April 21, 2012

कविता

लड़कियां

-डॉ. मीनाक्षी स्वामी

लड़कियां, पंजों के बल
उंची खड़ी होकर
अमरूद तोड़ लेती हैं
और कुछ अमरूद, पेड़ पर चढ़कर भी।
अमरूद तोडऩे के लिए
मौका आने पर
दीवार पर भी चढ़ जाती हैं, लड़कियां।
और लोहे के नुकीले, सरियों वाले
फाटक भी उलांघ जाती हैं।
जतन से बटोरे अमरूदों की पूंजी को
दुपट्टे में सहेजकर
सोचती हैं लड़कियां,
बड़ी होकर वे ठीक इसी तरह   
पंजों के बल खड़ी होकर,
आकाश की अलगनी से
इंद्रधनुष खींचकर
अपना दुपट्टा बना लेंगीं।

रेल में बैठी स्त्री

तेज रफ्तार दौड़ती रेल में बैठी स्त्री
खिड़की से देखती है   
पेड़, खेत, नदी और पहाड़।
पहाड़ों को चीरती
नदियों को लांधती,
जाने कितनी सदियां, जाने कितने युग
पीछे छोड़ती रेल
दौड़ती चली जाती है।
स्त्री खिड़की से देखती है
मगर, वह तो रेल में ही बैठी रहती है
वहीं की वहीं, वैसी ही
वही डिब्बा, वही सीट
वही बक्सा, वही कपड़े
जिसमें सपने भरकर
वह रेल में बैठी थी कभी।
रेल में बैठी स्त्री
बक्सा खोलती है
और देखती है सपनों को
सपने बिल्कुल वैसे ही हैं
तरोताजा और अनछुए
जैसे सहेजकर उसने रखे थे कभी
स्त्री फिर बक्सा बंद कर देती है
और सहेज लेती है सारे के सारे सपने
रेल दौड़ती रहती है
पेड़, नदी, झरने
सब लांघती दौड़ती है रेल
पीछे छूटती जाती हैं सदियां और युग
और रेल के भीतर बैठी स्त्री के सपने
वैसे ही बक्से में बंद रहते हैं
जैसे उसने सहेजकर रखे थे कभी।   

मेरे बारे में


हिंदी की प्रतिष्ठित रचनाकार डॉ. मीनाक्षी स्वामी ने समाजशास्त्र में एम.ए. और मुस्लिम महिलाओं की बदलती हुई स्थिति पर पीएचडी किया है। वे महारानी लक्ष्मीबाई स्नातकोत्तर महाविद्यालय इंदौर में प्राध्यापक हैं। उनकी कई पुस्तकों में अच्छा हुआ मुझे शकील से प्यार नहीं हुआ, देहदंश, लालाजी ने पकड़े कान, बीज का सफर, बहूरानियां, सुबह का भूला, साहब नहीं आए, राष्ट्रीय एकता और अखंडता: बंद द्वार पर दस्तक आदि प्रमुख हैं। उन्होंने हर विधा में हर वर्ग के लिए रचनाकर्म का चुनौतीभरा काम सफलतापूर्वक करते हुए राष्ट्रीय स्तर पर व्यापक सम्मान और पुरस्कार प्राप्त किए हैं। उनकी कई पुस्तकों का विभिन्न भारतीय भाषाओं व अंग्रेजी में अनुवाद हुआ है। 
               संपर्क- सी.एच. 78, दीनदयाल नगर, सुखलिया, इंदौर म.प्र.
              Email- meenaksheeswami@gmail.com, http://meenakshiswami.blogspot.in

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष