March 24, 2018

विचार

इन्सानी खोपड़ी 
- चन्द्रप्रभा सूद
इन्सानी खोपड़ी को प्राय: शैतानी खोपड़ी कहा जाता है, क्योंकि यह सदा खुराफातें करती रहती है। जब मनुष्य देश, धर्म, परिवार या समाज के नियमों के विपरीत कार्य करता है तब उसे उल्टी खोपड़ी वाला कहा जाता है। जब तक यह मनुष्य जीवित रहता है उसकी खोपड़ी उल्टी-सीधी चालें चलकर अपना मनोरथ सिद्ध करती रहती है। उसके मरने के पश्चात तान्त्रिक लोग इसका उपयोग करते हैं। इसके माध्यम से वे अपने मारण-उच्चाटन आदि के मनचाहे कार्य करते हैं।
इस खोपड़ी में जो कुछ भी डालो वह बाहर निकल जाता है। इसलिए मनुष्य की की खोपड़ी खाली ही रह जाती है। तभी यह कहा जाता है कि कुछ समझ में आ रहा है कि खोपड़ी में भूसा भरा है? इसका एक कारण यह भी है कि मनुष्य सदा उधेड़-बुन करने में व्यस्त रहता है। किसको पटकनी देनी है? किसे नीचे गिराना है? किसे ऊपर उठाना है? किसकी हाँ में हाँ मिलनी है? किसे बरबाद करना है?
यानी शह और मात का खेल यह मनुष्य अनवरत खेलता रहता है। चाहे उसे इससे कुछ हासिल हो चाहे न हो। मनुष्य की महत्त्वाकांक्षाएँ ही इसका प्रमुख कारण हैं। और अधिक, और अधिक पा लेने की उसकी मानसिकता उसके विवेक का हरण कर लेती है। तब उसे गलत और सही में कोई अन्तर नहीं दिखाई देता। उसके मन में घर करने वाला लालच उसे अन्धा बना देता है। उस समय वह भूल जाता है कि - लोभो मूलमनर्थानाम्
अर्थात् लोभ सभी अनर्थों की जड़ है या कारण है। मनुष्य को ज्ञात ही नहीं हो पाता और यही लोभ एक दिन उसके विनाश का कारण बन जाता है।
यदि मनुष्य की इस खोपड़ी को संसार की सारी सम्पदाओं और ऐश्वर्यों से भर दिया जाए तब भी यह खाली की खाली ही रह जाती है। यह कभी भरी हुई नहीं रह सकती। यह केवल मात्र लोभ, तृष्णाओं और आकांक्षाओं से ही सदा भरी हुई रहती है। न इन्हें मिटाया जा सकता है और न इन्हें तृप्त ही किया जा सकता है। इन पर नियन्त्रण करके अपने वश में कर सकते हैं।
 विचारणीय तथ्य हमारे समक्ष यह आता है कि यदि एक मनुष्य के लोभ का पात्र इतना बड़ा हो सकता है तो संसार के सभी मनुष्यों के इन पात्रों को भी एक साथ जोड़ दिया जाए तब परिणाम क्या आएगा? उस समय स्थितियाँ कैसी दिखाई देंगी? संसार के हालात कैसे हो जाएँगे? इन सभी प्रश्नों के उत्तर हम लोगों को ही खोजने होंगे।
इसके उत्तर में हम केवल यही कह सकते हैं कि संसार में चारों ओर त्राहि-त्राहि मच जाएगी, जैसे कि आजकल हो रहा है। हर ओर बस अराजकता का ही साम्राज्य हो जाएगा। जिधर देखो मारकाट होती दिखाई देने लगेगी। एक इन्सान दूसरे को मानो खा जाने के लिए तैयार हो जाएगा। उसके मन में पश्चाताप जैसी कोई बात नहीं आएगी।
मनुष्य लोभ उसके आध्यात्मिक बल को हानि पहुँचाता है। अग्नि में जब हम घी या लकड़ी डालते हैं तब वह और अधिक प्रज्वलित होकर धधकने लग जाती है। इसी प्रकार ऐसे लोग स्वयं तो सुलगते ही रहते हैं अथवा अशान्त रहते हैं और अपनों के अवसाद का कारण भी बन जाते हैं। मनुष्य की बढ़ती हुई कामनाएँ उसके सुख-चैन को भस्म कर देती हैं। उसके दिन-रात का आराम तक छीन लेती हैं और उसे कोल्हू का बैल बना देती हैं।
जब तक मनुष्य ईश्वरीय वरदान अपनी इस बुद्धि का उपयोग अपने विवेक से नहीं करेगा तब तक इन समस्याओं का समाधान नहीं हो सकता। समय रहते उसे अपनी महत्त्वाकाँक्षाओं को नियन्त्रित कर लेना होगा और अपने मन में सन्तोष का भाव लाना होगा। अन्यथा जीवन-पर्यन्त वह भटकता ही रहता है। अपने दिमाग को या खोपड़ी को दुरुस्त रखने के लिए उसे स्वयं की महत्त्वाकांक्षाओं का दमन करना ही होगा। इस प्रकार करके मनुष्य अपनी आन्तरिक शक्तियों का सदुपयोग करके सकारात्मक रुख अपना सकता है।

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष