October 20, 2015

अनकही

आस्था, परम्परा और विश्वास
- डॉ. रत्ना वर्मा
 उदंती का यह अंक तैयार करते समय मन में यही विचार था कि छत्तीसगढ़ की लोक संस्कृति, लोक पर्व, लोक परम्पराओं, लोक आस्था और लोक विश्वास को एक जगह संजोने का प्रयास किया जाए... पुरातन काल से ही हमारी लोक- परम्पराएँ और लोक विश्वास इस आधार पर अनदेखा कर दिए जाते हैं कि ये सब गाँव- गँवई के पुरातनपंथी ढकोसले हैं। लेकिन हम अपनी परम्पराओं को सिर्फ यह कह कर अनदेखी नहीं कर सकते कि ये सब पुरातन काल से चली आ रही हैं और आज इनके कोई मायने नहीं है। समय के अनुसार बदलाव जरूरी है; परंतु हम यह भी जानते हैं हमारे पूर्वजों ने जिन परम्पराओं को पीढ़ी- दर पीढ़ी चलाया है उसके पीछे कुछ तो निहितार्थ छिपा है।    
इस संदंर्भ में हम कुछ ऐसी परम्पराओं को ले सकते हैं;  जिनके महत्त्व को वैज्ञानिक भी नकार नहीं सकते। जैसे पेड़ों की पूजा- जिसमें तुलसी, आँवला, वट, पीपल आदि। इन सबकी पूजा के पीछे भले ही धार्मिक आस्था और व्रत उपवास को जोड़ दिया गया हो; पर इनकी पूजा के पीछे का कारण एकमात्र यही रहा है कि वृक्षों का जीवित रहाना हमारे जीवन के लिए आवश्यक हैं और इनको बचाया जाना जरूरी है। पेड़ों को बचाने के लिए जरूर इनके साथ कुछ अंधविश्वास जुड़ गए कि इन पुराने पेड़ों में भूत प्रेत का निवास होता है, ऐसा मैंने अपने गाँव में भी देखा-सुना है। मैं अपने जन्म से लेकर आज तक उस वृक्ष को हरा-भरा देख रही हूँ शायद उस विशाल वृक्ष की उम्र सौ साल से  भी ज्यादा होगी। इस वृक्ष के साथ अंधविश्वास कब और कैसे जुड़ गया मैं नहीं जानती लेकिन जब हम बच्चे खेलते हुए उस वृक्ष के पास जाते थे; तो वहाँ चढ़ावे के रूप में चूड़ी,सिंदूर बाँस की छोटी -छोटी टोकनी आदि रखी रहती थीं, तब हमें भी उस पीपल पेड़ के पास जाने में डर लगता था। खासकर जब अँधेरा छाने लगता था, तो उधर जाकर खेलने पर मनाही भी होती थी। शायद मनुष्य की बढ़ती लालची प्रवृत्ति को देखते हुए हमारे पूर्वजों ने ऐसा डर पैदा करके पेड़ों की रक्षा की होगी यह कहकर कि यदि उनकी पूजा न की गई, तो वे उनको नुकसान पँहुचा सकते हैं। या इन पेड़ों पर भूत प्रेतों का वास होता है ,यदि इन्हें काटोगे या इनकी उपेक्षा करोगे तो इनमें रहने वाली प्रेतात्माएँ तुम्हें परेशान करेंगी। नतीजा सामने है कि तब डर से ही सही ,पर आदि कालसे ही मनुष्यों ने इन वृक्षों की पूजा करके इनकी अंधाधुंध कटाई तो रोकी ही है?
इसी तरह अन्य वृक्षों को बचाकर रखने के लिए न जाने कब से हम पीढ़ी दर पीढ़ी पर्यावरण का पाठ अपने बच्चों को पढ़ाते आ रहे हैं।  अब तो स्कूलों में यह पाठ इसलिए पढ़ाया जाना जरूरी हो गया है ;क्योंकि हम अपनी धरती को धीरे धीरे वृक्ष विहिन करते चले जा रहे हैं। परिणाम सब देख ही रहे हैं एक के बाद एक कभी भूंकप ,कभी बाढ़ तो कभी सूखा।
यहाँ मैं इस अंक में शामिल पंकज अवधिया जी के एक लेख का उल्लेख करना चाहूँगी जो हरेली पर्वको ध्यान में रखकर हमारी आस्था परम्परा और विश्वास के आधार पर लिखा गया है । इस आलेख को जब आप पढ़ेंगे, तो आपको पता चलेगा कि किस तरह एक पर्व के बहाने हम रोग- निरोधक नीम की टहनियाँ घर -घर लगाते हैं और कई  रोगों से अपना बचाव करते हैं। इस पर्व में भले ही यह कहते हुए कि- नीम की टहनी लगाने से हमारे घर परिवर को किसी बुरी आत्मा की नजर नहीं लगेगी,हम अपने आस-पास के वातावरण को नीरोगी बनाते है।अवधिया जी ने सत्य ही तो कहा है बीमारी बुरी आत्मा ही तो है।
 सेहत की बात करें तो आज हम फिर अपनी उसी चिकित्सा पद्धति की ओर लौट रहे हैं ,जिसमें जड़ी- बूटियों से ही हर मर्ज की दवा की जाती थी, हमारे देश में ऐसे हजारों पेड़- पौधे हैं जिनसे अनेक बीमारियों का इलाज होता है, पर आज हम उन सबको भूल चुके हैं और बहुत सारे पेड़ पौधों को तो नष्ट भी कर चुके हैं। शुद्ध पर्यावरण, शुद्ध हवा और बेहतर स्वास्थ्य के लिए हमें अपनी पुरानी परम्पराओं पर फिर से विश्वास करना होगा और लोगों में इसके लिए आस्था जगानी होगी।
यहाँ कहना मैं यही चाह रही हूँ, कि हमारे सभी लोक विश्वास अंधविश्वास नहीं होते और न ही सभी लोक परम्पराओं को पुरातनपंथी कहते हुए नकार सकते। जब कोई मनुष्य अपने फायदे के लिए लोगों के डर का फायदा उठाते हुए अंधविश्वास फैलाए, तो उसका पुरजोर विरोध होना ही चाहिए। जैसे किसी स्त्री को टोनही बताते हुए उसे गाँव से बाहर कर देना या उसके साथ अत्याचार करना।  कहीं भी एक पत्थर रखकर उसे गेरू रंग से रंग कर लोगों को पूजा के लिए बाध्य करना फिर यह कहते हुए कि यह सिद्ध देवी है या देवता, यहाँ आपकी सभी मान्यताएँ पूरी होंगी, पुत्र की प्राप्ति होगी जैसी अपवाह फैलाकर धीरे- धीरे उस पत्थर के चारो ओर घेर लेते हैं और वहाँ विशाल मंदिर भी खड़ा कर लेते हैं फिर कुछ ही सालों में वहाँ नवरात्रि जैसे पर्व त्योहार के समय मेला भी भरने लगता है।यह सब काम हमारी शासन और प्रशासन की नाक के नीचे होता है पर वह समय रहते कुछ नहीं करती। बरसो पहले मैंने अपने गाँव जाने वाले रास्ते में एक ऐसे ही पत्थर को गेरूए रंग से रंगकर उसे पूजा स्थल बनाकर उस स्थान पर विशाल मंदिर खड़ा होते देखा है, अब वह मंदिर फोरलेन सड़क बनने के रास्ते में आएगा और बस फिर वहाँ भी विभिन्न राजनीतिक दल वोट बटोरने के लिए अपनी सियासी चाल चलेंगे, लेकिन समय रहते शुरू में उसका विरोध करने कोई नहीं आता। आपने अपने शहर में भी ऐसे कई धार्मिक स्थलों को पनपते जरुर देखा होगा। जनता इसका विरोध करना चाहती है; पर मामला जहाँ धर्म का होता है ,वहाँ सब पीछे हट जाते हैं ; क्योंकि धर्म के नाम पर बड़े–बड़े कांड होते सबने देखा है।
यहाँ आशय किसी की भावनाओं को, किसी की धार्मिक आस्था को ठेस पँहुचाने का नहीं है। कहना सिर्फ इतना ही है कि जीवन के प्रति आस्था और विश्वास कायम रहे।इस संसार को चलाने वाले के प्रति जब तक हम श्रद्धा भक्ति का भाव नहीं रखेंगे ,तो जीवन चल नहीं पाएगा। पर अंध श्रद्धा- अंध भक्ति किसी भी दृष्टि से उचित नहीं है। विरोध इन सब बुराइयों का होना चाहिए। इतना ही नहीं आजकल तो हमारे देश में ऐसे कई ढोंगी साधु महात्मा बने बैठे , जो अपने हजारों अनुयायी बनाकर जनता को लूट रहे है, ऐसे कई आज जेल की हवा खा रहे हैं ;पर हमारी भोली जनता फिर भी ऐसे लोगों की चपेट में क्यों और किस तरह आती है यह आश्चर्यजनक है। ऐसे ही अंधविश्वास को मिटाना है और जीवन में उत्साह और उमंग का संचार हो ऐसी आस्था लोगों के मन में जगाना है।   

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष