April 20, 2016

जल-संरक्षण विशेषांक

पानी का सही इस्तेमाल हो
-पूनम गुजरानी
पाश्चात्य देशों में टायलेट वॉटर पर शोध की विस्तृत कार्य-योजना चल रही है ताकि उसे पीने योग्य बनाया जा सके।
पिछले दिनों एक खबर की हेडलाईन थी - पीने के लिए टायलेट वाटर। खबर पढ़कर एक पल को झटका लगा कि हम किस ओर जा रहे हैं? क्या हमारी स्थिति इतनी खराब हो गई है कि हमें पीने के लिए टायलेट वाटर का इस्तेमाल करना पड़ेगा? किन्तु यदि गहराई से चिंतन करें तो पता चलता है कि मनुष्य ने प्रकृति के साथ इतना खिलवाड़ किया है कि प्रकृति के अंधाधुंध दोहन के कारण प्राकृतिक संपदाएँ अथाह होते हुए भी खटने लगी है। सभी जानते है कि हमें हवा के पश्चात सबसे ज्यादा जरूरत पानी की होती है। हमारे आहार में 70 प्रतिशत भाग पानी का होता है फिर भी क्या कारण है कि हर घर में हर क्षेत्र में पानी का दुरुपयोग देखने को मिल जायेगा।
यद्यपि हमारे यहाँ वेद, उपनिषद तथा तमाम जैन साहित्य में पानी बचाने के निर्देश हैं। चाहे फिर वो प्यास से आकुल प्राणी को पानी पिलाने में धर्म मानता हो, कुएँ, बावडी व तालाबों का संरक्षण करने में तथा नए बनवाने में भी धर्म मानता हो अथवा एक बूँ पानी में असंख्य जीवों का होना स्वीकारता हो, पर सभी बातों का उद्देश्य पानी को संरक्षित करना, उसके दुरुपयोग को रोकना ही प्रतीत होता है। इतना होने पर भी पानी का दुरुपयोग वर्षो से हो रहा है । प्रश्न उठता है कि क्या हम आने वाली पीढ़िय़ों को पानी रूपी अमृत से वंचित रखना चाहते हैं? क्या हम चाहते हैं कि वे पानी की कमी के लिए हमें दोषी ठहराएँ या फिर वे पानी के लिए तड़पते-तड़पते अपनी जान गँवा दें।
वैश्वीकरण के इस दौर में पानी भी बाजारी वस्तु हो गया है। उपभोक्ता कीमत देकर पानी खरीद रहा है। पाश्चात्य देशों में पानी की एक बोतल काफी बड़ी कीमत देकर खरीदनी पड़ती है और वहाँ थोड़े समय के लिए जाने वाला व्यक्ति पानी भी सोच समझकर पीता है। ऐसी स्थिति के लिए जिम्मेदार कौन है? दर्पण में देखें तो स्वयं अपना ही अक्स नजर आयेगा। पैसे से पानी भी तभी तक खरीदना संभव होगा जब तक पानी है। जब पानी नहीं होगा, तब ये पैसे भी किसी काम के नहीं होंगें। रहीम जी ने एक दोहे में कितनी सटीक बात कही है-
रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून।
पानी गए न ऊबरे, मोती मानस चून॥
लगभग सभी हिन्दी भाषी लोगों को यह दोहा कंठस्थ होगा किन्तु इसे जीवन में उतारने वाले एक प्रतिशत से ज्यादा नहीं होंगे।
कितने आश्चर्य का विषय है कि चाँद पर पहुँच जाने वाला मानव आज भी हमारी सबसे अति आवश्यक धरोहर (पानी) को बचा पाने में अक्षम प्रतीत हो रहा है। पृथ्वी पर पानी का अतुल भंडार है। पृथ्वी के तीन हिस्से जलमय हैं; किन्तु उसमें पीने लायक पानी काफी कम मात्रा में उपलब्ध है या यूँ कहें कि जो उपलब्ध है, उसी का दुरुपयोग दिन प्रतिदिन इसकी कमी को बढ़ा रहा है। वैसे भारत में पानी पाश्चात्य देशों के मुकाबले काफी मात्रा में है। यहाँ वर्षा भी काफी अच्छी होती है। हालाँकि संसाधनों की कमी के कारण इसका पूरा उपयोग नहीं हो पाता। जैसा कि - भारत 2020- में राष्ट्रपति कलाम ने लिखा है कि भारत में होने वाली वर्षा की मात्रा को यदि बराबर सारे देश में छितरा दिया जाए तो पानी एक मीटर की गहराई तक दिखाई देगा। इस पानी को किस तरह उपयोग किया जागा यह तो वैज्ञानिक अनुसंधान का विषय है तथा आने वाला समय ही बतागा कि हम इसका कितना उपयोग कर पाते हैं? किन्तु क्या वैज्ञानिकों के भरोसे हाथ पर हाथ धरकर बैठ जाने से हम कर्त्तव्य की इतिश्री हो जाती है? क्या हमारा कार्य बिना पानी के चल सकता है? अगर नहीं तो फिर पानी को बचाने की जिम्मेदारी हमारी भी उतनी ही है जितनी किसी वैज्ञानिक की।
मुझे याद है कि बचपन में मेरी दादी कपड़े धोने से निकले हुए पानी को पोंछा लगाने के काम में, दाल-चावल व सब्जियाँ धोने से निकलने वाले पानी को पौधों में डालने के काम में लिया करती थी। हमारे घर में पानी का दुरूपयोग सर्वथा वर्जित था। आज ऐसे जीवन मूल्य दुर्लभ होते जा रहे हैं। हर बाथरूम में लगा हुआ बाथ-टब, खुले नलों के नीचे धुलते कपड़े और बरतन धोते या नहाते समय फव्वारें का इस्तेमाल आदि में पानी का जमकर प्रयोग होता है। आने वाले समय में पानी कोई दुर्लभ वस्तु न बन जाए, इसके लिए हमें आज से ही सावधान रहना होगा; ताकि पानी की हर कीमती बूँद को बचाया जा सके और आने वाली पीढ़ी को पानी की कमी के लिए हमें उत्तरदायी ना ठहराएँ, यही उपयुक्त होगा। पानी जीवन की पहली शर्त है। अत: पानी की बचत करने की आदत अपनी जीवन शैली में अपनाएँ, यही जीवन को सुरक्षित रखने की तरफ हमारा पहला कदम होगा। इसके साथ ही हमें बरसात के पानी को उपयोग में लाने के तरीकों को भी अपनाना होगा ताकि उसकी हर बूँद का सदुपयोग हो सके।
पानी का सही इस्तेमाल ही हमें सुखद जीवन दे सकता है, फिर कभी बिन पानी सब सून की नौबत नहीं आगी।

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष