October 29, 2011

विश्वसनीयता का अंधकार

मानवीय समाज में प्रगति के जो मुख्य कारण हैं उनमें से एक है मनुष्यों के बीच में आपसी विश्वसनीयता। जब यह दो मनुष्यों के बीच में होती है तो इसे गहरी मित्रता कहा जाता है। परिवार की ओर हम ध्यान दें तो परिवार के सदस्यों के बीच में विश्वास पारिवारिक संगठन का मूलमंत्र होता है। इस आपसी विश्वसनीयता के चलते परिवार के सदस्य निजी तथा एक दूसरे की प्रगति के लिए सतत प्रयत्न करते रहते हैं।
वास्तव में तो विश्वसनीयता मानवीय समाज की प्राणवायु है और समाज इसी विश्वसनीयता के चलते सुचारू रुप से चलता रहता है। समाज में यह अनिवार्य है कि हमें विश्वास हो कि चौकीदार हमारे जान-माल की रक्षा के लिए है। अभिभावकों को यह विश्वास होना चाहिए कि शिक्षक उनके बच्चों को सही तरीके से पढ़ायेगा और उचित मार्गदर्शन देगा। जनता को यह विश्वास होना चाहिए कि न्यायाधीश निष्पक्ष भाव से न्याय करेगा और डॉक्टर मरीज का सहानुभूति पूर्वक इलाज करेगा। इसी प्रकार से समाज के कई अन्य कार्यकलाप हैं जिनमें विश्वसनीयता का होना अनिवार्य है।
परंतु क्या वास्तव में ऐसा है? आज के मानवीय समाज में यह स्पष्ट दिख रहा है कि विश्वसनीयता का बड़ा संकट उपस्थित हो गया है। जनता में गरीबों की संख्या बढ़ती चली जा रही है और सरकार कह रही है कि शहर में जो व्यक्ति प्रतिदिन 32 रूपए कमाता है या गांव में 26 रूपए उसे गरीबी रेखा से ऊपर अर्थात समृद्ध माना जाए। दिन-प्रति-दिन सरकार द्वारा जनता के टैक्स की राशि में बड़ी-बड़ी रकम के घोटालों के प्रमाण आ रहे हैं। कहीं मोबाइल टेलीफोन लाइसेंस में, कहीं कॉमनवेल्थ खेलों में तो कहीं एयरइंडिया के परिचालन में... इत्यादि इत्यादि। और तब भी सरकार के कर्णधार चाहते हैं कि जनता इस बात का विश्वास रखे कि वह बड़ी इमानदारी से काम कर रहे हैं। इस माहौल में क्या यह संभव है कि ऐसे प्रशासन तंत्र के प्रति जनता में तनिक भी विश्वास होगा। जबकि किसी भी सरकार की सबसे बड़ी शक्ति होती है जनता का उस पर विश्वास। इसे बोलचाल की भाषा में कहते हैं सरकार का इकबाल। वास्तविकता तो ये है कि आज के भारत में जो प्रशासन तंत्र है वह जनता की निगाह में अपनी विश्वसनीयता पूर्णतया खो चुका है। इसका प्रमाण ये है कि जहां कहीं भी सरकारी तंत्र द्वारा जनता के पैसे की लूट-खसोट के बारे में आवाज उठाई जाती है, प्रशासन तंत्र जनता की आवाज को कुचलने का पूर्ण प्रयत्न करता है। भ्रष्टाचार और दूराचार के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वालों को, जब वे थके-मांदे सो रहे हों तो मध्य रात्रि में उन पर बर्बर हमला करता है और अंदोलन को छिन्न-भिन्न कर देता है। अहिंसात्मक एवं पूर्णतया शांतिमय प्रदर्शन करने वाले एक सम्मानित वृद्ध को जेल में ठूंस देता है। तो स्पष्ट है कि आज मानवीय समाज में विश्वसनीयता का अंधकार छाया हुआ है।
जिस प्रकार से भारत के अंदर समाज और सरकार के बीच में विश्वसनीयता का अंधकार छाया है उसी प्रकार भारत से बाहर भी कई देशों में विश्वसनीयता के अंधकार से त्रसित जनता द्वारा मजबूर होकर क्रंातिकारी अंदोलन करने पड़े। मिस्र में, लीबिया में और यमन इत्यादि में जो कुछ हुआ वह सरकार द्वारा विश्वसनीयता खो देने के कारण हुआ है। आज के दिन अमेरिका और यूरोप में भी जनता आंदोलित है क्योंकि वहां भी जनता का विश्वास उठता जा रहा है। न्यूयार्क, रोम और ग्रीस में छाई अशांति इसका प्रमाण है।
सरकारों का रवैया ऐसा है कि वह जनता से सिर्फ चुनाव के समय ही मात्र चुनाव जीतने के लिए ही संबंध रखना चाहते हैं। शेष बीच के समय में सरकारी तंत्र जनता को अड़चन या रोड़ा मानता है। यह बहुत खतरनाक स्थिति है। दुनिया भर में इसके खिलाफ जनता आवाज उठा रही है। अत: अब समय आ गया है कि सरकारों और प्रशासन तंत्र को अपना रवैया बदलना होगा तथा हर समय जनता की आवाज को सर्वोच्च प्राथमिकता देनी होगी, तभी वह जनता के हृदय में अपने प्रति विश्वसनीयता पूनस्र्थापित कर पाएंगे।
उजालों के त्यौहार दीपावली पर इस बार जनता के सेवकों को यही संकल्प लेना होगा कि हम विश्वसनीयता के इस घनघोर अंधकार से मुक्ति पाएंगे और जनता का मन जीतकर उनके दिलों में विश्वास की ज्योति जलाएंगे।
उदंती के सुधी पाठकों को दीप पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं।

-डॉ. रत्ना वर्मा

2 Comments:

दिलबाग विर्क said...

सचमुच विश्वास लुप्त होता जा कहा है

सहज साहित्य said...

आज की राजनीति का दु:खद पहलू यही है कि कुर्सी पर कुण्डली मारकर बैठा हर नेता चाहता है कि उसके कारनामों पर कोई नज़र न रखे । सेवाभाव का स्थान लूट-खसोट ने ले लिया है ।यदि यही हालात रहे तो वह दिन दूर नहीं जब जनता ऐसे बिना रीढ़ के सेवकों को सड़क पर दौड़ा-दौड़ाकर पीटेगी।इन पर चरित्रहीनता और बेशर्मी इतनी हावी हो गई है कि ये लोग पूँजीपतियों के हित की चिन्ता में तो दुबले हुए जा रहे हैं ; लेकिन जन सामान्य की व्यथा इन्हें आन्दोलित नहीं करती।आपका यह लेख विश्वसनीयता के अन्धकार की सही व्याख्या करता है ।

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष