May 15, 2018

मोबाइल सत्संग

मोबाइल सत्संग
-       डॉ. संगीता गांधी
जीवन में कुछ ऐसे पल आते हैं, जो अनायास ही मन को गुदगुदा जाते हैं। उन पलों की खिलखिलाहट रिश्तों को प्रगाढ़ करने के साथ साथ एक नए माधुर्य से भर देती है।
ऐसे ही पलों को एक दिन मैनें अनुभव किया। मेरे पड़ोस की दादी माँ व उनके पोते की प्यार भरी नोंक-झोंक में।उस दिन बरसात हो रही थी।मैं बाहर अपनी बालकनी में बरसात का आनन्द ले रही थी। सामने वाले घर में रहने वाली दादी माँ ने आवाज़ लगाई। उनके बुलाने पर उनके घर गयी। दादी ने मुझे बिठाया और यूँ ही अपने जीवन के किस्से सुनाने लगीं। बातों- बातों में दादी ने एक बड़ा मनोरंजक किस्सा सुनाया।
एक दिन दादी घर में अकेली थी।
"व्योम बेटा ओ व्योम बेटाइ!" दादी पोते व्योम को पुकार पुकार कर थक गई थी।
व्योम था कि कानों में ईयर फोन लगाए फोन में मग्न था।
हार कर दादी घुटनों को पकड़ कर उठी।
व्योम के कमरे में जा कर दादी ने उसके कानों से खींच कर ईयर फोन हटाया।
थोड़े गुस्से में बोली : "इस मुए नासपीटे फोन से बाहर भी एक दुनिया है !"
"
तेरे माता -पिता बाहर गए हैं। दादी का ख्याल रखना ,तुझे बोलकर गए थे।तू है कि मेरा चिल्लाना भी न सुनता।"
"
ओके दादी ,बोलो क्या काम है?"
"
मुझे टी वी पर महात्मा जी का सत्संग लगा दे। मुझे चैनल सेट करना नहीं आता।
"
दादी ,क्या करोगी सत्संग सुनकर?"
"
चल बड़ा आया !ये क्या बात हुई।
सत्संग न सुनूँ तो क्या मैँ भी तेरी तरह इस मुए फोन से चिपकी रहूँ !"
"
यस दादी ,आज के युग में यह फोन ही सबसे बड़ा सत्संग है।"
"
ठहर जा दुष्ट !कितनी बातें बनाता है।"
"
दादी ,यहाँ बैठो मेरे पास।मैं आपको फोन सत्संग सुनाता हूँ।"
दादी कुछ हँसी और कुछ उत्सुकता भरी मुद्रा में सुनने लगी।
"
सुनो दादी,
"
यह मोबाइल वह वस्तु है जिसने मनुष्य को  एक ऐसे आत्मलोक में पहुँचा दिया है -जहाँ न कोई सम्बन्ध मुख्य है न भूख न प्यासबस चेतना का केंद्र है मोबाइल।"
"
पशु के अलावा अब इस संसार में एक मनुष्य ही ऐसा प्राणी शेष है ,जो चार्जर नामक बन्धन की डोर से बँधकर एक स्थान पर बिना इधर उधर विचरे शांत भाव से सिर झुकाओ आसन में बैठ सकता है।"
"
मोबाइल के लिए डेटा आवश्यक है।"
"
यह डेटा एक ऐसी वस्तु है जिसके द्वारा तुम एक स्थान पर स्थिर होते हुए भी बिना सूक्ष्म शरीर अथवा आत्मयात्रा के भी संसार भर का समाचार पल में पा सकते हो। तो अब यही सत्य है बाकी सब मोह- माया है।"
दादी ज़ोर से हँसी। व्योम का माथा चूमते हुए बोली
"
महाराज , आपका मोबाइल सत्संग सुनकर तो मेरा जन्म सफल हो गया ।"
"
आयुष्मान देवी! तो अब गुरुदेव को दक्षिणा दीजिए  और बढ़िया से पकौड़े बना कर खिलाइए।"
"
जो आज्ञा गुरुदेव।"
दादी व व्योम रसोई में पकौड़े बना रहे थे ।उनके ठहाके बाहर तक गूँज रहे थे।
दादी की इन बातों को याद कर ज़ोर -ज़ोर से हँस रही थी औरमैं भी ठहाके लगाने से स्वयं को नहीं रोक पायी।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष