February 21, 2013

कुत्ते हमारे वफादार कैसे बने?



कुत्ते हमारे वफादार कैसे बने?
कुत्ते दरअसल भेडिय़ों के वंशज हैं, जो थोड़े कम आक्रामक हैं और मित्रतापूर्ण व्यवहार करते हैं। यह लगभग सर्वमान्य तथ्य है कि हज़ारों बरस पहले कुत्तों को पालतू बनाया गया था। कुछ लोग मानते हैं कि इन्हें पालतू बनाया नहीं गया था, बल्कि ये भोजन की तलाश में खुद ही मनुष्यों के पास रहने लगे थे और धीरे-धीरे पालतू हो गए। कौन-सी बात सही है, इसका पता लगाना मुश्किल है।
हाल ही में नेचर में प्रकाशित एक अध्ययन का निष्कर्ष है कि कुत्ते मनुष्यों के आसपास रहते-रहते ही उनके साथी बने थे। इस अध्ययन के मुखिया उपसला विश्वविद्यालय के कस्टिंन लिंडब्लैड टोह का कहना है कि हालांकि यह संभव है कि मनुष्यों ने जाकर कुछ भेडि़ए पकड़ लिये होंगे और उन्हें पालतू बनाया होगा, मगर ज़्यादा संभव यह लगता है कि खेती की शुरुआत के बाद भेडिय़ों को मनुष्यों का बचा-खुचा खाना हासिल करना सुविधाजनक लगा होगा।
 जीवाश्म प्रमाणों से पता चलता है कि कुत्तों का पालतूकरण साइबेरिया या इज्ऱाइल में 33,000 से 11,000 वर्ष पूर्व के बीच हुआ है। दूसरी ओर, आधुनिक कुत्तों के डीएनए विश्लेषण के आधार पर लगता है कि ये करीब 10,000 साल पहले पालतू हुए हैं। ऐसा माना जाता है कि इनका पालतूकरण दक्षिण-पूर्व एशिया या मध्य-पूर्व में कहीं हुआ होगा हालाँकि कई विशेषज्ञ मानते हैं कि इन्हें अलग-अलग जगहों पर एक से अधिक बार पालतू बनाया गया है।
बहरहाल, लिंडब्लैड-टोह के दल ने यह देखने की कोशिश की कि भेडिय़ों और कुत्तों के जीन्स में क्या अंतर हैं। उन्होंने पाया कि भेडिय़ों और कुत्तों के जीनोम के 36 खंडों में अंतर होते हैं। इनमें से 19 खंड ऐसे थे जो मस्तिष्क के विकास या कार्य से सम्बंधित हैं। इसके अलावा 10 खंड ऐसे हैं जिन्होंने कुत्तों को मंड का पाचन करने में सक्षम बनाया। गौरतलब है कि मनुष्यों के भोजन में मंड यानी स्टार्च एक प्रमुख घटक होता है। इसके आधार पर माना जा सकता है कि स्टार्च को पचाने की क्षमता का विकास मनुष्यों और कुत्तों में साथ-साथ हुआ। यह सहविकास का एक उम्दा उदाहरण है और इसका सम्बंध कृषि के विकास से है।
मगर अन्य विशेषज्ञ बताते हैं कि कुत्तों के सबसे पुराने जीवाश्म खेती के विकास से भी पहले के हैं। इन विशेषज्ञों को लगता है कि खेती से कुत्तों के पालतूकरण का सम्बंध नहीं है। हो सकता है कि पहले कुत्तों में व्यवहारगत परिवर्तन हुए हों और स्टार्च पचाने की क्षमता का विकास बाद में हुआ हो। अलबत्ता, इतना तो कहा ही जा सकता है कि आधुनिक कुत्तों का भोजन भेडिय़ों से अलग होता है और उन्हें मांस खाने की ज़रूरत नहीं है। (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष