November 27, 2010

समय की जरूरत है छत्तीसगढ़ रेजीमेंट

- डॉ. परदेशीराम वर्मा

छत्तीसगढ़ के बेहद लोकप्रिय कलाकार हैं शिवकुमार दीपक वे प्रथम छत्तीसगढ़ी फिल्म से लेकर आज तक की फिल्मों में अपना महत्व बनाए हुए हैं। वे मंच पर छत्तीसगढ़ रेजीमेंट के जनरल का एकाभिनय करते हैं। छत्तीसगढ़ के दर्द को हल्के-फुल्के अंदाज में व्यक्त करते हुए वे छत्तीसगढ़ रेजीमेंट की कमी को प्रभावशाली ढंग से रेखांकित करते हैं।
अव्वल और विश्वसनीय छत्तीसगढ़ के नाम पर सेना का कोई रेजीमेंट नहीं है। जाट रेजीमेंट, आसाम राइफल, सिक्ख रेजीमेंट, बिहार, बंगाल, राजस्थान, डोगरा इस तरह सब के नाम पर रेजीमेंट्स हैं। मैं स्वयं 1966 से 1969 तक आसाम राइफल्स में राइफलमैन आपरेटर रेडियो एंड लाइन के पद पर काम कर चुका हूं। किसी प्रदेश या समुदाय के नाम पर गठित सेना से संबंधित लोगों का गर्वित होना स्वाभाविक है। उसी तरह उसके अभाव में हतोत्साहित होना भी स्वाभाविक है। अभी हाल ही में रायपुर पुलिस परेड ग्राउंड में सेना का सम्बलकारी प्रदर्शन हुआ। इससे प्रदे और देश का मनोबल ऊपर उठता है। यह संदेश जाता है कि हम शक्तिशाली हैं। देश हर स्थिति, आपदा, संकट से निपटने में सक्षम है।
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व के इन सात वर्षों में कई यादगार और इतिहास में सदा के लिए अमिट छाप छोडऩे वाली उपलब्धियां छत्तीसगढ़ के नाम दर्ज हुई हंै।
उन्होंने 23.10.10 को अपने उद्बोधन में छत्तीसगढ़ की चिरसंचित अभिलाषा को स्पष्ट करते हुए कहा कि सेना बनाए छत्तीसगढ़ रेजीमेंट। उनके उद्बोधन का यह ऐसा अंश है जिससे उनकी अध्ययन प्रियता और छत्तीसगढ़ के यश के लिए निरंतर प्रयास परिलक्षित होता है। छत्तीसगढ़ रेजीमेंट क्यों हो, यह चिंता डॉ. खूबचंद बघेल अपने नाटक 'जनरैल सिंह' में व्यक्त कर हम सबको आंदोलित करते रहे हैं। यह नाटक खूब लोकप्रिय हुआ।
संत कवि पवन दीवान की पंक्तियां हैं ...
छत्तीसगढ़ में सब कुछ है, पर एक कमी है स्वाभिमान की, मुझसे सही नहीं जाती है, ऐसी चुप्पी वर्तमान की।
संत कवि पवन दीवान, डॉ. खूबचंद बघेल छत्तीसगढ़ भातृसंघ के स्वतंत्र एवं विशिष्ट चिंतक थे।
छत्तीसगढ़ रेजीमेंट के निर्माण की चिंता
छत्तीसगढ़ के स्वाभिमान की चिंता ही है।
अंग्रेजों ने लड़ाका जातियों और दबंग प्रदेशों के नाम पर रेजीमेंटों का निर्माण किया। छत्तीसगढ़ एक शांत और अल्प संतोषी प्रदेश है। लेकिन छत्तीसगढ़ राज्य के विकास का एक दशक पूरा हो रहा है। ऐसे अवसर पर निश्चित रूप से छत्तीसगढ़ रेजीमेंट के गठन की दिशा में विचार देकर मुख्यमंत्री जी ने महत्वपूर्ण कार्य किया है।
डॉ. खूबचंद बघेल ने 1967 के अपने भाषण में कहा है कि एक बात निश्चित है कि ऐसे मौके पर हमारे कदम विपरीत दिशा में पड़े तो इसका अनुचित लाभ शोषक और विघटनकारी वर्ग उठाएगा।
लेखक स्वयं 1966 से 1969 तक आसाम राइफल्स में राइफलमैन आपरेटर रेडियो एंड लाइन के पद पर काम कर चुके हैं। उनकी यह तस्वीर उसी समय की है।
आज विघटनकारी वर्ग अपना चेहरा बदलकर पूरी योजना के साथ काम कर रहा है। पंजाब में लोगों ने विघटनकारियों का बुना हुआ जाल समाप्त किया। आसाम, मिजोहिल, नागालैंड में शांति की बहाली हुई। इन प्रांतों ने अंधकार भरा दौर तो देखा मगर धीरे- धीरे वे अंधकार के सुरंग से रोशनी के जनपथ की ओर बढ़ गए। संयोग देखिए कि इन राज्यों के नाम पर रेजीमेंट भी हैं। सिक्ख और पंजाब दोनों ही नाम से रेजीमेंट हैं। राजपुताना, जाट, महार इत्यादि समुदायों के नाम पर भी रेजीमेंट हैं। छत्तीसगढ़ रेजीमेंट नहीं है, इस व्यथा को न केवल डॉ. बघेल ने व्यक्त किया बल्कि लगातार अन्य लोगों ने भी इस दर्द को अपने- अपने माध्यम से अभिव्यक्त किया।
छत्तीसगढ़ के बेहद लोकप्रिय कलाकार हैं शिवकुमार दीपक वे प्रथम छत्तीसगढ़ी फिल्म से लेकर आज तक की फिल्मों में अपना महत्व बनाए हुए हैं। वे मंच पर छत्तीसगढ़ रेजीमेंट के जनरल का एकाभिनय करते हैं। छत्तीसगढ़ के दर्द को हल्के-फुल्के अंदाज में व्यक्त करते हुए वे छत्तीसगढ़ रेजीमेंट की कमी को प्रभावशाली ढंग से रेखांकित करते हैं।
प्रदेश अब तमाम उपलब्धियों के लिए चिन्हित हो रहा है। समृद्ध भाषा छत्तीसगढ़ी का अपना गौरवशाली स्थान है। छत्तीसगढ़ के कलमकार, साहित्यकार, चिकित्सक, सामजसेवी उल्लेखनीय योगदान के लिए राष्ट्रीय सम्मान से लगातार नवाजे जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ के जवान पुलिस में भर्ती होकर संकट के इस दौर में अपना पराक्रम दिखाकर सिद्ध कर रहे हैंं कि अगर उनके प्रदेश के नाम पर भी सेना हो तो वह भी गौरवशाली रेजीमेंट के रूप में स्थापित होगा। प्रदेश के नाम पर रेजीमेंट बनने से अंचल के लोगों को प्रोत्साहन मिलता है। राष्ट्रीय एकता की मिसाल भी ऐसे रेजीमेंट पेश करते हैं। हर रेजीमेंट में दूसरे प्रांतों के जवान भी होते हैं मगर प्रांत विशेष के जवानों के लिए उसे अधिक अनुकूल पाया जाता है। अफसर तो प्राय: दूसरे प्रांत और जाति के ही पाये जाते हैं। प्रांत या जाति के नाम पर बने रेजीमेंट संस्कृति, खानपान, जीवन के भिन्न- भिन्न रंगों को भी व्यक्त करते हैं।
देश को आजाद हुए बासठ वर्ष हो गए। इस बासठ वर्षों में कई ताकतवार रेजीमेंटों का विकास हुआ। खुद आसाम राइफल्स, नागा बटालियन जैसे जाने कितने रेजीमेंट्स आजादी के बाद बने।
नागा लोगों की जाबांजी से छत्तीसगढ़ खूब परीचित है। उसी तरह छत्तीसगढ़ रेजीमेंट बनने का अवसर अब आ गया है। दस वर्षों में पाई गई गौरवशाली उपलब्धियों में एक यह उपलब्धि भी आगे चलकर जुड़ जाय, वह वक्त का तकाजा भी है और भावनात्मक जरूरत भी।
पता- एल आई जी-18, आमदीनगर, भिलाई 490009, मोबाइल 9827993494

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष