September 27, 2012

वन्य जीवन

कान्हा के बाघों की नागार्जुन सागर यात्रा

- संदीप पौराणिक
उत्तर भारत के लोगों का दक्षिण भारतीय लोगों से सदियों पुराना संबंध रहा है। व्यापार के सिलसिले में उत्तर भारतीय जन सुदूर दक्षिण में श्रीलंका तक यात्रा करते थे, लेकिन ये यात्राएं बड़ी रोमांचक, खतरनाक और डरावनी हुआ करती थीं। इन यात्राओं और व्यापार का प्रमुख मकसद नमक और दक्षिण भारतीय मसाले थे, जिनकी उत्तर भारत सहित पूरे भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी भारी मांग थी, लेकिन व्यापार सिर्फ जमीन के रास्ते ही जंगलों में पगडंडियों के सहारे ही किया जा सकता था। भगवान श्रीराम ने भी उत्तर भारत से श्रीलंका तक की यात्रा भी इसी रास्ते से की थी। ये रास्ते वास्तव में जंगली जानवरों द्वारा बनाए गए प्राकृतिक गलियारे ही हैं। आज भी जंगली हाथी, भैंस, गौर, बाघों का जंगल के जिन रास्तों से आना-जाना होता है वह रास्ता एक प्राकृतिक गलियारे के रूप में इस्तेमाल होना शुरू हो जाता है।
 हाल ही में हुए एक जेनेटिक अध्ययन ने वन्य जीव वैज्ञानिकों को चौंका दिया है कि कान्हा नेशनल पार्क के बाघ न केवल बांधवगढ़, अचानकमार, उदंती बल्कि इंद्रावती नेशनल पार्क और सूदूर दक्षिण में नागार्जुन सागर राष्ट्रीय उद्यान तक की यात्रा करते हैं। एक अन्य जेनेटिक अध्ययन में यह तथ्य सामने आया कि भारत की सर्वाधिक शुद्ध प्रजाति के जंगली भैंसे (राज्य पशु) जो कि उदंती अभ्यारण्य में पाए जाते हैं (जिनकी संख्या सात रह गई है) और इन्द्रावती नेशनल  पार्क के जंगली भैंसे (जिनकी संख्या 30-35 हैं) एक ही जेनेटिक पूल के हैं। ऐसी स्थिति में अब दोनों प्रजातियों बाघ और जंगली भैंस को बचाने के लिए जीव वैज्ञानिक और वन्य प्राणी विशेषज्ञ एक रणनीति तैयार कर रहे हैं।
कान्हा नेशनल पार्क लगभग 2000 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है लेकिन बाघों की एक बड़ी आबादी पार्क के बाहर भी पाई जाती है। बाघों का सुदूर नागार्जुन सागर तक पहुंचने का जो रास्ता या कहें प्राकृतिक गलियारा है वह छत्तीसगढ़ राज्य से ही होकर गुजरता है। छत्तीसगढ़ राज्य के चिल्फी, रेंगाखार, बोड़ला और भोरमदेव तथा अन्य छोटे-छोटे स्थान जो कि कान्हा नेशनल पार्क से लगे हुए हैं, इन क्षेत्रों को बाघ अपने प्राकृतिक आवास के लिए उपयोग करता है। चूंकि यह कान्हा राष्ट्रीय उद्यान के बाहर का क्षेत्र है अत: यहां पर बाघों पर वैसी नजर नहीं रखी जाती जैसी कान्हा राष्ट्रीय उद्यान में रखी जाती है।
हाल ही में हुए एक जेनेटिक अध्ययन ने वन्य जीव वैज्ञानिकों को चौंका दिया है कि कान्हा नेशनल पार्क के बाघ न केवल बांधवगढ़, अचानकमार, उदंती बल्कि इंद्रावती नेशनल पार्क और सुदूर दक्षिण में नागार्जुन सागर राष्ट्रीय उद्यान तक की यात्रा करते हैं।
विगत एक वर्ष के भीतर दो बाघों का शिकार इस क्षेत्र में हुआ है। उसके बाद भी बाघों का इस क्षेत्र में आना एक बहुत अच्छी खबर है। राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण इस क्षेत्र को प्रोजेक्ट टाइगर के तहत रखना चाहता है। मेरी व्यक्तिगत रूप से इस संबंध में प्रोजेक्ट टाइगर एवं एनटीसीए के अधिकारियों और पर्यावरण एवं वनमंत्री से बात हुई है। यदि यह क्षेत्र जहां कि छत्तीसगढ़ प्रदेश का भोरमदेव अभ्यारण्य पहले से ही हैं, प्रोजेक्ट टाइगर बनता है तो छत्तीसगढ़ के लोगों के लिए यह एक वरदान ही होगा, क्योंकि इस पूरे क्षेत्र में कान्हा नेशनल पार्क में लगभग जाने वाले सारे जानवर मौजूद हैं। अत: यह प्रस्तावित प्रोजेक्ट टाइगर का एरिया कान्हा राष्ट्रीय उद्यान की तरह ही दिखेगा और देश-विदेश के पर्यटक इस प्रोजेक्ट टाइगर को देख सकेंगे। अब गेंद छत्तीसगढ़ शासन के वन विभाग के पाले में हैं। यदि हमारा रवैया सकारात्मक रहता है तथा प्रदेश के उच्च वनाधिकारी जल्दी प्रयास शुरू करते हैं तो छत्तीसगढ़ को एक और सौगात मिल सकती है।
हैदराबाद स्थित जेनेटिक सेंटर ने एक अन्य चौंकाने वाली बात यह कही है कि उदंती और बस्तर के जंगली भैंसों के जीन्स एक ही हैं। ऐसी स्थिति में हम हमारे राज्य पशु जंगली भैसा जिसकी तादाद उदंती में सिर्फ सात ही बची हैं जिनमें 6 नर और एक मादा है। मादा आशा ने विगत तीन बार नर पाड़े को ही जन्म दिया है। ऐसी स्थिति में इन्द्रावती राष्ट्रीय उद्यान से अन्य मादा भैंसों को लाया जा सकता है। चूंकि इन्द्रावती राष्ट्रीय उद्यान घोर नक्सल प्रभावित हैं किंतु प्रदेश में अभी तक नक्सलवादियों द्वारा जंगली जानवरों के संरक्षण हेतु क्रियान्वित की जा रही योजनाओं को रोका नहीं गया है तथा  इन्द्र्रावती में प्रोजेक्ट टाइगर सफलतापूर्वक चल रहा है। अत: यह खबर भी छत्तीसगढिय़ा लोगों को राहत देने वाली है कि वन भैंसे की वंशवृद्धि के लिए कृत्रिम गर्भाधान के अतिरिक्त एक और विकल्प उपलब्ध है।
संपर्क- एफ -11 शांति नगर, सिंचाई कालोनी, रायपुर
        मोबाइल-09329116267

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष