April 10, 2011

नरसिंहगढ़ का फुन्सुक वांगडू 'हर्ष गुप्ता'


2009 में आमीर खान की एक फिल्म आई थी 3 इडिएट्स इस फिल्म में आमिर ने परंपरागत शिक्षा पद्धति और रटंत शिक्षा का विरोध करते हुए प्रायोगिक शिक्षा की वकालत की थी साथ ही यह संदेश भी दिया था कि अपने बच्चों को वही पढऩे की इजाजत दीजिए जो वे पढऩा चाहते हैं। उन पर जबरदस्ती डॉक्टर, इंजीनियर बनने के लिए जोर मत डालिए। 3 इडिएट्स फिल्म में फुन्सुक वांगडू बने आमिर कुछ ऐसा ही करके एक उदाहरण प्रस्तुत करते हैं। नरसिंहगढ़ के 'हर्ष गुप्ता' ने भी लीक से हट कर अपनी पसंद का काम (खेती) करते हुए एक मुकाम हासिल किया है और मिसाल कायम की है।
- लोकेन्द्र सिंह राजपूत
खूबसूरत और व्यवस्थित खेती का उदाहरण है नरसिंहगढ़ के हर्ष गुप्ता का फार्म। वह खेती के लिए अत्याधुनिक, लेकिन कम लागत की तकनीक का उपयोग करता है। जैविक खाद इस्तेमाल करता है। इसे तैयार करने की व्यवस्था उसने अपने फार्म पर ही कर रखी है। किस पौधे को किस मौसम में लगाना है। पौधों के बीच कितना अंतर होना चाहिए। किस पेड़ से कम समय में अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है। किस पौधे को कितना और किस पद्धति से पानी देना है। इस तरह की हर छोटी- बड़ी, लेकिन महत्वपूर्ण जानकारी उसके दिमाग में है। जब वह पौधों के पास खड़ा होकर सारी जानकारी देता है तो लगता है कि उसने जरूर एग्रीकल्चर में पढ़ाई की होगी, लेकिन नहीं। हर्ष गुप्ता इंदौर के एक प्राइवेट कॉलेज से फस्र्ट क्लास टैक्सटाइल इंजीनियर है। उसने इंजीनियरिंग जरूर की थी, लेकिन रुझान बिल्कुल भी न था।
सन 2004 में वह पढ़ाई खत्म करके घर वापस आया। उसने फावड़ा- तसले उठाए और पहुंच गया अपने खेतों पर। यह देख स्थानीय लोग उसका उपहास उड़ाने लगे। लो भैया अब इंजीनियर भी खेती करेंगे। नौकरी नहीं मिल रही इसलिए बैल हाकेंगे। लेकिन इन सब बातों से बेफिक्र हर्ष ने अपने खेतों को व्यवस्थित करना शुरू कर दिया। इसमें उसके पिता का भरपूर सहयोग मिला। पिता के सहयोग ने हर्ष के उत्साह को सातवें आसमान पर पहुंचा दिया। बेटे की लगन देख पिता का जोश भी जागा। खेतीबाड़ी से संबंधित जरूरी ज्ञान इंटरनेट, पुराने किसानों और कृषि वैज्ञानिकों के सहयोग से जुटाया। नतीजा थोड़ी- बहुत मुश्किलों के बाद सफलता उनके सामने आया।
उसके फार्म पर आंवला, आम, करौंदा, शहतूत, गुलाब सहित शीशम, सागौन, बांस और भी विभिन्न किस्म के पेड़- पौधे 21 बीघा जमीन पर लगे हैं। हर्ष की कड़ी मेहनत ने उन सबके सुर बदल दिए जो कभी उसका उपहास उड़ाते थे। उसके फार्म को जिले में जैव विविधता संवर्धन के लिए पुरस्कार भी मिल चुका है। इतना ही नहीं कृषि पर शोध और अध्ययन कर रहे विद्यार्थियों को फार्म से सीखने के लिए संबंधित संस्थान भेजते हैं।
हर्ष का कहना है कि मेहनत तो सभी किसान करते हैं, लेकिन कई छोटी- छोटी बातों का ध्यान न रखने से उनकी मेहनत बेकार चली जाती है। मेहनत व्यवस्थित और सही दिशा में हो तो सफलता सौ फीसदी तय है। मैं इंजीनियर की अपेक्षा किसान कहलाने में अधिक गर्व महसूस करता हूं। हर्ष कहते हैं कि खेती के जिस मॉडल को मैं समाज के सामने रखना चाहता हूं उस तक पहुंचने में कुछ वक्त लगेगा.......
हर्ष गुप्ता और उसके फार्म के बारे में बात करने का मेरा उद्देश्य सिर्फ इतना सा ही है कि कामयाबी के लिए जरूरी नहीं कि अच्छी पढ़ाई कर बड़ी कंपनी में मोटी तनख्वाह पर काम करना है। लगन हो तो कामयाबी तो अवश्य ही आपके कदम चूमेगी। यह कर दिखाया छोटे- से कस्बे नरसिंहगढ़ के फुन्सुक वांगडू यानी 'हर्ष गुप्ता' ने।
संपर्क: गली नंबर-1, किरार कालोनी, एस.ए.एफ. रोड,
कम्पू, लश्कर, ग्वालियर (म.प्र.) 474001
मो. 09893072930
Email- lokendra777@gmail.com
www.apnapanchoo.blogspot.com

Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

<< Home