February 10, 2015

लघुकथाएँः शेफाली पाण्डेय

प्रॉब्लम चाइल्ड
एक सरकारी इंटर कॉलेज का प्रार्थना स्थल। प्रार्थना का समय। पच्चीस अध्यापक एवं लगभग पाँच सौ छात्र एकत्र हैं। सर्वधर्म प्रार्थना के उपरांत राष्ट्रगान शुरू हुआ। कतिपय छात्र हमेशा की तरह देर से आ रहे हैं और राष्ट्रगान सुनकर भी चलना बंद नहीं कर रहे हैं। कुछ अपनी नाक में उंगली डालने में असीम आनंद अनुभव कर रहे हैं। किसी के सिर में ठीक इसी समय खुजली लग रही है।
बच्चों की इन हरकतों से नवनियुक्त प्रधानाचार्य का पारा सातवें आसमान पर पहुँच गया, 'यह क्या हो रहा है? बिना हिले- डुले खड़े नहीं हो सकते हो? इतनी जल्दी राष्ट्रगान खत्म कर दिया। हारमोनियम के साथ सुर क्यों नहीं मिलाते? जानते हो यह राष्ट्रगान का अपमान है, इसका अपमान करने पर जेल हो जाती है।'
एक वरिष्ठ अध्यापक ने साहब का समर्थन किया, 'साहब ये तो कुत्ते की पूँछ हैं, कितनी भी सीधी करो टेढ़ी ही रहती हंै। लाख समझाओ पर 'गुजरात' को 'गुज्राष्ट्र' ही कहेंगे, 'बंग' को 'बंगा' ही कहेंगे। हम लोग तो कहते- कहते थक गए हैं, अब आप ही कुछ कीजिए।' 'आप लोग चिंता मत कीजिए। आज पूरा दिन इनको यहीं अभ्यास करवाया जायेगा। जब तक बिना हिले सही उच्चारण करके नहीं गा लेंगे, घर नहीं जा पायेंगे', प्रधानाचार्य ने कड़क स्वर में आदेश सुनाया।
कक्षा बारह का एक छात्र उठकर बोला, 'माफ कीजिए सर, मेरा एक सुझाव है। यदि आप लोग भी हमारे साथ रोज राष्ट्रगान गायेंगे तो हमें जल्दी समझ में आ जाएगा।'
'जुबान लड़ाता है कमबख्त। क्या नाम है तेरा? चल, किनारे जाकर खड़ा हो जा। अभी तुझे ठीक करता हूँ',। प्रधानाचार्य को मानो बिच्छू ने डंक मार दिया हो।
दो तीन और वरिष्ठ अध्यापक भी मैदान में आ गए, 'साहब, यह प्रॉब्लम चाइल्ड है। इसने हमारी भी नाक में दम कर रखा है। हमसे कहता है की मेरी कॉपी रोज जाँच दिया कीजिए। अरे, हम लोग लेक्चरर लोग हैं, हमारा एक स्टैण्डर्ड है। हम क्या एल.टी.वालों की तरह कॉपियां जाँचते रहेंगे?'
और कोई दिन होता तो इसी बात पर एल.टी. वालों और लेक्चररों के बीच महाभारत छिड़ जाती, परन्तु आज अद्भुत एकता स्थापित हो गयी। सभी एक स्वर से बोल पड़े, 'हाँ, हाँ, बिल्कुल। टीचरों से राष्ट्रगान गाने के लिए कहता है। सारे स्कूल का अनुशासन बिगाड़कर रख दिया है। इसे आज अच्छा सबक सिखाइए, ताकि आगे से किसी की इतनी हिम्मत न पड़े।'
सारा स्टाफ उसे सबक सिखाने में जुट गया। कभी किसी बात पर एकमत न होने वाले गुरुजनों में आज गजब की एकता आ गयी थी।

 सच
'यह मेरे साइन नहीं हैं, बोलो तुमने ही किए हैं ना मेरे साइन'। सुमन ने कड़क कर पूछा।
'नहीं मैडम'। तथाकथित अंग्रेजी माध्यम में, कक्षा तीन में पढऩे वाली रेखा ने डरते हुए जवाब दिया। 'झूठ बोलती हो, हाथ उल्टा करके मेज पर रखो'।
रेखा ने सहमते हुए हाथ आगे किए। 'तड़ाक', सुमन ने लकड़ी के डस्टर से उसके कोमल हाथों पर प्रहार किया। रेखा रोने लगी। 'अगर तुम सच बोल दोगी तो मैं तुम्हें छोड़ दूंगी। 'बोलो, तुमने ही किए हैं ना मेरे साइन, हैं ना।'
'नहीं मैडम, मैं सच कह रही हूँ।'
सुमन गुस्से से पागल हो गई। 'तड़ाक, तड़ाक, तड़ाक... उसने मासूम हाथों पर अनगिनत प्रहार कर डाले।
रेखा से दर्द सहन नहीं हुआ तो उसने स्वीकार कर लिया कि साइन उसने ही किए थे। सुमन के चेहरे पर विजयी मुस्कुराहट तैर गयी। 'आखिरकार, सच उगलवा ही लिया।'
शाम को घर पहुँच कर सुमन ने कॉपियों का बंडल जांचने के लिए बैग से निकाला ही था कि उसका नन्हा बेटा खेलता हुआ वहां आ गया, 'मम्मी, मुझे तुम्हारी तरह कॉपी चेक करना बहुत अच्छा लगता है। प्लीज, एक कॉपी मुझे भी दे दो।'
सुमन का माथा ठनका, 'तूने कल भी यहाँ से कॉपी उठाई थी क्या?'। 'हाँ मम्मी, बहुत मजा आया। बिल्कुल तुम्हारी तरह कॉपी चेक की मैंने।' सुमन ने अपना माथा पकड़ लिया।
उधर, रेखा के माँ- बाप उसका सूजा हुआ हाथ देख कर सन्न रह गए। दिन- रात खेतों में कड़ी मेहनत करने वाले उसके माता- पिता का एकमात्र उद्देश्य यही था कि उनकी बेटी कुछ पढ़-
लिख जाए।
'आग लगे ऐसे स्कूल को। कल से मेरे साथ खेत पर काम करने चलेगी, समझ गई। बड़ी आई स्कूल जाने वाली।' माँ उसके नन्हे हाथों पर हल्दी लगाती जा रही थी और साथ ही रोए भी जा
रही थी।
सम्पर्कः  द्वारा प्रो. हरी कुमार पन्त
छोटी मुखानी, निकट सिंथिया स्कूल,
हल्द्वानी-263139 उत्तरांचल
मोबाइल-09897559986

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष