December 18, 2012

नजरिया



अच्छी सोच
- राम अवतार सचान
जीवन का सिलसिला है जिसका आदि और अंत दोनों है, जी हाँ। सुख-दुख से भरा जीवन पूर्ण रूप से आपकी अपनी सोच पर टिका है उदाहरण के तौर पर लीजिए- आधा भरा गिलास किसी के लिए आधा खाली भी नजर आता है। जीवन किसी के लिए दुखों का अम्बार है तो किसी के लिए खुशियों का खजाना। कोई इस जीवन को सौभाग्य समझता है तो कोई दुर्भाग्य, किसी का जीवन शिकायतों से भरा है तो किसी का धन्यवाद से, किसी को मरने की जल्दी है तो किसी को जीवन काल छोटा लगता है। जबकि जीवन एक ही है, एक ही अवसर है परंतु फिर भी अलग-अलग सोच है और इसके भिन्न-भिन्न परिणाम हैं। सब कुछ हमारे नजरिए पर टिका है। तुलसी दास जी ने रामचरित मानस में बहुत पहले लिखा है कि -
जिसकी रही भावना जैसी । प्रभु मूरत देखी तिन वैसी ॥
जिसकी जैसी भावना होती है उसको वैसे ही परिणाम मिलते भी हैं। इस संदर्भ में मैं तीन मजदूरों वाली एक कहानी सुनाना चाहता हूँ जो आपको पूर्ण रूप से संतुष्ट कर देगी-
तीन मजदूर पत्थर तोडऩे का एक ही काम कर रहे हैं जब एक से पूछा गया कि आप क्या कर रहे हो? तो उसने गुस्से में शिकायत भरी नजर उठाकर जवाब दिया कि आपको दिखाई नहीं दे रहा है क्या? अपनी किस्मत तोड़ रहा हूँ और ठीक यही प्रश्न दूसरे मजदूर से किया गया। उसके उत्तर में गुस्सा नहीं था, दर्द था, जुबाँ पर शिकायत नहीं पर आँखें नम थी, चेहरा उदास था, उसने उत्तर दिया कि पेट की आग बुझाने के लिए खाने का जुगाड़ कर रहा हूँ। जबकि यही प्रश्न तीसरे मजदूर से किया गया तो उसका उत्तर ही कुछ अलग था। न तो उसके लहजे में शिकायत थी, न तो दर्द था, आँखों में न गुस्सा था और न नमी। उसका उत्तर सुनकर सभी अचम्भित हो गए। उसके उत्तर में प्यार और एक सुख की अनुभूति थी। उसका उत्तर था- मैं इस काम में बहुत ही आनंदित हूँ मैं पूजा कर रहा हूँ। पत्थर, जिसे मैं तोड़ रहा हूँ, भगवान के मंदिर में लगने जा रहा है, मैं उसमें सहयोग दे रहा हूँ। मैं भाग्यशाली हूँ,  मैं आभारी परमात्मा का हूँ। उसने इस नेक काम के लिए मुझे अवसर दिया। ये शुभ कार्य हमारे हाथों द्वारा हो रहा है। उस मंदिर में भगवान विहार करेंगे। प्रभु ने मेरी सेवा स्वीकार कर मुझे कृतार्थ किया और मुझे इस काम में बहुत आनंद आ रहा है। सोचता हूँ पूरा जीवन प्रभु की सेवा में गुजरे।
 जीवन ऐसा ही है जो दृष्टिकोण के कारण ही सुख-दुख, लाभ-हानि, शुभ-अशुभ में बँट जाता है। सुख-दुख का कोई पैमाना नहीं है, सब सोच पर आधारित है। किसी के लिए कोई तारीख, दिन, महीना, साल अच्छा है तो किसी के लिए अशुभ हो जाता है। यह सोच और समझ केवल आपकी अपने नजरिए पर टिकी है। आप चाहे तो गिलास को पूरा देखें या आधा। सब आपकी सोच पर निर्भर है।
शेक्सपियर ने कहा है कि कोई भी चीज अच्छी या बुरी नहीं होती। हमारा नजरिया ही इसे अच्छा या बुरा बनाता है। सचमुच आपकी सोच ही आप पर जादू की तरह काम करती है। किसी शायर ने कहा है 'घर में न मिले सुकून तो बाहर निकल कर देखो, जिंदगी बड़ी हसीन है केवल सोच बदल कर देखो। '
संपर्क:13/1, बलरामपुर हाउस, मम्फोर्डगंज, इलाहाबाद-211002,  मो.09628216646

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष