May 14, 2020

तीन लघुकथाएँ

1. लोकतंत्र
-कृष्ण मनु 
बूढ़ा सोमर बड़ी कठिनाई से अपनी झोपड़ी के देहरी तक आ सका। एक मिनट की भी देर होने पर वह रास्ते में ही बेहोश हो सकता था । बाबू साहब के खेतों में कभी दिन-दिन भर काम करने वाले सोमर के जर्जर शरीर में अब चार कदम चलने की भी शक्ति नहीं बची थी ।
आहट पाकर हुक्का गुड़गुड़ाती हुई बुढ़िया बाहर आयी। देहरी पर उसका मरद बैठा हाँफ रहा था। वह उसे सहारा देकर खाट पर सुलाती हुई बिगड़ने लगी-मैं पहिले ही कहत रह्यो कि इ कलमुँहन के बात पर मत जाओ । भला देखौ तो कैसे बुढ़ऊ को अकेला छोड़ दिहिन नासपीटेन। लै जाए के टैम तो जीप लै आएखुशामद करत रहे कि चलो बाबा भोट दै दो  आऊ भोट पड़तै छोड़  दिहिन।  का कहैंअपना पैसा ही खोट तो परखैया के का दोस। बुढ़ऊ को कितना मना कियादम्मे के रोगी हौकहाँ जात हौपै मेरी कौन सुनत हैझट जीप पर जाय बैठे ।”
बूढ़े के पानी माँगने पर बुधनी का प्रलाप रुका।  वह टीन के मग में पानी देती हुई बोली- ठीक हौ नई धूप और गरमी मा परेसान होबे से का फायेदा रहा?”
पानी पीकर बुढ़ा कुछ स्वस्थ हो गया था। बोला-  चुप ससुरीतू का जाने फायदा नुकसान की बात?”
इस पर बुढ़िया किलस गई- जा जा देख लिन्हि तोरी अकलमंदी । दुसमन के भोट दै के आयी गये । हम पूछत हैंनरेंदर बबुआ कौन हैवही जमींदार के बिटवा नजो तोहे आऊ तोहरे बाप को उल्टा टंगवाय के पिटवाया करत रहा । बाँस से बाँसे न  फूटी। अब ई खद्दड़ के धोती-कुर्ता पहिन के घूमत है । कल तक तो गुंडई करत फिरत रहा । औ ओ ही के तू वोट दिएवा । तोरे जाए के बाद बेचारा लाल झंडी वाला आया रहा। कहत रहावही गरीबन के राज दिलावे वाली पार्टी है। तोसे ओहका भोट देते न बना ।”
अपनी जाति के उम्मीदवार को वोट न देने के कारण बेटे की डांट खा कर सोमर पहले से ही झुंझलाया थापत्नी को लाल झंडी वाले की तरफदारी करता देख वह आपे से बाहर हो गया- चुप रह हरामजादीजबान लड़ाय रही है । तुम लोगन के कहे में रहतेब तो अबकिऊ कुछ हाथ न अउएतै। कुछ नहीं तो कम से कम महीनन से अंधेरी पड़ी झोपड़िया में कुछ दिन ढिबरी तो जली ।” कहते हुए बूढ़े ने टेंट से दस का नोट निकाल कर पोते को दिया- ” ले रे बिदेसियामिट्टी का तैल लै आ रे ।”
2. सार्थक सोच
      पिछले चार दिनों से वह इस टापू में पड़ा था। हाँ,  इस जगह को वह टापू  ही कहेगा। जहाँ  के रहवासियों के बोल- चालरहन-सहनबात -विचार उसकी संस्कृति से बिल्कुल भिन्न हो वह उसके लिए टापू ही तो है। वह अजनबी बना फिरता है। न किसी से बात न उससे कोई बतियाने वाला ।
पौ फटने के पहले वह दूर तक चली गई लम्बी सपाट सड़क पर टहल कर चला आता है। फिर अकेला किताबों में खो जाता है। मन थका तो सो जाता है। सोये नहीं तो क्या करे। पोते पोती स्कूल चले जाते हैं । बहू बेटा अपने – अपने काम पर।
एक दिन सवेरे टहलने के क्रम में अपने सरीखा आदमी दिखा तो खुद को रोक न सकाखड़ा हो गया। उसके हाथ में एक बड़े से डॉग  के गले में बंधे पट्टे का डोर था। वह उस डरावने डॉग को अपनी ओर खींचने का प्रयास कर रहा था। एक क्षण लगाया सोचने में कि उसे डरावने कुत्ते के साथ उस आदमी से बात करनी चहिए या नहीं  और दूसरे ही पल वह उसके और समीप चला आया । वह उसे सम्बोधित करनेवाला था कि उसकी नजर उसकी तरफ उठ गई । वह भी पारखी निकला। उसकी नजर की मीठास चुगली कर गई । समझ गया कि यह शख्स भी अपने बीचवाला है। उसे कुछ कहने के पहले वह सलीके से नमस्कार कहते हुए बोला-‘शायद आप नये- नये आये हैंसाहब । मैं दो तीन दिनों से आप को देख रहा हूँ । बात करने का मन करता था मेरा लेकिन शायद आप बुरा मान जायेंगे इसलिए टोकटाक नहीं किया ।’
फिर तो उन दोनों के बीच बातचीत का सिलसिला चल निकला ।
बात- बात में उसने बताया कि वह दसवीं तक पढ़ा है। घर पर बेकार बैठा था। उसके चाचा जो यहाँ सेक्युरिटी गार्ड हैं,  एकदिन साथ लेते आए और एक धनी परिवार में उनके कुत्ते की देखभाल करने के लिए रखवा दिया। तब से वह यहीं है । परिवार घर पर है। साल में एक बार गाँव जाता है ।
जब उसने उससे पूछा कि क्या वह इस काम से संतुष्ट हैकैसे कह पाता है वह गाँव जेबार में कि वह कुत्ते का देखभाल करता हैउसे शर्म नहीं आती?
उसके जवाब ने तब उसे  लाजवाब कर दिया था ।
उसने चेहरे पर निश्छल मुस्कान लाते हुए कहा था- शर्म काहे का साहबइसमें बुराई क्या है । चाकरी करके पेट तो पालना ही था। धूर्तबेईमान आदमी की चाकरी से तो बेहतर यह स्वामी भक्त , निरपराधसीधे-सादे जानवर की चाकरी है। फिर दोहरा लाभ भी तो है। सवेरे का घूमना टहलना भी हो जाता है, स्वास्थ्य  बना रहता है और पैसे भी मिल जाते हैं ।
उस रात वह उसकी संतुष्टि और सार्थक बातों के बारे में देर तक सोचता रहा। वह कुत्ते की देखभाल करने वाला लड़का  रोना- धोना भी तो कर सकता था कि कम पैसे मिलते हैंकुत्ते के पीछे भागना पड़ता हैपढ़े-लिखे को यह निकृष्ट काम शोभा नहीं देता पर क्या करूँ , साहब किस्मत में  यही लिखा है। आदि आदि। जैसा कि अक्सर लोग कहते हैं ।
सार्थक सोच संतुष्ट जीवन के लिए कितना जरूरी है! एक अदना सा आदमी ने उसे सिखा दिया था ।
3. रास्ते
वे तीन थे
गाँधी मैदान में किसी बड़े नेता का जोरदार भाषण चल रहा था। उन दिनों चुनाव का मौसम था। आये दिन ऐसे दृश्य दिख जाते थे ।
भाषण समाप्त होते ही तीनों चल दिये ।
रास्ते में एक  ने पूछा- ‘‘ देखाकितनी भीड़ थी। मानो जन सैलाब  उतर आया हो ।”
दूसरे ने कहा-‘‘मैं कैसे देख सकता हूँ । मैं अँधा हूँ ।
फिर वह कहने लगा-‘‘ कितना बड़ा वक्ता था। तुमने उस नेता का भाषण सुना। गजब का सम्मोहन था उसकी आवाज में!”
पहले वाले के तरफ से कोई रिएक्शन नहीं पाकर वह थोड़ा नाराज हुआ- ‘‘कुछ बोलता क्यों नहींबहरा है क्या?” उसने कान के तरफ इशारा भी किया ।
‘‘हाँमैं बहरा हूँ ।”
दोनों ने तीसरे की ओर देखा-‘‘तुम तो न अँधे होन बहरे। बताओ हमें वह बड़ा नेता भाषण में बड़ी-बडी बातें कर रहा थाआश्वासन दे रहा था ।”
तीसरे ने हाथ के इशारे के साथ गले से गों-गों  की आवाज निकालते हुए बोलना शुरु ही किया था कि दोनों ने रोक दिया-‘‘रहने दोरहने दो। तुम तो गूंगे हो ।”
वे चुप हो गए ।
दो दिनों बाद उन्हें वोट देना था । एक ने कहा-‘‘ तुम किसे वोट दोगे?”
दूसरे ने, जो अँधा थाजवाब दिया-‘‘ उसेजो मुझे रोशनी देगा। और तुम?” उसने हाथ से इशारा किया।
‘‘ मैं उसे वोट दूंगाजो मुझे सुनने की शक्ति देगा ।”
फिर दोनों ने तीसरे से पूछा-” तुम किसे वोट दोगे?”
‘‘ जो मुझे आवाज देगा ।‘‘ उसने हाथ के इशारे से और गों-गों की आवाज के साथ समझाया।
 आगे रास्ता तीन भागों में बंटा था। उनके सामने  जाति, धर्म और राष्ट्रवाद के झंडे लहरा रहे थे। वे अपने-अपने रास्ते चल दिये ।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष