May 14, 2020

दो लघुकथाएँ

1. नि:शब्द
 -अर्चना राय 
अपनी साँसों की ऊपर -नीचे होती रिदम को संयत करते हुए, अनिल के कान केवल अनाउंसमेंट पर  टिके थे। उसकी तरह ही  अनेक सहकर्मी भी इसी ऊहापोह की स्थिति में खड़े थे। आज मंदी की चपेट में आई कंपनी से कर्मचारियों की छँटनी  होने वाली थी। इसलिए सभी अपने अपने भविष्य को लेकर चिंतित खड़े थे।
मिस्टर अनिल शर्मा यू आर नाउ इन, एण्ड  प्रमोटेड टू सीनियर पोस्ट”
  अनाउंसमेंट सुनकर उसे अपने कानों पर विश्वास नहीं हो रहा था, क्योंकि जहाँ उसके कई काबिल साथी नौकरी से हाथ धो बैठे थे, ऐसे में प्रमोशन होना, उसके लिए सपने से कम नहीं था। वजह थी कंपनी के दिए कार्य को, पूरी ईमानदारी से नियत अवधि में पूरा करना तथा कभी अनावश्यक छुट्टी न लेना था।
उसकी खुशी का पारावार नहीं था। इसलिए ऑफिस से निकलकर, रास्ते से एक सुंदर गुलाब के फूलों का गुलदस्ता खरीद कर, टैक्सी ड्राइवर को, कार तेज चलाने को कह जल्दी बैठ गया। उसका वश चलता तो, आज उड़ कर पहुँच जाता।
  कार के पहियों के साथ, उसका  मन भी कहीं तेजी से अतीत में घूमने लगा।
पत्नी उससे ज्यादा  पढ़ी- लिखी ही नहीं, उससे समझदार भी थी। यह बात वह शादी के कुछ दिन  बाद ही समझ गया था। क्योंकि उसने आते ही घर के साथ-साथ बाहर की भी आधे से ज्यादा जिम्मेदारियाँ अपने ऊपर सहर्ष ले ली थी।
अपाहिज पिता को हर हफ्ते हॉस्पिटल ले जाने के लिए, छुट्टी लेने कि उसकी समस्या को पत्नी ने बिना किसी गिले-शिकवे के हल कर दिया, मिली राहत से, उसके दिल ने  थैंक यू कहना चाहा पर...
ये तो उसका फर्ज है”- सोच पुरुष अहं ने कहीं न कहीं रोक दिया।
   बैंक,बिजली- पानी बिल आदि की लंबी लाइनों में, खड़े होने की उबाऊ जद्दोजहद से भी उसे आजाद कर दिया , तब  उसके दिल ने खुश हो थैंक्यू बोलना चाहा तो
ठीक है, इतना बड़ा काम भी नहीं कर रही”- पुरुष अहं फिर आडे़ आ गया।
  बच्चों को लगातार मिल रही सफलता से पिता होने के नाते अपनी तारीफ सुन, वह गर्व से भर उठता और उसका दिल पत्नी को धन्यवाद कहने आतुर हो उठता,
तो क्या हुआ? ये तो माँ का ही फर्ज होता है”- पुरुष अहं ने एकबार फिर फन उठाकर उसे रोक लिया।
सर ..आपका घर आ गया”- ड्राइवर की बात सुनकर, वह अतीत से वर्तमान में लौटा। गेट के बाहर, पत्नी को बेचैनी से चहल कदमी करते देख, जल्दी उसके पास पहुँचकर, गुलदस्ता देते हुए मुस्कुराकर बस एक ही शब्द कहा
थैंक यू”
आज पुरुष अहं पहली बार दूर मौन खड़ा था।
2. संस्कार
ओके मॉम, चलता हूँ”- मोबाइल पर नजरें गड़ाए हुए ही बेटे ने कहा।
अरे बेटा! अभी  आए  और अभी जाने लगे , कुछ देर हमारे साथ भी बैठो”- गाँव से मिलने आई बड़ी दादी ने कहा।
सॉरी दादी, फ्रेंड्स के घर पार्टी है, लेट हो जाऊँगा”
मेरे मोबाइल में नेट पैक डलवा दिया? शाम तक खत्म हो जाएगा”- माँ ने कहा।
ओहो मॉम ‘डलवा दिया है, कितनी बार पूछेगी,और हाँ मुझे  रात को आने में देर हो जाएगी, आप बार-बार फोन करके डिस्टर्ब मत करनामेरे दोस्त आपकी इस आदत के कारण मुझे मॉम्ज़ बेबी कहकर चिढ़ाते हैं”
अच्छा ठीक है, नहीं करूँगी”
अरे! दादी क्या देख रही हैं? आप नहीं  जानती मोबाइल कितना जरूरी हैहम शहर वालों की तो यह जीवन रेखा  बन गया है। इसके बिना एक पल नहीं चलता ”-उन्होंने  कहा।
अच्छा” – बड़ी दादी ने आश्चर्य से मोबाइल को हाथ में लेते हुए कहा।
वे उस चौकोर जादुई डिबिया को बड़े अचरज से देख रही थी, जिस पर  उँगलियाँ फिराते ही एक अनोखी ही दुनिया में पहुँच जाते, जहाँ की हर चीज बहुत ही आकर्षक दिखाई दे रही थी। देखकर एकदम आँखें चौंधिया गई, “अरे!! अरे …यहाँ तो मैं भी हूँ  कितनी सुंदर, मुझे तो पता ही नहीं था कि मैं ऐसी भी दिख सकती हूँ”-सेल्फी की जादुई दुनिया का भ्रमण करते हुए बड़ी दादी कह उठी।
यह सब  देखकर उन्हें चिराग  की याद हो आई, जिसे घिसने पर प्रकट होने वाला जिन्न हर इच्छा को एक क्षण में पूरा कर देता था।
इस छोटे से खिलौने में पूरी दुनिया समाई हुई है। इसने हर काम को बहुत आसान बना दिया है। चाहे किसी को संदेश भेजना , बात करना  या  चलते फिरते देखनासब चुटकियों में हो जाता है”
क्या सच में?”- बड़ी दादी ने अचरज से कहा।
हाँ दादीकिसी चीज की जानकारी चाहिए या  कुछ खरीदना हो, सब कुछ एक टच में कर देता है, सुई से लेकर बड़ी चीज, सब आपके घर आ जाती है”
कपड़े होंगहने हो, रसोई का सामान…..।.”
बड़ी दादी ने बीच में टोकते हुए पूछा
और....  संस्कार?”

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष