November 17, 2018

खोज

माया सभ्यता में चॉकलेट एक मुद्रा थी

हाल के एक अध्ययन का निष्कर्ष है कि मध्य अमेरिका में फली-फूली प्राचीन माया सभ्यता में चॉकलेट बनाने में उपयोग किए जाने वाले ककाओ बीजों का उपयोग खरीद-फरोख्त में मुद्रा के रूप में किया जाता था।
प्राचीन माया सभ्यता मूलत: वस्तु विनिमय पर आधारित थी जिसमें मक्कातंबाकू और वस्त्रों का उपयोग बहुतायत से होता था। सोलहवीं सदी के कुछ विवरणों से पता चलता है कि युरोप में ककाओ बीजों का उपयोग काफी आम था। इनका उपयोग मज़दूरों को भुगतान में भी किया जाता था। तो बार्ड अर्ली कॉलेज नेटवर्क के पुरातत्ववेत्ता जोआन बैरन ने सोचा कि माया सभ्यता में भी इस बात की खोजबीन करनी चाहिए। अपनी खोजबीन में उन्होंने मुख्यत: 250 ईस्वीं से 900 ईस्वीं के दौरान बनाए गए माया चित्रों पर ध्यान दिया। इनमें बड़ी पेंटिंग्ससिरेमिक बर्तनों पर बने चित्र और तराशे गए चित्र शामिल थे। ये कलाकृतियाँ आजकल के मेक्सिको तथा मध्य अमेरिका के माया स्थलों से प्राप्त हुई हैं।
बैरन ने पाया कि इस अवधि के शुरुआती दौर की कलाकृतियों में चॉकलेट ज़्यादा नज़र नहीं आता है। किंतु आठवीं सदी के बाद से ऐसा लगता है कि लोग ककाओ बीजों का उपयोग धन के रूप में कर रहे हैं और इसी के माध्यम से वे सेवाओं और वस्तुओं का भुगतान कर रहे हैं। इससे पहले तक इसका उपयोग वस्तु विनिमय में दिखाई पड़ता है। जैसे एक तस्वीर में बाज़ार में एक महिला गर्मागरम चॉकलेट से भरा प्याला देकर तमाले नामक व्यंजन बनाने में प्रयुक्त आटा ले रही है।
बहरहालथोड़े बाद के समय में चॉकलेट एक मुद्रा के रूप में नज़र आता है। 691 ईस्वीं से 900 ईस्वीं के बीच के 180 अलग-अलग चित्रों में बैरन ने देखा कि लोगों द्वारा माया हुक्मरानों को चुकाए जा रहे करों या नज़रानों में तंबाकू और मक्का के अलावा अचानक दो और चीज़ें दिखने लगती हैं-बुने हुए कपड़े और ककाओं के बीज की थैलियाँ  जिन पर लिखा होता है कि उनमें कितने बीज भरे गए हैं। इसके आधार पर बैरन ने इकॉनॉमिक एँथ्रोपोलॉजी नामक जर्नल में बताया है कि संभवत: माया लोग ककाओ और बुने हुए कपड़े का उपयोग मुद्रा के रूप में करते थे। यह इसलिए भी लगता है क्योंकि राजमहलों में अपनी खपत से ज़्यादा ककाओ और कपड़े इकट्ठे किए जा रहे थे। निश्चित रूप से इनका उपयोग अपने कर्मचारियों को वेतन देने और महल के लिए ज़रूरी सामान खरीदने में होता होगा। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष