May 15, 2020

दो लघुकथाएँ


1. सूरजमुखी खिल उठे

-सुदर्शन रत्नाकर

दरवाज़े की घंटी बजते ही शीना बिस्तर से उठ कर बाहर आ गई। इतनी सुबह कौन हो सकता है। दरवाजा खोलातो देखा मम्मी जी खड़ी थीं। अनायास ही उसके मुँह से निकला, ‘अरे मम्मी जी आप! इतनी सुबह, सब ठीक तो है न। आपने आने के लिए फ़ोन ही नहीं किया। हम आपको लेने आ जातेउसने एक साथ कई प्रश्न पूछ डाले और साथ ही झुक कर पाँव छू लिए।
सब ठीक है, अंदर तो आने दो।उनकी आवाज़ सुन कर अजय भी उठ कर आ गया। आते ही वह माँ के गले लग गया और उन्हें गोद में उठाने की कोशिश करने लगा।
चल हट ,अभी तुम्हारा बचपना नहीं गया।कहते हुए पुष्पा अंदर आ गई। अजय ने सामान उनके कमरे में रख  दिया।
मम्मी जी फ़्रेश होने के लिए गईं तो शीना उनके लिए चाय-नाश्ता बनाने किचन में चली गई। ट्रे हाथ में लिए जब वह मम्मी जी के कमरे के सामने पहुँची तो उसने सुना, वह कह रही थीं, ‘नहीं परेशानी तो कोई नहीं थी। रिया ने बड़े आराम से रखा लेकिन जब उसके सास -ससुर आ गए तो वह कुछ अधिक ही व्यस्त हो गई थी। घर, परिवार, नौकरी सभी जगह काम करना, पर वह सब सम्भाल लेती थी। इन सबके बीच मुझे परायापन सा लगता था। सोचती शीना से अकारण नाराज़ हो कर अपना घर छोड़ कर यहाँ चली आई हूँ। अपनी बेटी है फिर भी कुछ था, जो ठीक नहीं, अच्छा नहीं लगता था। बेटा अपना घर अपना ही होता है। अब तो शीना ही बहू है, शीना ही बेटी है।
शूल जो चुभा था, निकल गया था।
उसने अंदर आकर मुस्कुराते हुए नाश्ते की ट्रे मेज़ पर रख दी। भोर हो गई थी और सूरज की सुनहरी किरणें खिड़की के रास्ते आकर कमरे में फैल गई थीं मानों हज़ारों सूरजमुखी खिल गए हों।

2. मैं हूँ न

आज माँ की सतरहवीं था। सुबह ही सभी रस्में निभा ली गईं थीं । ब्राह्मणों को भोजन करा लिया गया। दोपहर तक सभी काम निपट गए। शाम की गाड़ी से अंजलि को अपने घर लौटना था। उसका मन बुझा -बुझा सा था। माँ थी तो वह कभी कभार मायके चली आती थी। भाई-भाभी भी उसका ध्यान रखते थे। मायका तो माँ के साथ होता है। वह नहीं रही तो किस अधिकार से आएगी। सबकी अपनी अपनी गृहस्थी है। जीवन की आपा-धापी है । किसी के पास रिश्तों को निभाने का समय कहाँ है !
एक तो माँ नहीं रही, दूसरा पता नहीं भाई-भतीजों से फिर कब मिल पाएगी। यह सोच कर अंजलि के मन में कुछ कँटीला -सा चुभ रहा था। सब कुछ समाप्त हो गया था।
गाड़ी रात आठ बजे छूटनी थी। वह सात बजे घर से निकलने के लिए तैयार हो गई। बार बार मना करने पर भी
भाई- भाभी उसे स्टेशन पर छोड़ने आए। गाड़ी चलने लगी तो भाई ने आँखों में आँसू भर कर कहा, ‘दीदी आप ज़रूर आती रहें। माँ नहीं रही तो मत सोचना कि यहाँ कोई नहीं है । मैं हूँ न दीदी, माँ के बाद मेरा सहारा भी तो आप हैं।भाई ने चलते चलते कहा तो भाभी ने उसकी हाँ में हाँ मिलाते हुए कहा, ‘हा दीदी ज़रूर आते रहना। यह भी आपका ही घर है।
गाड़ी के चलने के साथ भाभी के शब्द दूर होते जा रहे थे पर उसका बोझिल मन हल्का हो गया था।

सम्पर्कः ई-29, नेहरू ग्राँऊड, फ़रीदाबाद 12100, मो. 9811251135

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष