April 15, 2018

किताबें मिलीं

बच्चों के लिए चित्रमयी झाँकी
एकलव्य प्रकाशन-- 10 शंकर नगर बीडीए कॉलोनी, 
शिवाजी नगर, भोपाल-462016 (.प्र.)
फोन- 91- 7552550976, 267 1017
 www.eklavya.in / books@eklavya.in
एकलव्य द्वारा बच्चों के लिए प्रकाशित पुस्तकें हमेशा ही उपयोगी, रचनात्मकता लिये हुए और कहानी, कविता तथा विभिन्न घटनाक्रमों के माध्यम से शिक्षा देने के साथ प्रेरक होती हैं।  पुस्तकों में उकेरे गए चित्र अपने आप में पूरी कथा का बिम्ब प्रस्तुत करते हैं। बच्चों को जिन्हें पढऩा नहीं पड़ता, वे सिर्फ चित्र देखकर जानकारी हासिल करते हैं। यूँ भी बच्चों को चित्रों के माध्यम से सिखाना- पढ़ाना ज्यादा आसान होता है, बनिस्तपत शब्दों के। रंग- बिरंगे चित्र बच्चों को सबसे पहले आकर्षित करते हैं।  एकलव्य से प्राप्त सभी किताबें रंग- बिरंगे चित्रों से भरी हुईं हैं। ऐसी किताबें जिनमें चित्र बोलते हैं, शब्द नहीं।
सिर का सालन-
सिर का सालन खदीर के परिवार में इतवार के दिन भोजन पकाने की ऐसी कहानी है कि मुँह में पानी आ जाए। इसके लेखक हैं मोहम्मद खदीर बाबू और चित्रकार हैं गुलाम मोहम्मद शेख।
मितवा-
परिवार के रिश्तों से जूझती और उसमें अपने लिए जगह तलाशती एक लड़की मितवा की कहानी। इसके लेखक हैं कमला भसीन और चित्र बनाए हैं शिवांगी।
खत-
 खत लिखने से उनके गंतव्य तक पहुँचने की यात्रा की बात करती एक किताब। इसके लेखक और चित्रकार हैं सुमित पाटिल व रुपाली बर्गें।
पतंग-
 सपनों को उडाऩ देती पतंग। बचपन में रंग भरती पतंग। पुस्तक के लेखक हैं राजेश जोशी और चित्र बनाए हैं सुविधा मिस्त्री ने।
आओ बादल-
बारिश और बादलों पर आधारित एक कविता। इसके लेखक हैं श्याम सुशील और चित्रों से संजोया हिै प्रोइती रॉय ने।
क्या बात हो गई-
साँझ का वर्णन करती एक कविता। इस किताब के रचनाकार हैं प्रभात औतर चित्र बनाए हैं हीरा धुर्वे ने।
लाल पहाड़-
 यह कहानी है एक कछुए और लाल पहाड़ की। यह बिना शब्दों की चित्रमय कहानी है । जिसके चित्रकार हैं- वासवी ओज़ा।
अच्छा मौसी अलविदा-
चिडिय़ा और बिल्ली के बीच हो रहे खट्टे मीठे संवादों को बयाँ करती एक किताब. मय माड़ की लोककथा है जिसका पुनर्लेखन किया है प्रभात ने औतर मांडना शैली के चित्र बनाए है सुनीता ने।
कुत्ते का एक दिन-
यह एक कुत्ते के एक दिन की चित्रमय कहानी है जो बच्चो को बहुत पसंद आने वाली है। इतसके चित्र बनाए हैं नरेन्द्रन आर नायर ने।
जब पुरुषों ने शिकार किया, तब महिलाओं ने क्या किया?-
जब पुरुष  शिकार के लिए जाती थीं तो महिलाएँ क्या करती थीं। पाषाणकाल में मिले शैल चित्रों में इस सवाल का जवाब तलाशती एक किताब। इसके लेखक हैं सी.एन.सुब्रह्मण्यम्।
जब महिलाओं ने शिकार किया, तब पुरुषों ने क्या किया-
मध्यकालीन शिल्पों में महिला शिकारियों की मज़ेदार कहानियाँबयाँ करती एक छोटी-सी चित्र किताब। इसके लेखक हैं सी,एन. सुब्रह्मण्यम्।
अकाल और उसके बाद-
यह किताब नागार्जुन की एक चर्चित कविता में से एक है। कविता को चित्रों से सँजोया है कैरनहेडॉक ने।
कहानियों का पेड़-
इस किताब की कहानियाँ सबरी और उसके दोस्तों की है। सबरी जिसको चित्र बनाना बेहद पसंद है। इन कहानियों को लिखा है रिनचिन ने और चित्र बनाए हैं कनक शशि ने।
कक्कु के कारनामे -
 कक्कु का पढऩे में बिलकुल मन नहीं लगता था पर खेलना और दोस्त बनाना उसे बेहद पसंद था । उसकी शरारतों को बयाँ करती खूसबसूत किताब है यह। इसके लेखक हैं पीके बसन्त।
अकम से पुरम तक-
 एक कहानी जब जन्म लेती है तो क्या होती है? उसमें कहने सुनने वाले कितना कुछ जोड़ते और बदलते हैं। इससे कहानी एक विस्तार पाती है। कहानी के इसी सफर को दर्शाती है यह किताब। इसकी लेखिका हैं तेजी ग्रोवर।
जंगली सरसों के उपहार-
एक फसल से दूसरी फसल का विकास कैसे हुआ? प्राकृतिक और कृत्रिम चयन क्या है? उन्हीं सवालों पर चर्चा करती है यह किताब। इस किताब के कहानीकार और चित्रकार हैं कैरन हेडॉक।
चलों चलें पक्षी देखने-
बच्चों को आसपास के पक्षियों से रूबरू कराती एक चित्रकथा है यह किताब। पक्षियों को चित्रों में उकेरा है श्रद्धा किरकिरे ने।
मैं ढूँढ़ रहा हूँ-
दूसरे विश्व युद्ध के समय जापान के हिरोशिमा शहर में अमरीका द्वारा परमाणु बम गिराया गया। इस किताब में प्रस्तुत कविताएँ जापान के शान्ति संग्रहालय में परमाणु बम से प्रभावित हुए लोगों की प्रदर्शित वस्तुओं पर लिखी गई हैं। इसके लेखक हैं आर्थर बिनार्ड और जापानी से हिन्दी में अनुवाद किया है तोमोको किकुचि ने।

0 Comments:

लेखकों से... उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।
माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। माटी संस्था कई वर्षों से बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से उक्त गुरूकुल के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (U.K.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर, रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी, रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से स्कूल जाने में असमर्थ बच्चे शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होंगे ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेंगे। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ.ग.) मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष