March 16, 2010

घोसले में अंडेदेती है किंग कोबरा

दुनिया के सबसे बड़े सापों में किंग कोबरा के नाम का शुमार है, जिसे नागराज के नाम से जाना जाता है। साथ ही यह भी कि दुनिया में केवल यही सांप है जो घोसला बनाता है!
जी हां मादा कोबरा ही एक मात्र ऐसा सांप है जो अपने अंडों के लिए घोंसला बनाती है। यही नहीं, वह अपने घोंसले की कड़ी पहरेदारी भी करती है। वह अपने शरीर से जंगल में पड़ी सड़ी पत्तियों, तिनकों और सूखी घास के सहारे 30 सेमी ऊंचा शंक्वाकार घोसला बनाती है। जब यह घोसला बनाने में तन्मय होती हैं तो बड़ी ही शांत होती है -यहां तक कि पास खड़े व्यक्ति को भी अनदेखा कर सकती है! घोंसला बनाने के बाद वह अंडों के ऊपर या घोंसले के ऊपरी हिस्से में कुंडली मार कर बैठ जाती है और अण्डों से बच्चों को निकलने तक समर्पित भाव से सेती है। वह जून माह में अंडे देती है। आमतौर पर मादा कोबरा एक बार में 20 से 40 अंडे देती है जिन्हें तैयार होने में 60 से 85 दिन लगते हैं। इन दिनों वह निराहार ही रहती है। लेकिन आश्चर्य की बात ये है कि जब अंडों से बच्चे निकलने का समय आता है तो वह उन्हें छोड़कर चली जाती है।
किंग कोबरा तीन से छह मीटर तक लंबा हो सकता है। वैसे तो यह भारत में दुर्लभ है मगर पश्चिमी घाट के घने जंगलों और उत्तर भारत के पहाड़ी भागों में यदा कदा दिख जाता है -यह नीलगिरी की पहाडिय़ों, गोआ, हिमालय के 2000 मीटर की ऊंचाई तक लाहौर से असम तक के विशाल भू भाग के साथ ही बिहार, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल से अंडमान तक पाया जाता है।
प्रसिद्ध सर्प विज्ञानी रोम्युलस व्हिटकर इसे आम लोगों की धारणाओं के विपरीत एक शांत स्वभाव और डरपोक सांप मानते हैं -उनसे कई बार इनकी मुठभेड़ हुई है उनके अनुसार हर बार यह डर कर भाग गया है! यह मुख्य रूप से केवल धामिन और पनिहां जाति के सांपो को ही खाता है! पिछले दिनों मद्रास के मशहूर स्नेक पार्क में एक चार मीटर के किंग कोबरा ने चार महीनों में डेढ़- डेढ़ मीटर के पन्द्रह धामन सापों को उदरस्थ कर लिया था।
इसका विष वैसे तो साधारण नाग- कोबरा से कम विषैला होता हैं मगर एक पूरे दंश में यह 6 सीसी तक विष निकाल सकता है जो एक हाथी को भी मार सकता हा, इसलिए सर्परोधी एंटीवेनम इस पर कारगर नहीं है, मगर यह भी सही है कि इस सांप के काटने की घटनाएं बहुत ही कम सुनाई देती हैं!
मूंछें हों तो रामनाथ जैसी...
चाकसू जयपुर, गांव बड़ा पदमपुरा, के निवासी 70 वर्षीय रामनाथ बचपन और जवानी में बकरियां पालते थे अब अमरीका, जापान, इंग्लैण्ड की सैर करते हंै। बड़ी-बड़ी होटलें इनकी उपस्थिति से सजा करती हैं। हंै तो वे अंगूठा छाप साधारण जाट चौधरी, चरवाहा और किसान, पर सबस अलग और निराले। कहते हैं मूंछ है तो मर्द है लेकिन उस मर्द की मूंछों को क्या कहेंगे जिसकी पूरी 10 फीट की मूंछें हों। भई रामनाथ की मूंछें तो ऐसी ही हैं तभी तो वे जिधर से गुजरते हंै लोगों की निगाहें उधर ही ठहर जाती हैं।
32-33 वर्ष पहले की बात है वे इन मूंछों को लेकर उदयपुर आए और यहीं से उनकी नई पहचान बनी। रामनाथ को उसकी मूंछों ने खूब पैसा दिलाया। देश में जगह-जगह जाने के मौके आये, विदेश के कई न्यौते मिले। मेले, प्रदर्शनियां, सरकारी, गैरसरकारी कार्यक्रमों के जरिए इन मूंछो की बदौलत जीवन में उत्साह उमडऩे लगा। अब तक रामनाथ अमरीका, इंग्लैण्ड, जर्मन, जापान, सउदी अरब जैसे कई देशों की सैर कर आएं हैं, कईयों के तो उन्हें नाम भी याद नहीं। इस तरह उन्हें ढेरों प्रशस्ति और पैसा मिला। जयपुर के एक होटल से 8 हजार माहवार मिलता है। जहां वे हर रोज अपनी मूंछो पर ताव देते हैं, प्रदर्शन करते हैं। जयपुर सीटी पैलेस, रामबाग, महारानीजी होटल, आमेर, ओबेराय, होलीडे सहित कई होटलों में जाना-आना लगा रहता है।
जितना भी पैसा मिला है रामनाथ ने उससे गांव में कुआं खुदवाया है, जमीन खरीदे हैं और अपनी पत्नी के लिए ढेर सारे गहने बनवाए हैं उन्हें बड़ा गर्व है कि उन्होंने अपने परिवार के साथ चार धाम की यात्रा कर ली। तो भई मूंछें हों तो रामनाथ जैसी...

0 Comments:

लेखकों से अनुरोध...

उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक मुद्दों के साथ पर्यावरण को बचाने तथा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उठाए जाने वाले कदमों को प्राथमिकता से प्रकाशित किया जाता है। समाजिक जन जागरण के विभिन्न मुद्दों को शामिल करने के साथ ऐतिहासिक सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, कविता, गीत, गजल, व्यंग्य, निबंध, लघुकथाएं और संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। उपर्युक्त सभी विषयों पर मौलिक अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। आप अपनी रचनाएँ Email-udanti.com@gmail.comपर प्रेषित करें।

माटी समाज सेवी संस्था का अभिनव प्रयास
एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें...
माटी समाज सेवी संस्था, समाज के विभिन्न जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। पिछले वर्षों में संस्था ने समाज से जुड़े विभिन्न विषयों जैसे शिक्षा, स्वास्थ्य,पर्यावरण, प्रदूषण आदि क्षेत्रों में काम करते हुए जागरुकता लाने का प्रयास किया है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है।
बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से कारीगर आदिवासियों के बीच काम रही “साथी समाज सेवी संस्था” द्वारा संचालित स्कूल “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपए तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक लोग पिछले कई सालों से माटी संस्था के माध्यम से “साथी राऊंड टेबल गुरूकुल” के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। पिछले कई वर्षों से माटी समाज सेवी संस्था उक्त स्कूल के लगभग 15 से 20 बच्चों के लिए शिक्षा शुल्क एकत्रित कर रही है। अनुदान देने वालों में शामिल हैं- प्रियंका-गगन सयाल, लंदन मैनचेस्टर, डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, तरुण खिचरिया, दुर्ग (पत्नी श्रीमती कुमुदिनी खिचरिया की स्मृति में), श्री राजेश चंद्रवंशी (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, पी. एस. राठौर- अहमदाबाद। इस मुहिम में नए युवा सदस्य जुड़ें हैं- आयुश चंद्रवंशी रायपुर, जिन्होंने अपने पहले वेतन से एक बच्चे की शिक्षा की जिम्मेदारी उठायी है, जो स्वागतेय पहल है। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, पंडरी, रायपुर (छग) 492 004, मोबा.94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष