October 23, 2010

बगैर सीमेंट और कॉन्क्रीट की इमारत

जर्मनी का शहर आखन अपने तकनीकी विश्वविद्यालय के लिए मशहूर है। यहां के टेक्सटाइल टेकनीक इंस्टीट्यूट की जो नई इमारत है, इसमें एक खास बात है। जो शायद सामने से देखने पर जान नहीं पड़ती। लेकिन इस इमारत की जो डिजाइन है वो सिविल इंजीनियरिंग के क्षेत्र में क्रांति है। इसमें सीमेंट और कॉन्क्रीट का इस्तेमाल नहीं किया गया है बल्कि इसे संस्थान में विकसित किए गए खास बिल्डिंग मटेरियल से बनाया गया है। ये दीवारें टेक्सटाइल से बनी हैं।

कपड़े नहीं- टेक्सटाइल सुनते ही हमारे दिमाग में कपड़े, पुलोवर, चादरें, पैंट्स शर्ट्स आते हैं लेकिन टेक्सटाइल का मतलब है कार्बन, कार्बन फाइबर या फिर ग्लास यानी कांच से बनाया गया मिश्रण। सिविल इंजीनियर मीरा एकर्स बताती हैं, 'इस टेक्सटाइल की संरचना भी अलग होती है। ग्लास का फाइबर अलग होता है उन्हें एक दूसरे के ऊपर रखा जाता है इसके बाद इसे खास प्रक्रिया से मजबूत किया जाता है जोड़ा जाता है।'
इस जाली पर फिर एक तरल मिश्रण डाला जाता है जिसे कड़ा होने के लिए छोड़ दिया जाता है। इस कड़े टेक्सटाइल मिश्रण की क्षमता पारंपरिक सीमेंट कॉन्क्रीट जैसी ही हो सकती है।
उतना ही मजबूत- शुरुआत में कई देशों में पूरी इमारत इस नए मिश्रण से नहीं बनाई गई कुछ- कुछ हिस्से ही इस टेक्सटाइल मिश्रण से बनाए गए। अमेरिका, इस्राएल, ग्रीस, जापान में इस नए तरीके से इमारतें बनाई जा रही हैं पर कुछ ही हिस्से। जर्मनी की कोशिश है कि पूरी इमारतें ही इस नई सामग्री से बने। यही प्रयोग आखन में किया गया। इंजीनियर स्टेफन यानेत्स्को ने बताया, 'हमने इस नई इमारत की डिजाइन आर्किटेक्चर्स के साथ मिल कर बनाई थी। इसलिए हमने सोचा कि क्यों नहीं नए मिश्रण का इस्तेमाल कर ये इमारत बनाई जाए। इससे हम इस नए मिश्रण की क्षमता भी आसानी से दिखा सकते हैं। इस संस्थान इनोटेक्स की ये पहली इमारत है जिसकी हर दीवार टेक्सटाइल वाले मिश्रण से बनी है।' इसके बाद कई इमारतों में सफलतापूर्वक इस तकनीक का इस्तेमाल किया गया। आखन में राइनलैंड वेस्टफेलिया के तकनीकी संस्थान आरडबल्यूटीएच के प्रोफेसर योसेफ हेगर ने बताया कि 'अब हमने 10 से 12 इमारतों में इस नए मिश्रण का उपयोग किया है हमें उम्मीद है कि आने वाले समय में नए प्रोजेक्ट हम बनाएंगे और व्यापक तौर पर टेक्सटाइल वाले सीमेंट का इस्तमाल होने लगेगा। ये पहले प्रोटोटाइप हैं। हालांकि ये तकनीक अभी सस्ती नहीं लेकिन आने वाले समय में हम और बड़े प्रोजेक्ट्स बनाएंगे तो अपने आप ये सस्ती होने लगेगी।'
नो टेंशन- टेक्सटाइल से बनने वाले इस सीमेंट की कुछ खास बातें हैं। जैसे कि ये भारी नहीं होता। चूंकि इसमें पत्थर चूना लोहा इस्तेमाल नहीं होता इसलिए इससे बनी दीवारें मोटी भी नहीं होंगी। सामान्य सीमेंट की दीवारें जहां 10 सेंटीमीटर की होती हैं वहीं इस नए मिश्रण से बनी दीवार सिर्फ ढाई तीन सेंटीमीटर की होगी। लोहा जंग खा जाता है। इस मटेरियल में वो समस्या ही नहीं है 'लोहे को जंग से बचाने के लिए सीमेंट की आठ दस सेंटीमीटर की परत उस पर चढ़ानी पड़ती है। लेकिन टेक्सटाइल वाले मिश्रण के इस्तमाल से दो ढाई सेंटीमीटर की ही दीवार बनेगी। इससे महीन कंस्ट्रक्शन किया जा सकता है। ये मुख्य बात है।'
बढ़ती जनसंख्या के साथ दुनिया भर में मकानों की संख्या भी बढ़ रही है। स्टील महंगा हो रहा है और सीमेंट भी। तो घर भी महंगे हो रहे हैं और घर बनाने का सपना भी। तो कीमत को कम करने के लिए ये नया सीमेंट या कहें टेक्सटाइल का मिश्रण बहुत स्तर पर कीमत घटाएगा पर मजबूती बनी रहेगी वैसी ही।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष