August 15, 2017

प्रकृति

        पंछियों की दुनिया से...
               - दीपाली शुक्ला
बालकनी में कबूतरों का डेरा न जमा होता तो पंछियों की दुनिया से जुडऩे का मौका ही न मिला होता। उनको देखना एक दिलचस्प  अनुभव है और उससे भी कहीं अधिक एक अनजानी दुनिया का सफर भी। उनकी सुंदरता ही नहीं उनका संघर्ष भी अन्दर तक छू जाता है। पेड़, ज़मीन, खेत कम हो रहे हैं और पंछी भी। तो ऐसे में एक कोशिश है कि पंछियों से, उनकी दुनिया से एक जुड़ाव बने ताकि पंछी और उनका वजूद इस दुनिया में बना रहे।
पंखों वाली पत्तियाँ
ठंड के कुहासे के बीच कहीं सूरज की झीनी सी रोशनी फैल रही है। झाडिय़ों की हरी-सूखी पातों की ओट से चीं-चीं की आवाज़ें आ रही हैं। पहले एक छोटी चिडिय़ा चिंचिंयाती झुरमुट से बाहर आई और एक सूखी शाख के सिरे पर बैठ गई। नन्हेें परों को झटकारते, गर्दन को इधर-उधर करते-करते वह हल्की  गरमाहट को अपने भीतर समेटने लगी। सूखी शाख उसके वज़न से हिल रही थी। अभी कुछ पल ही बीते थे कि एक और चिडिय़ा आ गई। आकार में कुछ बड़ी। उसको देखते ही चिंचिंयाहट हुई। कभी ज़ोर से तो कभी धीरे। फिर उस शाख पर एक और चिडिय़ा उग आई। देखते ही देखते पाँच-छह चिडिय़ों का पूरा कुनबा उस हिलती-डुलती शाख पर यूँ बैठ गया मानो शाख पर पत्तियाँ आ गई हों, पत्तियां पंखों वाली पत्तियाँ। सूखी शाख हौले से हिल रही है...
नाराजग़ी
पीलू लगातार हरिली को पुकार रहा था। पर हरीली थी कि न जाने कहाँ छुपकर बैठी थी। कल पीलू ने हरीली को कुछ कहा था जो उसको अच्छा  नहीं लगा। पीलू ने ऊपर-नीचे, फूलों के गुच्छों  में, कोटर में हर जगह हरिली को ढूंढा। उसकी टरररर....करररर...सुनकर बुलबुल और गौरेया तक पेड़ों की पत्तियों की ओट से बाहर निकल आईं। क्या तुमने हरीली को देखा। नहीं। क्या तुम्हें हरीली दिखी। नहीं। पीलू ने कुछ पीले फूलों को खाया। फिर कुछ देर चुपचाप बैठा रहा। और फिर पुकारने लगा।  लेकिन हरीली पेड़ के एक सिरे पर दूसरी ओर मुँह किए बैठी रही।  
कतार
बरसात धीमी हो चली है। और सूरज बरसाती बादलों के पार हो गया है। सतरंगी चांदा और चंद फुहारें। आम के पेड़ से धीरे-धीरे आवाज़ें तेज हो चली हैं। पानी से तरबतर, गदबद चिडिय़ा एक-एक करके तार पर बैठ गई हैं। कुछ चुप्प हैं और सिरे पर बैठी हैं। कुछ एक-दूसरे से बातों में मगन हैं। एक पंखों को फटकारते ऊपर उड़ी, पानी से बाकी तर हुईं। फिर सब पंखों से पानी झाडऩे लगीं। सब फिर गीली हुईं। तार और चिडिय़ों के ठीक पीछे चांदा धीरे-धीरे मिटने लगा।
भूख
बारिश जारी थी। तोतों को भूख लगी थी, ज़ोरों की भूख। पानी के कारण कुछ दिखाई ही नहीं दे रहा था। पूरा दल भीगी पत्तियों से टपकते पानी में पंखों को समेटे डालियों में दुबका हुआ था। दोपहर बीत चुकने को थी कि बरसात की गति थमने लगी। सब उड़ चले।
एक फलियों से लदा पेड़ दिखा। सब ने उस पेड़ का रूख किया। तुरन्त फलियों को खाने की होड़ लगी। भूख इतनी थी कि उलटते लटकते, कभी एक-दूसरे को धकियाते तोतों ने बिना समय गँवाए खूब सारी फलियाँ चटकर डालीं। बड़े तो बड़े, छोटे भी पीछे न थे। फिर बौछारें तेज़ हुईं और पेड़ से तोतों का झुंड गायब हो गया।
वजूद
गर्मी में छांव, बरसात में छत, ठंड में धूप। सबको चाहिए। उस झाड़ी में जहाँ पूरा कुनबा रहता है। उस पेड़ पर जहाँ अलग-अलग कई कुनबे रहते हैं। उस मुंडेर पर जहाँ ढेर सारे पंछियों का बसेरा है। सब जूझते हैं अपनी-सी सूरतों से, कुछ अलग सूरतों से, कुछ आकार में अपने से बड़ों से। बिना इसके तो जगह मिलेगी नहीं मुट्ठी भर।  
धूप का टुकड़ा
शीशम ठंड से कांप रहा है। पत्तियाँ हरी, फिर पीली, फिर सुनहरे रंग में बदल गई हैं। कुछ पत्तियाँ अभी भी डालों पर टंगी हैं। पर सबसे ऊपर की पत्तियाँ अब विदा हो चुकी हैं। सूखी डालों पर बुलबुल भी बैठकर गुनगुनाहट का मज़ा लेना चाहती है, कोयल, मुनिया और चिडिय़ा भी। पर उस डाल पर तो कोई एक ही बैठ सकता है। शीशम बस देख रहा है। रोशनी के बढ़ते ही गिलहरी दौड़ रही हैं सूखे तने और डालों को गुदगुदी करतीं। उसे धूप के टुकड़ों की कोई फिक्र नहीं। बुलबुल और चिडिय़ा ने पँखों को ताना और धूप का स्वाद चखने को उड़ान भरी। बुलबुल और चिडिय़ा ने डाल हथिया ली। बाकी परिंदे देख रहे हैं। पेड़ के इर्द-गिर्द सुनहरी अलाव की आभा सूरज की रोशनी में चमक उठी है। 

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष