July 05, 2014

मिसाल


       कन्नाडा के किसान ए महालिंगा नाईकपोथी 

   सुरंग के रास्ते पानी

     - श्री पद्रे


  दक्षिण कन्नाडा के किसान ए महालिंगा नाईकपोथी की इकाई-दहाई नहीं जानते लेकिन उन्हें पता है कि बूँदों की इकाई-दहाई सैकड़ा हजार और फिर लाख-करोड़ में कैसे बदल जाती है।
58 साल के अमई महालिंगा नाईक कभी स्कूल नहीं गए। उनकी शिक्षा दीक्षा और समझ खेतों में रहते हुए ही विकसित हुई। इसलिए वर्तमान शिक्षा प्रणाली के वे घोषित निरक्षर हैं। लेकिन दक्षिण कन्नडा जिले के अडयानडका में पहाड़ी पर 2 एकड़ की जमीन पर जब कोई उनके पानी के काम को देखता है तो यह बताने की जरूरत नहीं रह जाती कि केवल गिटपिट रंटत विद्या ही साक्षरता नहीं होती। असली साक्षरता को प्रकृति के गोद में प्राप्त होती है जिसमें महालिंगा नाईक पीएचडी है। पानी का जो काम उन्होंने अपने खेतों के लिए किया है ,उसमें कठिन श्रम के साथ-साथ दूरदृष्टि और पर्यावरण का दर्शन साफ झलकता है।
महालिंगा नाईक बताते हैं कि पहले इस पहाड़ी पर केवल सूखी घास दिखाई देती थी। उनकी बात में कुछ भी अतिरेक नहीं है। आस पास के इलाकों में फैली सूखी घास उनकी बात की तस्दीक करती है। महालिंगा तो किसान भी नहीं थे। जबसे होश सँभाला नारियल और सुपारी के बगीचों में मजदूरी करते थे। मेहनती थे और ईमानदार भी । किसी ने प्रसन्न होकर कहा कि यह लो 2 एकड़ जमीन और इस पर अपना खुद का कुछ काम करो। यह सत्तर के दशक की बात होगी। उन्होंने सबसे पहले एक झोपड़ी बनाई और बीबी बच्चों के साथ वहाँ रहना शुरू कर दिया। यह जमीन पहाड़ी पर थी और मुश्किल में बडी मुश्किल यह कि ढलान पर थी। एक तो पानी नहीं था और पानी आये भी तो रुकने की कोई गुंजाईश नहीं थी। फसल के लिए इस जमीन पर पानी रोकना बहुत जरूरी था।
पानी रुके इसके लिए पानी का होना जरूरी था। अब मुश्किल यह थी कि पानी यहाँ तक लाया कैसे जाएकुँआ खोदना हो तो उसके लिए बहुत पैसे चाहिए थे। क्योंकि यहाँ से पानी निकालने के लिए गहरे कुएँ की खुदाई करनी पड़ती। फिर खतरा यह भी था कि इतनी गहरी खुदाई करने के बाद वह कुँआ पानी निकलने से पहले ही बैठ भी सकता था। इसलिए कुएँ की बात सोचना संभव नहीं था। तभी अचानक उन्हें पानी की सुरंग का ख्याल आया।
असफलताओं के बीच पानी की सुरंग
अब यही एक रास्ता था कि सुरंग के रास्ते पानी को यहाँ तक लाया जाए। पानी की सुरंग बनाने के लिए बहुत श्रम और समय चाहिए । दूसरा कोई होता तो शायद हाथ खड़े कर देता लेकिन महालिंगा नाईक ने अपनी मजदूरी भी जारी रखी और सुरंग खोदने के काम पर लग गए। वे किसी भी तरह पानी को अपने खेतों तक लाना चाहते थे ;क्योंकि उनका सपना था कि उनके पास जमीन का ऐसा हरा-भरा टुकड़ा हो जिस पर वे अपनी इच्छा के अनुसार खेती कर सकें और इस काम में अकेले ही जुट गए। काम चल पड़ा लेकिन अभी भी उन्हें नहीं पता था कि पानी मिलेगा या नहीं?
गाँववाले कहते थे महालिंगा व्यर्थ की मेहनत कर रहा है। लेकिन महालिंगा को उस समय न गाँव के लोगों की आलोचना सुनाई देती थी और न ही वे असफल होने के डर से चुप बैठनेवाले थे। चार बार असफल रहे सुरंग बनाई; लेकिन पानी नहीं मिला। सालों की मेहनत बेकार चली गई; लेकिन महालिंगा ने हार नहीं मानी। एक के बाद असफलताओं ने उन्हें निराश नहीं किया। वे लोगों से कहते रहे कि एक दिन ऐसा आएगा जब मैं यहीं इसी जगह इतना पानी ले आऊँगा कि यहाँ हरियाली का वास होगा और नियति ने उनका साथ दिया।
पाँचवी बार वे पानी लाने में सफल हो गए. पानी तो आ गया। अब अगली जरूरत थी जमीन को समतल करने की। उनकी पत्नी नीता उनका बहुत साथ नहीं दे सकती थी ;इसलिए यह काम भी उन्होंने अपने दम अकेले ही किया। उनकी इस मेहनत और जीवट का परिणाम है कि आज वे 300 पेड़ सुपारी और 40 पेड़ नारियल के मालिक है। उस जमीन को उन्होंने हरा-भरा किया जो उन्हें सत्तर के दशक में मिली थी। समय लगाश्रम लगा लेकिन परिणाम न केवल उनके लिए सुखद है बल्कि पूरे समाज के लिए भी प्रेरणा है।
पाँचवी सुरंग की सफलता के बाद उन्होंने एक और सुरंग बनाई ,जिससे मिलनेवाले पानी का उपयोग घर-बार के काम के लिए होता है। सुरंग के पानी को सँभालकर रखने के लिए उन्होंने तीन हौदियाँ  बना रखी हैं जहाँ यह पानी इकट्ठा होता है। सिंचाईं में पानी का व्यवस्थित उपयोग करने के लिए वे स्प्रिंकलर्स और पाइपों की मदद लेते हैं।
रोज एक पाथर
नाईक ने माटी के रखरखाव के पत्थरों का जो काम अकेले किया है ,उसे करने के लिए आज के समय में कम से कम 200 आदमी चाहिए। एक बार खेत को समतल करने के बाद उस माटी को रोकना बहुत जरूरी था। इस काम के लिए पत्थर चाहिए । आसपास आधे किलोमीटर में कहीं पत्थर नहीं था। घाटी से काम करके लौटते समय वे प्रतिदिन अपने सिर पर एक पत्थर लेकर लौटते थे। रोज एक-एक पत्थरों को जोड़-जोड़ उन्होंने अपने सारे खेतों की ऐसी मेड़बंदी कर दी माटी के बहाव का खतरा खत्म हो गया। आज अगर मजदूरों से यह काम करवाना हो तो खर्च कम से कम 25 हजार रुपये आएगा।
अपने खेतों के लिए इतना सब करने वाले महालिंगा नाईक आज स्थानीय लोगों के लिए हीरो और प्रेरणास्रोत हैं। लोग उन्हें सफल इंसान मानते हैं। लेकिन खुद महालिंगा नाईक अपने से कुछ भी कहने में सकुचाते हैं। कम बोलते हैं और अपने काम में लगे रहते हैं। दूसरों के लिए उदाहरण बन चुके महालिंगा नाईक कर्ज लेने में विश्वास नहीं करते। वे मानते हैं कि जितना है उतने में ही संयमित रूप से गुजारा करना चाहिए। आज तक खुद उन्होंने किसी से कोई कर्ज नहीं लिया सिवाय एक बार जब वे अपना घर बना रहे थे तब बैंक से 1,000 रूपये कर्ज लिया था। दक्षिण में कर्ज लेकर अमीर बनने का सपना पालते किसानों के लिए महलिंगा चुपचाप बहुत कुछ कह रहे हैं। अगर लोग सुनना चाहें तो। (साभार- विस्फोट) इंडिया वाटर पोर्टल से

लेखक के बारे में- पानी और पर्यावरण के पत्रकार श्री 70 के दशक से गाँव और खेत की रिपोर्टिंग कर रहे हैं। 20 साल तक अदिके पत्रिका के मानद संपादक रहे। श्री पानी की रिपोर्टिंग करते हैं और लोग श्री के जरिए पानीदार भारत को समझते हैं।

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष