September 27, 2012

रियो-डी-जिनेरियो


रियो-डी-जिनेरियो, ब्राजील में 18-22 जून 2012 में हुए सतत् (टिकाऊ) विकास पर संयुक्त राष्ट्र के वैश्विक सम्मेलन में श्री चंद्रशेखर साहू (मंत्री- कृषि, पशुधन विकास, मत्स्यपालन एवं श्रम विभाग छत्तीसगढ़ शासन) ने भी भाग लिया। इस अवसर पर सम्मेलन में पढ़ा गया उनका वक्तव्य तथा सम्मेलन से लौटने के बाद उनके द्वारा लिखा गया समग्र दृष्टिकोण पत्र उदंती में प्रकाशित कर रहे हैं। 

संयुक्त राष्ट्र का वैश्विक सम्मेलन


प्रिय मित्रों,
आप सब गौतम बुद्ध, स्वामी विवेकानंद और महात्मा गांधी के देश की ओर से अभिवादन स्वीकार करें। इस विशेष चर्चा-गोष्ठी में भाग लेते हुए हम बहुत उत्साहित हैं जो कि खासतौर पर इस चराचर के नैसर्गिक स्वास्थ्य के सरंक्षण एवं इस नए विश्व के परिस्थिति समस्याओं के निराकरण के लिए किया गया है। इस चर्चा- गोष्ठी में मैं महात्मा गांधी के विचारों का उल्लेख करते हुए उसे पथ-प्रदर्शक सिद्धांत के रूप में रखना चाहता हंू -
सभी व्यक्तियों की जरूरत के लिए इस धरती में संभावनाएं हमेशा रहती हैं, लेकिन लोभ के लिए संभावनाएं कभी नहीं रहती, अर्थात् पूरी दुनिया भी इसके लिए कम है। (There is always enough for everyone’s need. Never it is enough for any ones Greed)
मित्रों, आज हम सब जिस दुनिया में रहते हैं वहां जिंदगी और उसे जीना कुल मिलाकर एक अद्भुत अकल्पनीय परिस्थितियों के बीच हो रहा है, ऐसा पहले नहीं हुआ था। यह समाज और व्यक्ति विशेष के लिए मूलभूत चुनौतियों के सामने उपस्थित होने जैसा है। पूरे वातावरण की परिस्थितियां बदल रही है, आर्थिक समस्याएं बढ़ रही हैं, प्राकृतिक संसाधन में कमी आ रही है। तुलनात्मक रूप से जनसंख्या और गरीबी में बढ़ोत्तरी हो रही है, जमीन की उत्पादकता लाक्षिक रूप से घट रही है जो कि विकास के मूलभूत अवधारणा को चिंतित कर रही है। ये तमाम बातें न्यूयार्क से लेकर नई दिल्ली और रियो से लेकर भारत के छत्तीसगढ़ राज्य के राजधानी रायपुर तक समान रूप से महसूस की जा सकती है, मैं जहां से आया हंू। इस विपरीतताओं के बीच भी एक बात बहुत अच्छी बात है कि इस पृथ्वी पर हम सभी एक सहभागिता वाले भविष्य की चिंता में लगे हैं, न कि अलग-अलग द्वीप समूहों में अपना अस्तित्व तलाश रहे हैं।
हमारे पूर्वजों ने सदियों तक चलने वाली एक ऐसी पुरानी व्यवस्था को जन्म दिया था जो कि रोजगार के संसाधन भी पैदा करती थी और एक हरित अर्थव्यवस्था को भी पनपाती थी। हमें उस पुरानी व्यवस्था की ओर मुड़कर देखना होगा जो हमारे नींव में उपस्थित है। छत्तीसगढ़ राज्य में इस प्रकार के अनेकों उदाहरण जलग्रहण क्षेत्र प्रबंधन के रूप में उपलब्ध है, जहां एक छोटे से गांव में लगभग 360 से अधिक छोटी जल संग्रहण एवं रिसाव तालाब का श्रृंखलाबद्ध पद्धति से खेतों की जल आवश्यकता का सदियों से पूर्ति की जा रही है। परन्तु इन समाजों को आधुनिक विकास के अवधारणा प्रतिव्यक्ति खपत एवं उससे संबंधित व्यवहार की दृष्टि से उच्च श्रेणी में नहीं रखा जा सकता है। वास्तव में विकास की सूचक प्रतिव्यक्ति खपत माडल में विकसित हो रही वैश्विक हरित आर्थिकी की दृष्टि से गंभीरता से पुर्नविचार की आवश्यकता है।
प्रतिव्यक्ति खपत मात्र यह दर्शाता है कि किसी समुदाय के संरक्षण हेतु बाहरी मदद की आवश्यकता कितनी है। यह सीधे तौर पर वैश्विक सतत विकास के लिये आवश्यक वास्तविक प्रतिव्यक्ति मदद को नहीं दर्शाती है। किसी भी देशी समुदाय के सतत विकास को प्रगामी उपयोगिता सूचकांक के आधार पर परिभाषित किया जाता है। उपरोक्त जीवन पद्धति में कोई एक वस्तु को अनेकों बार एवं अनेकों माडलों में तथा एक वस्तु को अनेकों कार्यों हेतु उत्तरोत्तर उपयोग किया जाता है। यह उत्पाद का खपत में कमी के साथ ही साथ बिना अतिरिक्त ऊर्जा के उसे पुर्नचक्रीकरण द्वारा उपयोग किया जा सकता है। आज स्थिति यह है कि हमें ऐसी जीवन पद्धति को विकसित करना होगा जहां पर एक उपयोगी वस्तु या तरीके को बहुआयामी बना सके जो विविध प्रयोजनों को न केवल पूरा करे, बल्कि उग्रसारित भी करें।
गौतम बुद्ध की एक कहानी को इस संदर्भ में हम पथ-प्रदर्थक कथा के रूप में देख सकते हैं। गौतम बुद्ध वर्ष में एक बार चतुर्मास के समय अपने शिष्यों को उत्तरीय (वस्त्र) प्रदान करते थे। एक शिष्य को वस्त्र देने के पूर्व उन्होंने पूछा- पिछले समय में जो वस्त्र तुमने प्राप्त किया था, उसका क्या उपयोग किया? शिष्य ने विनम्रता के साथ कहा- मैंने उस वस्त्र को शरीर को ढाकने अर्थात् पहनने का काम लिया। महान बुद्ध ने पूछा और उसके बाद। शिष्य ने जवाब दिया महोदय फिर मैं उस कपड़े से बाती बनाया और उससे घर को प्रकाशित किया। बुद्ध मुस्कुराये और कहा कि अब तुम एक नये वस्त्र पाने के योग्य हो मेरे
प्रिय शिष्य।
यह एक छोटी कथा है साथ ही यह एक टिकाऊ अर्थव्यवस्था की ओर इशारा करता है, कि मनुष्य जिन चीजों का उपयोग के पश्चात परित्याग करता है, उन्हीं से पुन: मनुष्य उपयोगी चीजें बनाई जा सकती है। जीवन के विभिन्न आयामों में हम मुख्यधारा के विकास और उसके असंख्य तथाकथित शताब्दी लक्ष्य को पाने के लिए भी हमें पुनर्विचार करना चाहिए। उपरोक्त संदर्भ में हम विकास की अवधारणा में छह सूत्रों को याद कर सकते हैं- जैसे जल, जंगल, जमीन, जलवायु, जन (लोग) और जंतु। विकास के पहियों को गतिमान रखने के लिए ऊर्जा एक केन्द्रीय कारक है। इस ऊर्जा को संतुलित प्राकृतिक व्यवस्था से प्राप्त करने पर यह और अधिक प्रभावी हो सकता है। ऊर्जा के पुनरोपयोग की पद्धति प्रत्येक देश को एक नई दिशा दे सकती है। जिसके चलते प्रदूषण मुक्त विश्व और रोजगार के संसाधन भी पैदा किए जा सकते हैं। अंततोगत्वा इस दिशा में वैश्विक सहमति पत्र तैयार किया जाए।
हमारे देश के प्रसिद्ध कथन का यहां उल्लेख करना उचित समझता हूं -
भूमि स्वर्गताम् यातु: मनुष्यो यातु देवताम।
धर्मो सफलम् यातु: नित्यं यातु शुभोदय।।'जिसका अर्थ है कि इस पृथ्वी को स्वर्ग बनने दो, मनुष्य को ईश्वर बनने दो, धर्म को उनकी सफलता में पहुंचाने दो और दिव्यता को पल-पल में पसरने दो।
    जय भारत। जय छत्तीसगढ़।।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष