December 18, 2012

विज्ञान


हम सोते-सोते सीखते हैं
नेचर न्यूरोसाइंस में प्रकाशित शोध पत्र के मुताबिक सोते हुए हम एकदम नई जानकारियाँ सीख सकते हैं। यह तो हर छात्र का सपना होगा। इजराइल के रिहोवाट में स्थित वाइजमैन इंस्टीटयूट ऑफ साइंस के अनत अर्जी और उनके साथियों ने सोते वक्त सीखने की क्रिया को समझने के लिए 55 स्वस्थ प्रतिभागियों पर शोध कार्य किया। सोते हुए प्रतिभागियों को कभी डिओडोरेंट व शैंपू जैसी कोई मनोहर सुगंध और कभी सड़ी मछली व मांस जैसी कोई अप्रिय गंध सुँघाई गई। हर बार गंध के साथ एक विशिष्ट ध्वनि भी सुनाई गई।
यह पहले से ज्ञात है कि पहले से मौजूद याददाश्त को बढ़ाने में नींद एक प्रमुख भूमिका अदा करती है। और यह भी पता है कि जागृत लोगों में इस तरह का गंध और ध्वनि का जुड़ाव गंध सम्बंधी व्यवहार को बदल देता है। ऐसे व्यक्ति जब किसी मनोहर सुगंध से सम्बंधित ध्वनि सुनते हैं तो उनकी सूँघने की क्रिया तेज होती है, लेकिन जब अप्रिय गंध से सम्बंधित ध्वनि सुनते हैं तब हल्के से सूँघते हैं।
लेकिन हाल ही के शोध में यह पता चला है कि नींद के दौरान हुआ अनुकूलन जागने के बाद भी बना रहता है। नींद के दौरान व्यक्ति किसी ध्वनि और गंध के बीच जो सम्बंध जोड़ता है वह उसे जागने के बाद भी याद रहता है।
प्रयोग में किया यह गया था कि सोते समय प्रतिभागियों को कोई प्रिय या अप्रिय गंध सुंघाई गई और उसके साथ कोई विशिष्ट ध्वनि भी सुनाई गई। आम तौर पर माना जाता है कि सोते हुए व्यक्ति में घ्राणेंद्रिय सुप्त रहती है मगर इस प्रयोग में देखा गया कि प्रिय गंध आने पर प्रतिभागी गहरी साँस लेते थे जबकि गंध अप्रिय होने पर वे उथली साँस लेते थे। इस प्रक्रिया से प्रतिभागी पूरी तरह से अनजान थे।
जागने के बाद जब प्रतिभागियों को वे ध्वनियां सुनाई गर्इं तो उनकी साँसों में वही पैटर्न नजर आया जो प्रिय/अप्रिय गंध की वजह से होता है- साँस का गहरा और उथला होना (जबकि अब गंध नदारद थी, सिर्फ ध्वनि सुनाई पड़ रही थी)। मतलब सोते-सोते भी हम ऐसे सह-सम्बंधों को याद रख पाते हैं। वैसे तो यह प्रक्रिया सारे प्रतिभागियों में दिखी मगर उन लोगों में ज़्यादा नजर आई जिन्हें रेपिड आई मूवमेंट (आरईएम) नींद के दौरान यह सम्बंध बनाना 'सिखाया’ गया था।
अर्जी का सोचना है कि हम सोते हुए ज़्यादा जटिल चीजें सीख सकते हैं। हालाँकि इसका यह मतलब नहीं है कि आप अपना होमवर्क तकिए के नीचे रखकर सो जाओगे तो वह सुबह तक याद हो जाएगा।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष