September 15, 2019

भोजलीः


अच्छी फसल की कामना

 और मित्रता का पर्व
 छत्तीसगढ़ के पर्व त्योहारों में भोजली एक और कृषि पर्व है। श्रावण शुक्ल पंचमी से लेकर पूर्णिमा तक यह पर्व मनाया जाता है। सावन में नागपंचमी के दिन भोजली बोया जाता है। नवरात्र के अवसर पर जिस तरह से ज्वार (जवारा) बोने का रिवाज है, उसी तरह श्रावण माह में नागपंचमी के दिन भोजली बोया जाता है ज्वार को पुरुषों द्वारा जबकि भोजली महिलाओं द्वारा बोया जाता है और सेवा भी महिलाओं द्वारा ही की जाती है।
सुहागिन महिलाएँ व कुँआरी कन्या बाँस की छोटी- बड़ी टोकनी में मिट्टी भर कर धान, जौं, उड़द मिलाकर बोती हैं। पूर्व में इसके लिए अखाड़े से मिट्टी लाकर बोया जाता था। इसके बाद इन टोकरियों को छायेदार स्थान  में रखा जाता है। इसमें प्रतिदिन हल्दी पानी का छिड़काव करते हैं तथा विसर्जन तक रोज पूजा करते हैं। महिलाएँ प्रतिदिन भोजली गीत गाकर भोजली की सेवा करती हैं। भोजली का विसर्जन पूर्णिमा या उसके दूसरे दिन किया जाता है। लड़कियाँ और महिलाएँ सिर पर भोजली लेकर सरोने (विसर्जन) के लिए लोकगीत गाते हुए निकलती हैं।
देवी गंगा
देवी गंगा लहर तुरंगा
हमरो भोजली दाई के
भीजे आठो अंगा।
माड़ी भर जोंधरी
पोरिस भर कुसियारे
जल्दी जल्दी बाढ़व भोजली
हो वौ हुसियारे।
गीत में कहा जा हा है कि भोजली अंकुरित होकर मिट्टी से बाहर आ गई है ,पर उसके बढ़ने की गति कम है। अतः इससे अनुरोध करते हुए कहा जा रहा है  कि भुट्टा (जोंधरा) घुटने से ऊँचा हो गया और गन्ना (कुसियार) तो बहुत तेजी से बढ़ रहा है, सिर से ऊँचा हो गया है। तो हे भोजली जल्दी जल्दी बढ़ो और गन्ने के बराबर हो जाओ। इस तरह भोजली गीतों की लम्बी शृंखला है।
सावन की पूर्णिमा तक इनमें 4 से 6 इंच तक के पौधे निकल आते हैं। रक्षाबंधन की पूजा में इसको भी पूजा जाता है और धान के कुछ हरे पौधे भाई को दिए जाते हैं या उसके कान में लगाए जाते हैं। भोजली नई फ़सल की प्रतीक होती है और विसर्जित करते समय अच्छी फ़सल की कामना की जाती है। बहन और बेटियाँ भोजली की टोकनी अपने सिर पर रखकर विसर्जन के लिए एक के पीछे एक चलती हुई बाजे-गाजे के साथ भाव पूर्ण स्वर में भोजली गीत गाती हुई तालाब की ओर प्रस्थान करती हैं।
भोजली ठंडा करते समय इसे पूरे गाँव में घुमाया जाता है जब गाँव के घरों के सामने से गुजरते हैं, तो गाँव की अन्य महिलाएँ भी भोजली की पूजा करती हैं। तालाब पहुँचकर भोजली की टोकरियाँ घाट में रखकर फिर भोजली की पूजा की जाती है। भोजली की सेवा करते- करते उससे इतना लगाव हो जाता है कि सेवा करने वाली महिलाएँ आँखो में आँसू भरकर उसकी बिदाई करती हैं।
कौशल्या माँ के मइके म
भोजली सेराबो हो,
भोजली सेराबो,
सिया राम के सँगे सँग तोला परघाबो,
अहो देवी गंगा । 
भोजली के पर्व को धान- बोनी के पर्व के रूप में भी देखा जाता है । खेत में धान बोने से पहले यहाँ का किसान छोटी छोटी टोकनी में विभिन्न किस्म के धान को अलग अलग टोकनी में बोता है , उसकी देखभाल करता है । इससे उन्हें यह अनुमान लगाने में आसानी हो जाती है कि किस धान की फसल कैसी होगी ।
भोजली को अलग-अलग राज्यों में  अलग-अलग नामों से जाना जाता है। मध्यप्रदेश, ब्रज और उसके निकटवर्ती प्रान्तों में में इसे भोजलियाकहते हैं। कहीं पर कजरी कहते हैं ,तो कहीं 'फुलरिया`, 'धुधिया`, 'धैंगा` और 'जवारा` (मालवा)।  इसे गढ़वाल में भी मनाते हैं, पर वह सावन में ही खत्मम हो जाता है। वहाँ पर इसे भाइयों के लिए बहने बोती हैं।

छत्तीसगढ़ में भोजली का एक और महत्त्व   है यहाँ यह इसे मितान  (मित्रता) के प्रतीक के रुप में भी मनाया जाता है। महिलाएँ भोजली विसर्जन के बाद थोड़ी सी भोजली अलग रख लेती हैं और वे एक दूसरे को भोजली देकर या उसके कान के पीछे डालकर मितानिन बदती (दोस्त बनाती) हैं। इस तरह उनकी दोस्ती का रिश्ता और मज़बूत हो जाता है जिसे वे जीवन भर निभाती हैं। भोजली बदने के बाद का यह रिश्ता इतना मजबूत होता है कि छत्तीसगढ़ में इसे खून के रिश्तों से भी बढ़कर माना जाता हैइतना कि तीन पीढ़ियों के बाद भी दोस्ती का यह रिश्ता प्रगाढ़ बना रहता है। जिस प्रकार जन्म, विवाह और मृत्यु जैसे पारिवारिक कार्यक्रम में अपने रिश्तेदारों और परिचितों को आमंत्रित किया जाता है उसी तरह भोजली बदने के बाद मित्र और उसके परिवार को भी आमंत्रित किया जाता है। (उदंती फीचर्स)

0 Comments:

एक बच्चे की जिम्मेदारी आप भी लें

अभिनव प्रयास- माटी समाज सेवी संस्था, जागरुकता अभियान के क्षेत्र में काम करती रही है। इसी कड़ी में गत कई वर्षों से यह संस्था बस्तर के जरुरतमंद बच्चों की शिक्षा के लिए धन एकत्रित करने का अभिनव प्रयास कर रही है। बस्तर कोण्डागाँव जिले के कुम्हारपारा ग्राम में बरसों से आदिवासियों के बीच काम रही 'साथी समाज सेवी संस्था' द्वारा संचालित स्कूल 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' में ऐसे आदिवासी बच्चों को शिक्षा दी जाती है जिनके माता-पिता उन्हें पढ़ाने में असमर्थ होते हैं। इस स्कूल में पढऩे वाले बच्चों को आधुनिक तकनीकी शिक्षा के साथ-साथ परंपरागत कारीगरी की नि:शुल्क शिक्षा भी दी जाती है। प्रति वर्ष एक बच्चे की शिक्षा में लगभग चार हजार रुपये तक खर्च आता है। शिक्षा सबको मिले इस विचार से सहमत अनेक जागरुक सदस्य पिछले कई सालों से माटी समाज सेवी संस्था के माध्यम से 'साथी राऊंड टेबल गुरूकुल' के बच्चों की शिक्षा की जिम्मेदारी लेते आ रहे हैं। प्रसन्नता की बात है कि नये साल से एक और सदस्य हमारे परिवार में शामिल हो गए हैं- रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' नई दिल्ली, नोएडा से। पिछले कई वर्षों से अनुदान देने वाले अन्य सदस्यों के नाम हैं- प्रियंका-गगन सयाल, मेनचेस्टर (यू.के.), डॉ. प्रतिमा-अशोक चंद्राकर रायपुर, सुमन-शिवकुमार परगनिहा, रायपुर, अरुणा-नरेन्द्र तिवारी रायपुर, डॉ. रत्ना वर्मा रायपुर, राजेश चंद्रवंशी, रायपुर (पिता श्री अनुज चंद्रवंशी की स्मृति में), क्षितिज चंद्रवंशी, बैंगलोर (पिता श्री राकेश चंद्रवंशी की स्मृति में)। इस प्रयास में यदि आप भी शामिल होना चाहते हैं तो आपका तहे दिल से स्वागत है। आपके इस अल्प सहयोग से एक बच्चा शिक्षित होकर राष्ट्र की मुख्य धारा में शामिल तो होगा ही साथ ही देश के विकास में भागीदार भी बनेगा। तो आइए देश को शिक्षित बनाने में एक कदम हम भी बढ़ाएँ। सम्पर्क- माटी समाज सेवी संस्था, रायपुर (छ. ग.) 492 004, मोबा. 94255 24044, Email- drvermar@gmail.com

-0-

लेखकों सेः उदंती.com एक सामाजिक- सांस्कृतिक वेब पत्रिका है। पत्रिका में सम- सामयिक लेखों के साथ पर्यावरण, पर्यटन, लोक संस्कृति, ऐतिहासिक- सांस्कृतिक धरोहर से जुड़े लेखों और साहित्य की विभिन्न विधाओं जैसे कहानी, व्यंग्य, लघुकथाएँ, कविता, गीत, ग़ज़ल, यात्रा, संस्मरण आदि का भी समावेश किया गया है। आपकी मौलिक, अप्रकाशित रचनाओं का स्वागत है। रचनाएँ कृपया Email-udanti.com@gmail.com पर प्रेषित करें।

उदंती.com तकनीकि सहयोग - संजीव तिवारी

टैम्‍पलैट - आशीष