March 24, 2018

पर्यावरण

ऐसे बचें प्लास्टिक के इस्तेमाल से
प्लास्टिक और बीपीए के बारे में ऐसा कहा जाता है कि यह हमारी एंडोक्राइन से जुड़ी समस्याओं को बढ़ाने का काम करता है। इससे कैंसर का भी खतरा रहता है। यही वजह है कि ज्यादातर लोग प्लास्टिक का इस्तेमाल करने से बच रहे हैं। वो इसकी जगह पर दूसरे धातुओं से बने बर्तनों जैसे कि ताँबे की बोतल या गिलास का इस्तेमाल कर रहे हैं। यहाँ हम आपको ऐसे ही कुछ तरीकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप प्लास्टिक का इस्तेमाल करने से बचें और स्वस्थ रहें।
सभी प्लास्टिक की वस्तुओं पर एक संख्या लिखी रहती है। यह एक त्रिकोणीय चिह्न है, जिसमें एक संख्या के साथ तीर उकेरे हुए होते हैं। संख्याएँ उपभोक्ताओं को प्लास्टिक के ग्रेड के बारे में बताती हैं कि वो दोबारा इस्तेमाल के लिए सही हैं या नहीं। लगभग सभी प्रकार के प्लास्टिक से भोजन में विषाक्त पदार्थ रिसते हैं, लेकिन संख्या 2, 4, 5 सुरक्षित माने जाते हैं, जबकि 1 और 7 को सावधानी के साथ प्रयोग करना चाहिए 3 और 6 को बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।
पानी पीने में भी बरतें सावधानी
अगर आप किचन में एक मटका रखना चाहें तो यह एक अच्छा विचार हो सकता है। पीने का पानी मिट्टी के बर्तनों में रखना चाहिए क्योंकि, यह सेहत के लिहाज से बहुत फायदेमंद होता है। इसके अलावा आप चाहें तो तांबे के गिलास और बोतल भी खरीद सकते हैं।
कपड़े के बैग का इस्तेमाल करें
ये पर्यावरण के अनुकूल होते हैं और प्लास्टिक का एक अच्छा विकल्प हो सकते हैं। हम अक्सर किराना और सब्जियाँ पॉलीथीन बैग में लेकर घर आते हैं, जो पर्यावरण को भी नुकसान पहुँचाते हैं और हमें भी। वहीं कपड़े से बने बैग ठीक ठाक रहें इसके लिए इनकी समय-समय पर सफाई करनी चाहिए। वरना इसमें गन्दगी और बैक्टीरिया भर सकते हैं।
डिस्पोजेबल बर्तन से बचें
डिस्पोजेबल बर्तन सुविधाजनक होते हैं लेकिन हमारी सेहत के लिये कई तरीकों से नुकसानदेह हो सकते हैं। इसके बजाय आप सूखे पत्तों से बनी बर्तन या पत्तल जैसी चीजों का इस्तेमाल कर सकते हैं जो बायोडिग्रेडेबल होते हैं और आपकी सेहत के साथ पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुँचाते।
ऑफिस के लिए एक मग खरीदें
थर्मोकोल या प्लास्टिक के कप से कॉफी पीना थॉयराइड जैसी हार्मोनल समस्याओं का कारण हो सकता है। गर्म पेय पदार्थों में बीपीए जैसे विषाक्त पदार्थ घुल जाते हैं और हमारे शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। इसलिए ऑफिस में चाय-कॉफी पीने के लिए एक मग ले जाकर वहाँ रखें।
प्लास्टिक के डब्बों में खाना गर्म करने से बचें
कुछ प्लास्टिक माइक्रोवेव के अनुकूल नहीं होते हैं। माइक्रोवेव में इन डब्बों को रखने से पहले हमेशा प्लास्टिक कंटेनर के ग्रेड की जाँच करें। ओवन के अन्दर काँच या उन चीजों का इस्तेमाल करें जो माइक्रोवेव के अनुकूल हो सकती हैं।
ताजा खाएँ
डब्बाबन्द भोजन खाना कम करें। इसके बजाय फ्रेश चीजें खाएँ। टिन के डब्बे में अन्दर की तरफ प्लास्टिक की परत होती है और यह प्लास्टिक आपके भोजन में घुलकर नुकसान पहुँचाता है।
सिरेमिक जार का प्रयोग करें
काँच या सिरेमिक की तुलना में प्लास्टिक की चीजें सुविधाजनक तो लगती हैं लेकिन अध्ययनों से पता चलता है कि प्लास्टिक पीईटी डब्बों में तेल, मसालों और अनाज जैसी चीजें रखने से एंटीमोनी और बीपीए जैसे विषाक्त पदार्थ भोजन में घुल सकते हैं। इसीलिए थोड़े अधिक पैसे खर्च करके काँच, सिरेमिक या धातुओं के डब्बे खरीदें। (इंडिया वॉटर पोर्टल से)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष