August 15, 2017

पर्यावरण

कैसे हो रहा है जल प्रदूषण 
             -राजेश कुमार काम्बोज
आज के इस दौर में जल प्रदूषण हमारे लिए एक विकट समस्या के रूप में सामने आ रहा है। इस समस्या का यदि समय रहते समाधान नहीं किया गया तो आने वाली पीढ़ी को इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी। हम जिस पानी का सेवन कर रहे हैं उसी पानी पर हमारे जीव-जन्तु भी निर्भर करते हैं । बढ़ रहे कारखाने एवम् गलत तरीके से पानी का इस्तेमाल पानी के प्रदूषण का कारण है।           आज विभिन्न प्रकार के कारखानों से आ रहा गन्दा पानी अनेक प्रकार के रसायनों से दूषित हो रहा है उदाहरण के तौर पर लें तो जो पानी पेपर मिल से निकलता है उसमें अधिक मात्रा में सल्फर पाया जाता है कुछ अन्य रसायन जैसे लिगनिंन, हमी सेल्यूलोस, सोडियम हाइड्रोक्साइड तथा वो सभी रसायन जो पेड़ों में पाए जाते हैं। इन रसायनों के मिल जाने के कारण जो दूषित पानी इन कारखानों से बहार आता है। उसका बायो कैमिकल ऑक्सीजन डिमांड तथा कैमिकल डिमांड  मात्रा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है और यह पानी जिस भी पानी के स्रोत में मिल जाता है उस पानी को भी जहरीला कर देता है। यह पानी आज के दौर में हमारे लिए चुनौती बना हुआ है।
 इसकी वजह से हमारे पानी के स्रोतों का टी. डी. अस. (total dissolved solids) भी बहुत मात्रा में बढ़ा हुआ है जो कि मनुष्य को अनेक प्रकार के कैंसर जैसे भयानक रोग प्रदान कर रहा है। भारत में इस तरह के बहुत सारे क्षेत्र पाये जाने लगे है जहाँ का पानी पीने से लोगों में कैंसर पाया जा रहा है  उदाहरण के तौर पर देखा जाये तो पंजाब के बरनाला एवम् बठिंडा के आस पास के क्षेत्रो में पानी का स्तर इसी प्रकार का पाया गया है। इन सब समस्याओं से निपटने के लिए आज हमें बहुत सतर्क रहने की आवश्यकता है और उन सभी कारखानों पर हमें और हमारी सरकार को दृष्टि रखनी होगी जो अपने दूषित पानी को सीधे ही हमारे जल स्रोतों में मिला रहे हैं।  हमारा इस समस्या से आज का समाधान ही हमारी आने वाली पीढिय़ों के लिए इस अमूल्य पेय जल को बचा पाएगा। जो ठोस कचरा पेपर मिल से निकलता है अगर हम उसे ऐसे ही धरती के तल  पर फैला  देंगे तो जब हमारा बरसात  का पानी या अन्य स्रोतों से निकला पानी  इसके संपर्क में आएगा तो उसमें भी वो सभी बीमारियों के कीटाणु एवम् रसायन मिल जाएँगे, जो इस प्रकार के कारखानों  में इस्तेमाल होते हैं।
यही मिश्रित रसायन पानी के पी. एच. की  मात्रा  को भी बढ़ा देते है  यदि अम्लीय रसायन पानी में मिल जाये तो पानी की पी. एच. कम हो जाती है और यदि क्षारकीय रसायन पानी में मिल जाये तो पानी की पी. एच. को बढ़ा  देते हैं। जो हमारे लिए बहुत घातक है क्योंकि अगर हम बात करे (WHO)यानी वर्ड हेल्थ आर्गेनाइजेशन की तो जो मापदंड इसके अनुसार हमारे पीने के पानी के होने चाहिये वह होते हैं साढ़े छ:  से साढ़े आठ पी. एच. यानि जो पानी हम पीते  हैं वह या तो न्यूट्रल होना चाहिए या फिर हल्का  सा क्षारीय। हमारे लिए यह बहुत जरुरी हो जाता है कि हमारे पानी का यह गुण उसमें होना चाहिए । इसे हम तभी बचा पायेगे यदि हम समय रहते इस पर ध्यान दें।
 अब अगर हम बात करे टी. डी. एस. की यानि टोटल डिसोल्वड सोलिड्स की तो जो पानी हमारी जमीन  के अंदर से हमें प्राप्त होता है उसके अंदर यह मात्रा बहुत ज्यादा पाई जाती है बहुत से पानी के नमूनों का परीक्षण करके हमें पता चला है कि जो पानी हमारी धरती के अन्दर से हमें प्राप्त हो रहा है उसका टी.डी.एस. 700 पी.पी.एम.से 900 पी.पी.एम. (Parts per million) के बीच आता है जो कि निर्धारित मात्रा से बहुत अधिक है क्योंकि पीने के लिए जो पानी सही है उसका पी.पी.एम. 50 से 150 के बीच होना चाहिए। अत: यह पानी भी पीने के काबिल नहीं बचा है इससे अनेक प्रकार की बीमारियाँ जैसे कुपोषण एवम् पेट से सम्बंधित बीमारियाँ यहाँ तक कि कैंसर जैसे रोग भी इस तरह के पानी के सेवन से हो रहे हैं । यह हमारे लिए एक विकट समस्या बनता जा रहा है अगर ऐसे ही हमारे कारखानों का पानी, धरातल के पानी से मिलता रहा तो वो दिन दूर नहीं जब हम बड़ी-बड़ी बीमारियों से ग्रसित हो जाएँगें  और हमारी आने वाली पीढिय़ाँ इस धरती पर जीवनयापन नहीं कर पाएगी।
अत: इन सब समस्याओं की रोकथाम करने के लिए हमारा जागरूक होना बहुत जरुरी है और यह हमारे पर्यावरण  बुद्धिजीवियों का पहला दायित्व बनता है कि वह उन सब कारखानों पर अपनी पैनी नजर रखें  जो सही से पर्यावरण नियमों का ध्यान नहीं रखते।

(अधिस्नातक  पर्यावरण विज्ञानं एवम् अभियांत्रिकी)
(M.Tech. in Environment Science and Engineering) Department of chemical Engineering SLIET Longowal, Distt. Sangrur Punjab-148106. M.No. 9779773491 mail id. Rkamboj21@gmail.com

2 Comments:

Kavita Bhatt said...

बहुत अच्छा आलेख, बधाई।

Kavita Bhatt said...

बहुत अच्छा आलेख, बधाई।

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष