January 31, 2012

पार्श्वगायन के जन्मदाता पुतुल दा

- पंकज मल्लिक (संगीत निर्देशक)

पुतुल दा की बातों से मुझे बेहद आश्चर्य हो रहा था। सहसा मुझे लगा कि मैं एक ऐतिहासिक घटना का साक्षी बन रहा था। ऐसी घटना जो भारतीय सिनेमा में क्रांति ला देगी। तब मैं एक मूक दर्शक था और बिना किसी पूर्व निर्धारित योजना के बजाए संयोगवश ही मैं इसमें मुख्य भूमिका निभा रहा था। पर यह कहने में कोई संकोच नहीं कि पार्श्वगायन केवल नितिन बोस का ही आविष्कार था।
नितिन बोस, जिन्हें स लोग प्यार से पुतुल दा कहते थे, न्यू थियेटर्स के कैमरा विभाग का का देख रहे थे। बाद में धीरे- धीरे उन्होंने पूरी फिल्म का काम देखना शुरु कर दिया। उनकी उन्नति से, उन्हें मिल रही मान्यता से मैं खुश था। हम लोग एक ही इलाके में रहते थे। मैं मानिक टोला के पास चलता बागान में था और वे पुराने माडर्न इंस्टीट्यूट, जो अब एमहस्र्ट स्ट्रीट के नाम से जाना जाता है, के उत्तर में रहते थे। स्टूडियो जाते समय पुतुल दा मुझे भी अपने साथ ले लेते थे और इस तरह हम एक ही कार में सफर किया करते थे। हमारे बीच संबंध प्रगाढ़ होते गए।
'भाग्यचक्र' पुतुल दा की दूसरी (बांग्ला) फिल्म थी। इसे हिन्दी में 'धूपछांव' के नाम से बनाया गया। जहां तक मुझे याद आता है यह सन् 1935 की बात है। इस फिल्म में प्रमुख भूमिका में थे पहाड़ी सान्याल और उमा शशि देवी। भाग्यचक्र के निर्देशन के रूप में उनकी जिम्मेदारी बढ़ गई थी। वे सुबह जरा जल्दी स्टूडियो पहुंचते थे।
एक दिन की बात है, पुतुल दा हमेशा की तरह मेरे घर आए। उस समय मैं स्नानघर में था। मेरे पड़ोस के घर में एक अंग्रेजी फिल्म का रेकार्ड बज रहा था। जहां तक मुझे याद है, उसके बोल थे- come with me when moon beams...
रेकार्ड के साथ- साथ: मैंने भी सुर में सुर मिला कर गाना शुरु कर दिया। मैं गाने में इतना तन्मय था कि पुतुल दा की आवाज ही नहीं सुनाई पड़ी। वे मुझे पुकार रहे थे - पंकज, ओ पंकज, आखिरकार मेरे पिताजी को आकर मुझे टोकना पड़ा। मैं तुरंत बाहर आया। सामने गंभीर मुद्रा बनाए पुतुल दा खड़े थे। मुझे लगा पुतुल दा को कोई गंभीर बात परेशान किए हुए है। पर मैंने कुछ न कहा और पीछे बैठ गया। पुतुल दा ड्राइवर की सीट पर जा बैठे। उनकी बगल में उनके भाई मुकुल दा थे।
चुप्पी जो भारी पड़ी- कार चल पड़ी, सबकी चुप्पी मुझे भारी पड़ रही थी। मैंने क्षमा याचना के स्वरों में कहा पुतुल दा, मुझे माफ कर दीजिए। मैं उस अंगे्रजी गाने में खो गया था, नहीं तो मैं आपकी पुकार का जवाब अवश्य देता।
पुतुल दा ने कोई जवाब न दिया। बस अपनी सिगरेट पीते रहे। मैंने फिर एक बार उन्हें अपनी बात समझाने की कोशिश की पर फिर असफल रहा।
चौरंगी पर लाइट हाउस के पास एक सिग्नल पर कार रूकी तो पुतुल दा उससे नीचे उतर पड़े। उन्होंने अपने भाई मुकुल दा को निर्देश दिया कि वे कार लेकर म्यूजियम में उनकी प्रतीक्षा करें। थोड़ी देर बाद वे वहां पहुंचे। उनके बगल में एक पार्सल दबा हुआ था। स्वभाव के विपरीत पुतुल दा आज बहुत गंभीर थे। मैं सोच नहीं पा रहा था कि मैंने ऐसा क्या किया जो वे इतने नाराज हैं।
हम सब टालीगंज, फिर स्टूडियो पहुंचे। कार रुकते ही पुतुल दा उतरे और तेजी से चल पड़े। अपने कमरे में जाने के अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं था।
वह नया आइडिया- कुछ देर बाद सहसा पुतुल दा ने मुझे बुलवाया। मैंने फिर सुबह की घटना के लि क्षमा मांगने की कोशिश की पर पुतुल दा ने मुझे चुप रहने का निर्देश दिया। पुतुल दा किसी नए आइडिया पर सोच विचार में मग्न थे और मैं उसमें विघ्न डाल रहा था, इसलिए उन्होंने मुझे चुप रहने को कहा था। मुझे चुप रहने का निर्देश देकर ग्रामोफोन पर रेकार्ड चढ़ा दिया। यह क्या। यह तो वही प्रेमगीत था जिसे मैंने सुबह सुना था। मैं आश्चर्य में डूब गया। पुतुल दा ने मुझे भी साथ- साथ गाने के लिए कहा। केवल उन्हें खुश करने के लिए मैंने गाना शुरु कर दिया। मैंने देखा, वे मुझे ध्यान से देख रहे हैं। मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था। और उसके बाद जो घटा, वह तो पागलपन की सीमा ही थी। पुतुल दा कुरसी से लपक कर उठे और मेरा हाथ पकड़ कर कमरे में यहां वहां नृत्य करने लगे। नाचते- नाचते उन्होंने कहा- पंकज, मैंने उसे पा लिया। यह भाग्य की बात थी कि मैंने सुबह तुम्हें इस रेकोर्ड के गीत के साथ गाते हुए सुना। एक गंभीर समस्या का अन्तत: हल हो गया।
पुतुल दा की बातों से मुझे बेहद आश्चर्य हो रहा था। सहसा मुझे लगा कि मैं एक ऐतिहासिक घटना का साक्षी बन रहा था। ऐसी घटना जो भारतीय सिनेमा में क्रांति ला देगी। तब मैं एक मूक दर्शक था और बिना किसी पूर्व निर्धारित योजना के बजाए संयोगवश ही मैं इसमें मुख्य भूमिका निभा रहा था। पर यह कहने में कोई संकोच नहीं कि पार्श्वगायन केवल नितिन बोस का ही आविष्कार था। अब अभिनय के साथ- साथ गायन में भी प्रवीण अभिनेता- अभिनेत्रियों का जमाना खत्म हो गया था. अब अभिनेता अभिनेत्रियों को बस बोल के अनुसार ओंठ हिलाने थे। पर मैं यहां बताना चाहूंगा कि उन दिनों यह कोई आसान काम नहीं था। जहां तक मुझे याद है, पुतुल दा की फिल्म भाग्यचक्र में ही सर्वप्रथम पार्श्वगायन का प्रयोग हुआ। इससे फिल्म निर्माण के संबंध में नई- नई धारण का जन्म हुआ। न्यू थियेटर्स की चारदीवारी के भीतर उनका परीक्षण भी किया गया।
भारतीय सिनेमा की प्रथम पार्श्व गायिकाएं- 1931 में भारतीय सिनेमा में ध्वनि का प्रयोग शुरु हुआ था। चार वर्ष बाद पार्श्वगायन के प्रयोग ने भारतीय सिनेमा में क्रांति ला दी। प्रारंभ में संगीत- निर्देशकों को ऐसे अभिनय- प्रवीण कलाकारों से गीत गवाने पड़ते थे जो गाना नहीं जानते थे, जैसे मोतीलाल, अशोक कुमार, देविका रानी, माया बनर्जी आदि। दूसरी ओर गायन में प्रवीण ऐसे कलाकारों से अभिनय कराना पड़ता था जो इस कला में विशेष दक्षता नहीं रखते थे। जैसे कुंदनलाल सहगल, नूरजहां, शांता आप्टे, के.सी.डे, खुर्शीद, उमा शशि आदि।
सन् 1935 में पार्श्वगायन की सफलता ने सिनेमा- निर्माण में नए- नए प्रयासों को जन्म दिया। धूपछांव (बंगला चित्र भाग्यचक्र का हिन्दी संस्करण) में सर्वप्रथम पार्श्वगायन की कला का उपयोग किया गया। निर्देशक थे नितिन बोस और संगीत निर्देशक थे पंकज मलिक। नर्तकियों के एक नृत्य गान को अपना स्वर देने वाली प्रथम पार्श्व गायिकाएं थीं- सुप्रभा सरकार, पुरुल घोष और उमा शशि। बाद में बाम्बे टाकीज की फिल्म अछूत कन्या (सन् 1936) में सरस्वती देवी ने और सागर मुवीटोन महागीत (सन् 1938) में अनिल विश्वास ने इस तकनीक का प्रयोग किया। (लिस्नर्स बुलेटिन से साभार)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष