August 12, 2015

किस उम्र में शुरू हो स्कूल?

खेलकूद से ज्यादा सीखते हैं बच्चे

हमारे देश में स्कूली शिक्षा शुरू करने की उम्र लगातार कम होती जा रही है। कहीं-कहीं तो बच्चे को दो-ढाई साल की उम्र में ही स्कूल में डाल दिया जाता है और ये स्कूल नाममात्र के प्ले-स्कूल होते हैं। यहाँ बच्चों को वर्णमाला, गिनती, अंग्रेज़ी के शब्द सिखाने का औपचारिक सिलसिला शुरू कर दिया जाता है। मगर दुनिया भर में किए गए कई अध्ययन दर्शाते हैं कि ऐसा करना हानिकारक हो सकता है। कम से कम इतना तो स्पष्ट है कि जल्दी स्कूल भेजने से बच्चे को कोई फायदा नहीं होता।
इस संदर्भ में कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के विकास मनोवैज्ञानिक डेविड व्हाइटब्रेड और प्रारम्भिबचपन की शिक्षा की सलाहकार स्यू बिंगहैम ने वे तमाम प्रमाण प्रस्तुत करते हुए यू.के. सरकार से माँकी है कि स्कूल प्रारम्भ करने की उम्र को बढ़ा दिया जाए। फिलहाल इंग्लैण्ड में औपचारिक स्कूली शिक्षा की शुरुआत 4-5 साल की उम्र में हो जाती है।
ताज़ा बहस की शुरुआत प्रारंभिक शिक्षा के 130 विशेषज्ञों द्वारा प्रेषित एक पत्र के माध्यम से हुई है। इस पत्र में औपचारिक स्कूली शिक्षा की उम्र को 4 साल से बढ़ाकर 7 साल करने की माँ की गई है। दरअसल, इंग्लैण्ड में स्कूली शिक्षा की उम्र को घटाने का निर्णय 1870 में किसी शैक्षणिक वजह से नहीं; बल्कि इसलिए लिया गया था ताकि महिलाओं को काम पर लाया जा सके। आज भी सरकारी तौर पर यू.के. में साक्षरता व गणित शिक्षा की औपचारिक शुरुआत जल्दी से जल्दी करने और इन चीज़ों को बच्चों के मूल्यांकन में शामिल रखने का काफी ज़ोर है। हाँ तक कि शिक्षा विभाग तो कह रहा है कि 2 वर्ष के बच्चों को ही स्कूल में दाखिल कर देना चाहिए।
मगर बच्चों की दृष्टि से देखें तो प्रमाण यह है कि कम उम्र में उन्हें स्कूल में धकेलने से काफी नुकसान हो सकता है। इस बात के प्रमाण मानव वैज्ञानिक, मनोवैज्ञानिक, तंत्रिका वैज्ञानिक और शैक्षिक अध्ययनों से मिले हैं। मसलन, वर्तमान शिकारी-संग्रहकर्ता समाजों में बच्चों के खेलकूद और अन्य स्तनधारी प्राणियों में बच्चों पर किए गए अध्ययन दर्शाते हैं कि खेलकूद ने मनुष्य को बेहतर सीखने-वाला और गुत्थियाँ सुलझाने वाला बनाने में मदद की है।
तंत्रिका वैज्ञानिक अध्ययन भी इस बात का समर्थन करते हैं कि सीखने में खेलकूद केन्द्रीभूमिका निभाते हैं। मसलन, 2009 में प्रकाशित पुस्तक 'दी प्लेफुल ब्रेन- वेन्चरिंग टु दी लिमिट ऑफ न्यूरोसाइन्समें उन तमाम अध्ययनों पर गौर किया गया है जो यह दर्शाते हैं कि खेलकूद की गतिविधियाँ तंत्रिकाओं के बीच ज़्यादा जुड़ाव बनाने में मददगार होती हैं। खास तौर से तंत्रिकाओं के बीच जुड़ाव बनने की यह क्रिया मस्तिष्क के अगले भाग में देखी गई है जो उच्चतर मानसिक कार्यों में शामिल होता है।
इसी प्रकार से प्रायोगिक मनोविज्ञान ने दर्शाया है कि प्रारंभिक शिक्षा में अध्यापन की विधि की अपेक्षा खेलकूद से सीखने की प्रेरणा ज़्यादा मिलती है। वर्ष 2002 में स्कूल स्तर पर किए गए एक अध्ययन में स्कूल में छठे वर्ष के अंत में बच्चों की उपलब्धियों की तुलना की गई थी। पता चला कि जिन बच्चों का स्कूल-पूर्व जीवन 'शिक्षाकी ओर उन्मुख था उनकी उपलब्धियाँ उन बच्चों से काफी कम रहीं ,जिन्हें खेलकूद का माहौल मिला था।
इसी प्रकार का एक अध्ययन 2004 में यू.के. में किया गया था। 3000 बच्चों के इस अध्ययन का निष्कर्ष था कि ज़्यादा देर तक खेलकूद आधारित स्कूल-पूर्व अवधि का बच्चों की उपलब्धियों पर सकारात्मक असर होता है। न्यूज़ीलैण्ड में एक अध्ययन में पता चला है कि 5 साल की उम्र में शुरू करें या 7 साल की उम्र में, बच्चों की पठन क्षमता में 11 वर्ष की उम्र में कोई अंतर नहीं होता। और तो और, 5 साल की उम्र में शुरू करने वाले बच्चों का पढऩे के प्रति उत्साह जाता रहता है। इसी प्रकार का एक अध्ययन 55 देशों के 15-वर्षीय बच्चों पर किया गया था और इसमें भी पता चला था कि जल्दी औपचारिक शिक्षण शुरू करने से उपलब्धि में कोई अंतर नजऱ नहीं आता।

लगता है कि बचपन का स्कूलीकरण करने में बहुत जल्दी करने से फायदा तो दूर, नुकसान ही होने की आशंका ज़्यादा है। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष