December 18, 2012

बॉवरबर्ड


घोंसला सजाने वाला पक्षी
हाल में एक अध्ययन के नतीजे प्रकाशित हुए हैं, जिनसे लगता है कि एक पक्षी है जो अपने घोंसले के आसपास पौधे उगाता है। और इस 'जंगलसे तय होता है कि वह नर पक्षी साथी ढूँढने में कितना सफल होगा। अभी यह कहना मुश्किल है कि क्या वह जानबूझकर यह जंगल रोपता है।
धब्बेदार बॉवरबर्ड का नर तिनके जोड़-जोड़कर एक घोंसला बनाता है। घोंसले को बॉवर कहते हैं। यह कुटिया बनाने के बाद वह इसे तरह-तरह की चीजों से सजाता है ताकि किसी मादा को रिझा सके। सजावट की सबसे महत्त्वपूर्ण वस्तु सोलेनम एलिप्टिकम नामक पौधे की बेरियाँ होती हैं। और लगता है कि अपने घोंसले को सजाने के चक्कर में यह पक्षी उस इलाके में पौधों के वितरण को बदल रहा है।
यूके के एक्सेटर विश्वविद्यालय के जोआ मैडन ने ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैण्ड क्षेत्र में सोलेनम एलिप्टिकम के वितरण का अध्ययन किया। यह क्षेत्र धब्बेदार बॉवर पक्षी का प्राकृतवास है। हालाँकि ये पक्षी अपना घोंसला उन जगहों पर नहीं बनाते जहाँ सोलेनम एलिप्टिकम की बहुतायत हो, मगर घोंसला बनाने के एक साल बाद हर घोंसले के आस-पास औसतन 40 सोलेनम एलिप्टिकम पौधे पाए गए। जिन पक्षियों के घोंसलों के आस-पास ज़्यादा पौधे थे उनके घोसलों में बेरियाँ भी ज़्यादा पाई गर्इं। मैडन यह तो पहले ही देख चुके थे कि बेरियों की संख्या के आधार पर नर पक्षी की संतानोत्पत्ति में सफलता का अच्छा अनुमान लगाया जा सकता है। तो मैडन का अनुमान है कि मुख्य काम घोंसले में बेरियाँ इकट्ठी करना है। जो बेरियाँ मुरझा जाती हैं उन्हें यह पक्षी घोंसले से बाहर फेंक देता होगा और वे वहाँ उग आती होंगी।

इस तरह से बॉवर पक्षी इलाके में सोलेनम एलिप्टिकम के वितरण को बदल रहा है। मगर क्या इसे खेती करना कहेंगे? खुद मैडन मानते हैं कि उक्त परिणामों के आधार पर यह तो नहीं कहा जा सकता कि यह पक्षी जानबूझकर पौधे रोप रहा है। मगर साथ ही वे यह भी कहने से नहीं चूकते कि मनुष्य द्वारा खेती की शुरुआत अनायास ही हुई थी। तो फिर बॉवर पक्षी के क्रियाकलापों को भी प्रारंभिक खेती क्यों नहीं माना जा सकता? (स्रोत फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष