साथ उड़ जाते है और हमारे दिल में अपने कदमों के कुछ निशां छोड़ जाते हैं। जिनके सहारे कभी तो यह जिंदगी सुकून से गुजर जाती है तो कभी इन्हीं सपनों के पूरा ना होने पर एक टीस सी रह जाती है मन के किसी कोने में कहीं....मगर वक्त कभी एक सा कहाँ रहता है इसलिए शायद प्रकृति भी हमारे साथ कभी धूप तो कभी छाँव की अटखेलियाँ खेला करती है सदा।
लंबी चली गर्मियों के बाद आज फिर 'मौसम ने ली अंगड़ाई' और एक बार फिर 'आया सावन झूम के' आज सुबह जब उनींदी आँखों से देखा खिड़की की ओर तो जैसे एक पल में सारी नींद हवा हो गयी ऐसा लगा जैसे यह सुहाना मौसम बाहें फैलाये मेरे नींद से जागने का ही इंतजार कर रहा था। यूं तो यहाँ (यूके) सदा ही बारिश हुआ करती है। मगर आज न जाने क्यूँ एक अलग सा एहसास था इस बारिश में, ऐसा महसूस हो रहा था जैसे यह बारिश का पानी मुझसे कुछ कहना चाहता है। मुझे कुछ याद दिलाना चाहता है। तभी सहसा याद आया सावन का महीना इस महीने सवान के सोमवार शुरू हो रहे हैं। यह याद आते ही मुझे सब से पहले याद आया मंदिरों में होती शिव आराधना,  मंत्रोच्चारण से गूँजते मंदिर,  मंदिर के बाहर बेलपत्र, धतूरे और पूजा के अन्य सामग्री से सजी दुकानों का कोलाहल, सब घूम गया आँखों के सामने और इस सबके साथ- साथ मन प्रकृति के सुंदर नजारों में कही खो गया।
जैसा के आप सभी जानते ही होंगे कि सवान के महीने में हरे रंग का सर्वाधिक महत्व होता है। क्यूंकि सावन के महीने में धरती सूरज की तपिश से मुक्त होकर अपनी धानी चूनर छोड़ हरीयाली से परिपूर्ण ठंडी- ठंडी हरी चुनरी जो ओढ़ लिया करती है। बड़े- बड़े पेड़ों से लेकर नन्हें- नन्हें पौधों पर पड़ी बारिश की बूंदें जैसे बचपन पर आया नवयौवन का निखार, जल मग्न रास्ते,  झीलों, तालाबों और नदियों में बढ़ता जलस्तर बहते पानी का तेज होता बहाव जैसे सब पर एक नया जोश, एक नयी उमंग छा जाती है।
हर कोई, चाहे 'प्रकृति हो या इंसान' इस मौसम में एक नये जोश के साथ अपने- अपने जीवन की एक नयी शुरुवात करने की इच्छा रखते है। इसलिए तो प्रकृति भी नए अंकुरों को जन्म देकर उन्हें नन्हें हरे- हरे पौधों के रूप में बदल कर नव जीवन की शुरआत का संदेशा देती नजर आती है। घर आँगन में पड़े सावन के झूले, उन झूलों पर आज भी झूलता बचपन और उस बचपन में मेरे बचपन की झलक जिसे आज भी सिर्फ मैं देख सकती हूँ।
हरी- हरी चूडिय़ों की खनक, मिट्टी की सौंधी खुशबू में मिली मेहंदी की महक, मेहंदी के रंग को देखने का उतावलापन कि रंग आया या नहीं। नए कपड़ों को खरीद कर जल्द से जल्द पहनने की होड़, भाइयों के आने का बेसब्र इंतजार, मिठाइयों की दुकानों पर सजे फेनी और घेवर की खुशबू, बाजारों का कोलाहल, फुर्सत के पल में घड़ी- घड़ी बनती चाय और पकौड़ों की महक, ताश के पत्ते, पिकनिक की जगह तलाशता बचपन, गर्मागर्म भुट्टों का स्वाद, पानी से भरी सड़कों पर बिना कीचड़ की परवाह किए बेझिझक भीगना और मम्मी की डांट कि बस बहुत हो गया बहुत भीग लिए, अब बस करो और भीगोगे तो बीमार पड़ जाओगे।
सब जैसे एक साथ किसी चलचित्र की तरह चल रहा है जामुन का स्वाद, सबसे सुंदर राखी चुन लेने की उत्सुकता और भी न जाने क्या- क्या....मेरे लिए तो इतना कुछ छुपा है इस सावन के मौसम में जिसे पूरी तरह व्यक्त कर पाना शायद मेरे बस में नहीं, बस एक यादों का अथाह समंदर है जिसमें यादों की ही लहरें उठ रही है। एक अजीब सी बेकरारी है। एक अजीब सा खिंचाव जो हर साल, हर सावन में, हर बार मुझे यूं हीं खींचता है अपनी ओर, और उन यादों के आवेग में मेरा मन बस यूँ हीं बहता चला जाता है किसी मदहोश इंसान की तरह जिसे मौसम का नशा चढ़ा हो। ना जाने क्यूँ कुछ लोग नशे के लिए शराब का सहारा लिया करते हैं। कभी कुदरत के नशे में भी खोकर देखें उसमें जो नशा जो खुमारी है वह शायद ही उस नशे में हो जिसे लोग नशा कहा करते हैं।
लेकिन इन सब चीजों के बाद भी सावन का यह महीना  एक चीज के बिना अधूरा है वह है संगीत। सावन के इस मौसम में चाय का कप और बारिश के पानी के साथ किशोर कुमार की आवाज... भला और क्या चाहिए जिंदगी में इस आनंद के सिवा...
रिमझिम गिरे सावन, सुलग- सुलग जाए मन
भीगे आज इस मौसम में लगी कैसी ये अगन...
संपर्क-     द्वारा- डॉ. एस.के. सक्सेना, 27/1, गीतांजलि काम्प्लेक्स,
               गेट नं. 3 भोपाल (मप्र)
               Email- pallavisaxena80@gmail.com

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष