December 25, 2016

बूँद की कीमत

आओ करें बादलों से प्यार
- अनुपम मिश्र

राजस्थान के रेगिस्तान में बादल बहुत कम आते हैं। पर यहाँ के लोग बादलों से बहुत प्यार करते हैं। दरअसल वे पानी की हर बूँद की कीमत समझते हैं। इसलिए वे बारिश के पानी को बहुत करीने से बचाकर पूरे साल काम चलाते हैं।
पानी का व्यापार
आप सभी उद्यमी हैं। आप व्यापार की बारीकियों को अच्छी तरह समझते हैं। अच्छा उद्यमी वही है, जो छोटी पूँजी से बड़ा व्यापार करे। आज मैं आपसे राजस्थान के रेगिस्तान में होने वाले एक व्यापार के बारे में बात करुँगा। यह पानी का व्यापार है। उद्योग में दो चीजें अहम हैं- उत्पादक और उपभोक्ता। लेकिन, यहाँ तस्वीर अलग है। यहाँ उपभोक्ता और उत्पादक एक ही हैं।
जमीन के अन्दर का पानी खारा है और बारिश बहुत कम होती है। मतलब यह कि यहाँ कच्चा माल नहीं है। पानी में निवेश के लिए आपको लोन भी नहीं मिलने वाला। लेकिन रेगिस्तान के लोग बड़ी शिद्दत से सैकड़ों साल से पानी का व्यापार करते आए हैं। ये रेनवाटर हार्वेस्टिंग के जरिए पूरे साल के लिए पानी का प्रबन्ध करते हैं। आप यह व्यवस्था देखेंगे ,तो आपको आश्चर्य होगा कि वे इतने बड़े पैमाने पर कैसे करते हैं पानी का संचय ? इनका सीईओ कौन है, उनके वालंटियर कौन हैं।
कम बारिश
इस इलाके में विकास के नाम पर बनाई जाने वाली सड़कें, पुल, बिजली, अस्पताल कुछ भी नहीं हैं। यहाँ सबसे कम बारिश होती है। साल में सिर्फ 16 सेंटीमीटर बारिश होती है। यहाँ भूजल 300 फीट की गहराई में है। ज्यादातर जगहों पर इस पानी में सेलाइन मिला है, इसलिए यह पीने योग्य नहीं है। लिहाजा यहाँ न तो आप हैण्डपम्प लगवा सकते हैं और न ही कुआँ खुदवा सकते हैं।
इन इलाकों में बादल बहुत कम आते हैं। लेकिन यहाँ के लोगों ने बादलों को बड़े प्यार से ढेर सारे नाम दिये हैं। स्थानीय भाषा में यहाँ बादलों के कम-से-कम चालीस नाम हैं। आखिर क्यों बादलों से इतना प्यार करते हैं यहाँ के लोग। दरअसल वे पानी की कीमत समझते हैं। वे जानते हैं कि जीवन चलाने के लिए पानी सबसे बड़ी जरूरत है, शायद इसीलिए वे बादलों से इतना प्यार करते हैं।
रेनवाटर हार्वेस्टिंग
इन इलाकों में बारिश के पानी के संचय (रेनवाटर हार्वेस्टिंग) की तकनीक हैं। हम सबके लिए रेनवाटर हार्वेस्टिंग एक नया कार्यक्रम है लेकिन रेगिस्तान में रहने वाले समाज के लिए यह कोई कार्यक्रम नहीं है, यह तो उनका जीवन है। वे सालों से इसे करते आए हैं। वे बारिश के पानी को संचय करने के लिए कई तरीके अपनाते हैं। वे जमीन पर कुण्ड बनाकर पानी संचय करते हैं। कई बार पढ़े-लिखे इंजीनियर भी बाथरूम में स्लोप बनाने में लापरवाही कर जाते हैं पर गाँवों के ये लोग रेनवाटर हार्वेस्टिंग कुण्ड बनाते समय बेहद सतर्क रहते हैं ताकि पानी की एक बूँद भी बर्बाद न जाए।
इनका नियम
जब आप कहीं उद्योग लगाते हैं तो आपको रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम लगाना पड़ता है। यह नया नियम है। ज्यादातर लोग इसे नजरअन्दाज करते हैं। कई लोग तो झूठ बोल देते हैं कि उन्होंने यह सिस्टम लगा लिया है, जबकि असल में वे इसका कोई प्रबन्ध नहीं करते हैं। लेकिन रेगिस्तान के गाँव वालों के लिए किसी ने कानून नहीं बनाया। इन्होंने अपने लिए खुद नियम बनाया है।
यहाँ हर घर में एक रेनवाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम मिलेगा। परम्परागत ढंग से बने इस सिस्टम को टांका या कुण्ड कहते हैं। वे छत और आँगन के जरिए बारिश का पानी संचय करते हैं। वे जल संचय प्रक्रिया में सफाई का पूरा ध्यान रखते हैं। यह पानी पूरी तरह से मीठा, साफ और पीने योग्य है। आप में से ज्यादातर लोग घरों में वाटर फिल्टर लगवाते हैं लेकिन इनके पानी को फिल्टर की जरूरत नहीं होती।
जयगढ़ किला
जयपुर के पास जयगढ़ किले में रेनवाटर हार्वेस्टिंग का विशाल प्लांट है। यहाँ हर मौसम में करीब 60 लाख गैलन पानी के संचय की व्यवस्था है। यह प्लांट चार सौ साल पुराना है। आजकल नई सड़कें कुछ साल में ही टूट जाती हैं, लेकिन यह प्लांट सही सलामत है। गाँव वालों की कई पीढिय़ाँ इस प्लांट की रखवाली करती आई हैं। इसका पानी पूरी तरह से शुद्ध है।
योजना फेल
सरकार ने बीकानेर में करीब 25-30 साल पहले कई सौ किलोमीटर दूर से नहर के जरिए लोगों को पानी उपलब्ध कराने का फैसला किया। हालाँकि लोगों को सरकार की योजना पर ज्यादा भरोसा नहीं था, इसलिए उन्होंने अपनी परम्परागत जल संचयन व्यवस्था जारी रखी। सरकार ने योजना पर करोड़ों खर्च किए, पर योजना फेल हो गई। दूसरी तरफ हजार साल पहले से चली आ रही रेनवाटर हार्वेस्टिंग की सुविधा अब भी कारगर है। इस इलाके में पानी की जरूरत बारिश के पानी से ही पूरी होती है।
टाउन प्लानिंग
अब मैं आपको जैसलमेर की तस्वीर दिखाता हूँ। ये शहर टाउन प्लानिंग, सिविल इंजीनियरिंग और आर्किटेक्ट का बेहतरीन नमूना है। 800 साल पहले बसाए गए इस शहर के हर घर की छत के ऊपर रेनवाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था है। दिल्ली और मुम्बई में लोग टाउन प्लानिंग में खामियों की वजह से बहुत सारी दिक्कतों से जूझते हैं। लेकिन, सालों पहले बसाए गए जैसलमेर में लोगों की जरूरतों का ख्याल रखा गया है। यहाँ 52 तालाब हैं। पानी का स्तर कम हो या ज्यादा, हर मौसम में इन तालाबों की खूबसूरती बरकरार रहती है। ये तालाब पूरे साल लोगों को मीठा पानी उपलब्ध कराते हैं। बस इतना सा था रेगिस्तान का सन्देश। (पर्यावरणविद अनुपम मिश्र ने नवम्बर 2009 में टेड के मंच पर यह भाषण दिया था।)

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष