December 18, 2012

कानून के साथ जन अभियान भी ज़रूरी



 गुटके पर प्रतिबंध- 
कानून के साथ जन अभियान भी ज़रूरी
- भारत डोगरा
हाल के वर्षों में तम्बाकू वाले गुटके या पान मसाले का सेवन खूब बढ़ा है। इसके सेवन से अनेक स्वास्थ्य समस्याएँ होती हैं। इनके अधिक समय तक सेवन से मुँह के कैंसर का खतरा बहुत बढ़ जाता है। इनके कारण प्लास्टिक के कचरे में भी भयंकर वृद्धि हुई है।
धूम्रपान करने वालों को धूम्रपान न करने वालों की अपेक्षा फेफड़ों के कैंसर की संभावना 15 गुना अधिक होती है। फेफड़ों के कैंसर के अतिरिक्त और भी कई तरह के कैंसर धूम्रपान से जुड़े हैं।
धूम्रपान से हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा बढ़ता है। धूम्रपान से ब्रोंकाइटिस जैसे गंभीर रोग भी हो सकते हैं। धूम्रपान से पेट का अल्सर हो सकता है और अल्सर पहले से हो तो गंभीर रूप ले सकता है।
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अनुमान लगाया था कि विश्व में एक वर्ष में तीस लाख मौतें धूम्रपान से जुड़े रोगों के कारण होती हैं।
जो लोग कैंसर जैसे जानलेवा रोग के खतरे को नजरअंदाज कर धूम्रपान करते रहे हैं, लगता है कि अब निष्क्रिय धूम्रपान के नए खतरे पता चलने के बाद उन्हें भी अब धूम्रपान छोडऩा पड़ेगा। अपने स्वास्थ्य से तो कोई खिलवाड़ कर सकता है, पर अपने बच्चों या पत्नी या परिवार के अन्य सदस्यों के स्वास्थ्य से कोई खिलवाड़ नहीं करना चाहेगा। निष्क्रिय धूम्रपान के खतरों की यही विशेषता है कि ये धूम्रपान करने वालों को नहीं उनके आसपास बैठे हुए अन्य व्यक्तियों को प्रभावित करते हैं।
जब कोई व्यक्ति सिगरेट पीता है तो उसमें से लगभग तीन-चौथाई धुआँ बाहर निकलता है व  सिर्फ़ एक चौथाई धुआँ ही सिगरेट पीने वाला व्यक्ति ग्रहण करता है। इस एक-चौथाई धुएँ का भी लगभग आधा हिस्सा वह प्राय: बाद में बाहर ही छोड़ देता है। इस तरह लगभग 85 प्रतिशत धुआँ बाहर छोड़ा जाता है जो फिल्टर किया हुआ भी नहीं होता है। यह धुआँ पास बैठे लोगों तक पहुँचता है और इस धुएँ में हानिकारक पदार्थ और भी ज़्यादा होते हैं।
संयुक्त राज्य अमेरिका के विख्यात स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. डेविड वर्नर ने नशीले पदार्थों पर अपने एक बहुचर्चित भाषण में बताया था कि संयुक्त राज्य अमेरिका में प्रति वर्ष 50,000 मौतें निष्क्रिय धूम्रपान के कारण होती हैं।
इसी देश के स्वास्थ्य व मानवीय सेवाओं के सचिव लुई सुलिवान ने हाल ही में अनुमान लगाया है कि यहाँ बच्चों की जितनी मौतें होती हैं, उनमें से 10 प्रतिशत मौतों का कारण गर्भावस्था के दौरान इन बच्चों की माँ के द्वारा धूम्रपान करना या किसी न किसी रूप में तम्बाकू का सेवन था।
गुटके से जुड़ी उक्त दोनों समस्याओं को देखते हुए सरकारी स्तर पर कुछ कार्रवाई भी हुई है। पहले तो कुछ स्थानों पर सिर्फ़ प्लास्टिक पाउच की पैकिंग पर प्रतिबंध लगा, पर फिर यह समझ बनी कि इससे तो केवल समस्या के एक पक्ष का ही समाधान होगा। अत: हरियाणा व राजस्थान जैसे राज्यों में गुटके पर प्रतिबंध लगाया गया।  इस समय पाँच-छह राज्य इस तरह गुटके या खाने-चबाने के तम्बाकू पर रोक लगाने की दिशा में आगे बढ़ चुके हैं।
दक्षिण राजस्थान में सामाजिक कार्यकत्र्ताओं की एक कार्यशाला में यह अनुमान व्यक्त हुआ कि 1500 की आबादी के एक औसत गाँव में औसतन लगभग चार सौ व्यक्ति गुटके का सेवन करते हैं। गुटके पर प्रति व्यक्ति प्रति दिन के अनुमानित खर्च दस रुपए के हिसाब से एक दिन में पूरे गाँव में 4000 रुपए (सालाना 14 लाख रुपए) गुटके पर खर्च होते हैं। सिगरेट, बीड़ी के बारे में अनुमान लगाया गया कि इन पर सालाना 12 लाख रुपए खर्च होते हैं।
चर्चा में उभरा कि राजस्थान सरकार ने गुटके पर जो प्रतिबंध लगाया है उससे इसकी खपत बाद में चाहे रुके पर अभी तो यह ब्लैक में बिकने लगा है।
इन समस्याओं का समाधान दो स्तरों पर हो सकता है। पहला कि पूरे देश में एक साथ गुटके पर प्रतिबंध लगाया जाए। दूसरा प्रयास यह होना चाहिए कि मात्र कानूनी प्रतिबंध से संतुष्ट न होकर तम्बाकू के सेवन के विरुद्ध एक जन अभियान चलाया जाए ताकि एक माहौल तैयार हो जिसमें लोग तम्बाकू का सेवन छोडऩे को स्वयं प्रेरित हों। तम्बाकू के विरुद्ध  कानूनी कार्यवाही व जन अभियान दोनों प्रयास साथ-साथ चलने चाहिए। केवल एक प्रयास से बात नहीं बनेगी। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष