October 23, 2010

टेस्ट ट्यूब बेबी के 'जनक' का सम्मान

दुनिया भर के नि:संतानों की सूनी गोद आबाद करने का तरीका इजाद करने वाले 85 वर्षीय प्रोफेसर रॉबर्ट एडवड्र्स को वर्ष 2010 के मेडिसिन के नोबेल पुरस्कार के लिए चुना गया है। टेस्ट ट्यूब बेबी के जनक माने जाने वाले ब्रिटिश फिजियोलॉजिस्ट प्रोफेसर एडवड्र्स को पुरस्कार के रूप में 15 लाख डॉलर की राशि मिलेगी। उनके काम को चिकित्सा क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर माना गया है।

1978 में विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) तकनीक से पहले टेस्ट ट्यूब बच्चे का जन्म हुआ था। तब से अब तक करीब 40 लाख दम्पत्ति इस तकनीक का सफलता पूर्वक इस्तेमाल कर चुके हैं। इस विधि को विकसित करने में प्रो. एडवड्र्स का साथ दिया था स्रीरोग विशेषज्ञ पैट्रिक स्टेपटो ने, जिनकी करीब एक दशक पहले मौत हो चुकी है।
प्रो. एडवड्र्स की उपलब्धि को इसलिए भी बड़ा माना जाता है क्योंकि शुरूआत में इनकी खोज का सबने विरोध किया था। चर्च से लेकर सरकारों तक, यहां तक कि मीडिया भी इस खोज के खिलाफ था। इस वजह से उन्हें निजी स्तर पर फंड जुटाना पड़ा था। एडवड्र्स ने 1955 में इस दिशा में काम करना शुरू किया था। वे 1968 में पहली बार प्रयोगशाला में मानव डिंब को निषेचित करने में सफल हुए। निषेचित डिंब को माता के गर्भ में स्थापित करने का काम उन्होंने 1972 में शुरू किया। शुरूआती विधि सफल नहीं हुई और कई महिलाओं को गर्भपात कराना पड़ा। यह गलत हार्मोन ट्रीटमेंट के कारण हो रहा था। इसके बाद 1977 में उन्होंने नई विधि विकसित की जिसमें हार्मोन का इस्तेमाल करने के बजाय सही टाइमिंग पर जोर दिया गया। आज स्थिति यह है कि पश्चिमी देशों में लगभग दो फीसदी बच्चे इसी तरीके से पैदा हो रहे हैं।
इसके बाद ही अगले साल, 25 जुलाई 1978 को प्रथम टेस्ट ट्यूब बेबी लुइस ब्राउन का जन्म हुआ। प्रो. एडवड्र्स को नोबेल पुरस्कार देने पर प्रतिक्रिया देते हुए लुइस ब्राउन ने कहा, 'यह बेहद अच्छी खबर है। मैं और मेरी मां (लेस्ली) दोनों खुश हैं कि आईवीएफ के जनक को वह सम्मान मिला जिसके वे हकदार हैं। उन्हें और उनके परिवार को हम निजी तौर पर बधाई देते हैं।'
लुइस के जन्म के बाद चिकित्सा विज्ञान की नैतिकता को लेकर सवाल उठाए गए। धार्मिक नेताओं ने इसका जबरदस्त विरोध किया। लोगों ने यह सवाल भी उठाए कि क्या टेस्ट ट्यूब बेबी विकसित होकर एक सामान्य वयस्क बनेगा? कैरोलिंस्का इंस्टीट्यूट ने कहा है, दीर्घकालीन अध्ययन ने साबित किया है कि आईवीएफ बच्चे दूसरे बच्चों की तरह ही स्वस्थ हैं। टेस्ट ट्यूब बेबी के सामान्य होने के सभी संदेह तब दूर हो गए जब 2006 में पहली टेस्ट ट्यूब बेबी लुइस ब्राउन ने अपने बच्चे को जन्म दिया। गौरतलब है कि लुइस ने अपने पति वेस्ली मुलिंडर से प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण किया।
आज इस पद्धति का उपयोग सबसे ज्यादा भारत में हो रहा है, क्योंकि यह सुविधा सबसे कम खर्च पर यहां उपलब्ध हो जाती है। यही वजह है कि न केवल भारत के बल्कि विदेशों के बांझ दंपत्तियों के लिए भी गुजरात का आनंद शहर मन की मुराद पूरी करने वाला तीर्थ बन गया है।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष